हिंदी विवेक : we work for better world...

आपकी फैशन आपके व्यक्तित्व से संबंधित होती है। वह लोगों को आपके बारे में, आपके विचारों के बारे में और आपके व्यवहारों के बारे में जानकारी देती है। फैशन किसी इंसान के व्यक्तित्व को परिभाषित करती है और ये देानों एक दूसरे के पूरक होते हैं।

अगर आपसे कभी कोई यह पूछे कि फैशन क्या है, तो आप क्या जबाव देंगे? ज्यादातर लोगों के लिए फैशन का मतलब नए स्टाइल के कपड़े पहनना और लेटेस्ट ट्रेंड के एसेसरीज का उपयोग  करना है। कुछ हद तक यह सही भी है, क्योंकि फैशन का मतलब है- प्रसिद्ध शैली या पॉपुलर स्टाइल। यह न केवल हमारे कपड़े, फुटवेयर, एसेसरीज, मेकअप, हेयर स्टाइल, लाइफस्टाइल के नए ट्रेंड को दर्शाता है, बल्कि हमारे हाव-भाव, बोलचाल, भाषा, उठने-बैठने का ढंग आदि का प्रतिनिधित्व भी करता है। दूसरे शब्दों में कहें, तो आपके द्वारा अपनाए गए फैशन में आपके पूरे व्यक्तित्व की झलक मिलती है। फैशन एक विशेष प्रकार का चलन है, जो कि कुछ हद तक स्थायी होता है और लोग जिसमें खुद को दर्शाना पसंद करते हैं। इस तरह से, फैशन व्यक्ति के व्यवहार की एक सुनिश्चत शैली हो सकती है, जो डिजाइनर्स, टेक्नोलॉजिस्ट, इंजीनियर्स और डिजाइन मैनेजर्स के अत्याधुनिक निर्माण शैली को अभिव्यक्त करता है।

फैशन मनोविज्ञान की मान्यताओं के अनुसार, फैशन और व्यक्तित्व में काफी गहरा संबंध है। अंग्रेजी में एक मशहूर कहावत है- ’shoes define our personality’ यानी हमारे जूते हमारे व्यक्तित्व को दर्शा देते हैं. हालांकि केवल जूते ही नहीं, हमारे एसेसरीज, हमारे कपड़े और हमारी ज्वेलरीज आदि जो कुछ भी हम करते हैं, वे सब सामने वाले को हमारे व्यक्तित्व की झलक देते हैं। हमारा व्यवहार भी काफी हद तक इससे प्रभावित होता है।

मशहूर पर्सनल फैशन कंसल्टेंट और ’इट्स सो यू’ नामक किताब की लेखिका शिहान वॉरेन की मानें, तो व्यक्तित्व की मुख्यत: चार प्रमुख शैलियां (styles) होती हैं- मुखर (expressive), रूमानी ( romantic), पारंपरिक (classic) और आरामदेह (relaxed)। इनमें से हरेक व्यक्तित्व शैली को उसके फैशन पसंद के आधार पर पहचाना जा सकता है।

मुखर व्यक्तित्व शैली:

जो लोग फैशन की मुखर शैली पसंद करते हैं, उनका ड्रेसिंग स्टाइल अक्सर बेहद बोल्ड होता है। वे डार्क कलर के फंकी पैटर्न वाले कपड़े या चंकी एसेसरीज पसंद करते हैं। वे फैशन को एक कला के तौर पर देखते हैं। वे हर दिन या हर अवसर पर खुद को विशिष्ट दिखाने या खुद को हमेशा भीड़ से अलग रखने की कोशिश करते हैं। मुखर व्यक्तित्व शैली की एक सबसे बड़ी खासियत यह है कि ऐसे लोग चाहे वे उम्र के किसी भी पड़ाव पर हों, उन्हें नए बदलते ट्रेंड को फॅालो करने में कोई झिझक नहीं होती। इनका फैशन काफी हद तक इनके मूड पर भी निर्भर करता है जैसे कई बार आप उनको महीनों तक एक ही लुक में देखेंगे, तो कई बार वे आपको रोज-रोज नए लुक में नजर आएंगे।

रोमांटिक व्यक्तित्व शैली:

इस शैली को पसंद करने वाली लड़कियों को मिडी स्कर्ट, फ्लोरल पैटर्न, बेबी पिंक कलर, सिल्क ब्लाउज, एंटिक या पर्ल ज्वेलरी कैरी करना भाता है। इन्हें अपने व्यक्तित्व के स्त्रैण गुणों को दर्शाना अच्छा लगता है। साथ ही, ये अपनी खूबसूरती की तारीफें सुनना पसंद करती हैं। हालांकि, इनके व्यक्तित्व को केवल कपड़ों या एसेसरीज के आधार पर ही नहीं आंका जा सकता। इनके व्यक्तित्व अभिव्यक्ति के विभिन्न आयाम होते हैं। कभी ये विंटेज हॉलीवुड स्टाइल में दिखते हैं, तो कभी विक्टोरियन युग की ड्रेस में नजर आते हैं। कहने का मतलब यह कि आप इन्हें समय-समय पर अलग-अलग समय काल के रोमांटिक शैली में देख सकते हैं।

पारंपरिक व्यक्तित्व शैली:

पारंपरिक व्यक्तित्व शैली को पसंद करनेवाले लोग प्रचलित चलन को फॉलो करने के बजाय एक सुनिश्चित शैली को ही अपनाना पसंद करते हैं। ऐसे लोगों को इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि  फैशन ट्रेंड क्या है, इनका फैशन स्टाइल पूर्व निश्चित होता है। फंकी-फ्लोरल प्रिंट्स, चंकी ज्वेलरीज या ट्विस्टी पैटर्न जैसे शब्द इनकी फैशन डिक्शनरी में शामिल नहीं होते। इनके बार्डरोब में आपको ट्वीड्स, ब्लेजर्स, क्रिस्प व्हाइट ब्लॉउज, पेंसिल स्कर्ट्स, डार्क डेनिम, पर्ल आइटम्स, फ्लैट बैले तथा मेंस वेयर से मिलते-जुलते आउटफिट देखने को मिलते हैं। ऐसे लोग ऑल टाइम रेडी पर्सन होते हैं। जब जहां कहीं भी जाना हो, दो मिनट में फटाफट तैयार।

आरामदेह व्यक्तित्व शैली:

जैसा कि नाम से ही स्पष्ट है, ऐसे लोग फैशन से कहीं अधिक अपने आराम को तरजीह देते हैं। फैशन के लिहाज से भले ही मार्केट में कोई भी ट्रेंड हिट हो, अगर इन्हें वह सूट नहीं करता या उनमें वे खुद को कंफर्टेबल नहीं पाते, तो वे उसे कैरी नहीं करते हैं। हालांकि, हमेशा फैशन ट्रेंड को फॉलो न करने की वजह से ऐसा भी नहीं है कि ये कहीं भी कैसे भी चले जाए। इन्हें ये अच्छी तरह से पता होता है कि किस तरह का ड्रेस या एसेसरीज इन पर सूट करेगा और कैसे वे ट्रेंड फॉलो न करते हुए भी कूल और ट्रेंडी दिख सकते हैं। इनके बार्डरोब में कॉटन शर्ट, न्यूट्रल कलर्स, ड्रॉप-वेस्ट ड्रेसेज, लूज ट्राउजर्स, मैक्सी स्कर्ट्स, चिक स्नीकर्स आदि की प्राथमिकता होती है।

यहां तक कि पुरुषों का फैशन सेंस भी इन व्यक्तित्व शैलियों से प्रभावित होता है। पुरुषों के लिबास बनाने वाली प्रसिद्ध कंपनी जॉन प्लेयर ने भी पिछले कुछ सालों में इस बात को ध्यान में रखते हुए अपने डिजाइन पैटर्न में कई तरह के प्रयोग किए हैं। फैशन साइकोलॉजिस्ट की मानें, तो वे पुरुष, जो ब्राइट तथा वाइब्रेंट कलर्स के कपड़े पहनना पसंद करते हैं, वे फ्रेंडली, अंडर स्टैंडिंग और डाइनैमिक नेचर के होते हैं। उनमें किसी को भी जल्दी प्रभावित करने की क्षमता होती है। अमूर्त अथवा अनिश्चित पैटर्न पसंद करने वाले पुरुष बातूनी और हाजिरजबाव होते हैं। उनमें परिस्थिति के अनुसार निर्णय लेने की अद्भुत क्षमता होती है। उनके बारे में ऐसा माना जाता है कि वे रचनात्मक प्रवृति के होते हैं।  क्रू नेक अथवा कोन गला पसंद करने वाले पुरुष तार्किक प्रवृति के होते हैं, लेकिन ये किसी विषय विशेष के संदर्भ में जल्दी निर्णय नहीं ले पाते। इसके विपरीत वी-नेक पसंद करने वाले पुरुष बेहद कूल नेचर के होते हैं। परेशानियों से घबराते नहीं, बल्कि सहजता से उनका समाधान खोजने का प्रयास करते हैं। जो पुरुष पारंपरिक शैली के कपड़े जैसे कि कुर्ता-पाजामा, धोती कुर्ता, फुल शर्ट्स आदि पहनना पसंद करते हैं, उन्हें अपनी संस्कृति और परंपराओं से बेहद लगाव होता है। वे बुद्धिमान, प्रभावशाली और सुव्यवस्थित प्रवृति के होते हैं।

फुटवेयर्स

इंसान के जूते-चप्पलों से भी उसके बारे में काफी कुछ पता चलता है। कंसास यूनिवर्सिटी के शोधकर्ताओं द्वारा इस दशक की शुरुआत में किए गए एक अध्ययन से यह पता चला कि हमारे फुटवेयर्स भी सामने वाले इंसान को हमें समझने के लिए कुछ अमौखिक संकेत और प्रतीकात्मक संदेश देते हैं। मतलब यह कहावत गलत नहीं है कि- ‘shoes define our personality’

इस शोध अध्ययन में शामिल लोगों को कुछ वैसे लोगों की तस्वीरें दिखाई गईं, जिन्होंने तरह-तरह के फुटवेयर्स पहन रखे थे। उन लोगों से तस्वीर में दिखाई देने वाले लोगों की उम्र, लिंग, आय, राजनीतिक दृष्टिकोण, सामाजिक-आर्थिक स्थिति और उनके व्यक्तित्व शैली से संबंधित अन्य महत्वपूर्ण पहलुओं से जुड़े सवाल पूछे गए। आपको यह जानकर आश्चर्य होगा कि उनमें से 90% लोगों ने तस्वीरों के बारे में सही-सही भविष्यवाणी की और वह भी केवल फुटवेयर्स को देख कर!

फैशन साइकोलॉजिस्ट की मानें, तो जो पुरुष हमेशा नए स्टाइल के और पॉलिश्ड जूतें पहनना पसंद करते हैं, उन्हें अस्वीकृति का भय होता है। वे हमेशा वेल मेंटेड और फिट रहते हैं, क्योंकि उनके मन में यह डर होता है कि कहीं उनके जीवन में शामिल लोग उन्हें छोड़ कर चले न जाए। फंकी शू लवर्स पुरुष बहिर्मुखी और बातूनी होते हैं, जबकि प्वाइंटेड शूज पहनने वालों को उदार दृष्टिकोण वाला माना जाता है। ज्यादातर नेता या फिर राजनीति से संबंध रखने वाले लोग ऐसे ही जूतें पहनना पसंद करते हैं। जो पुरुष ऊंचे बूट पहनना पसंद करते हैं, वे थोड़े हठी स्वभाव के होते हैं। आसानी से किसी की बात से सहमत नहीं होते। वे अपने नजरिये को ही श्रेष्ठ समझते हैं और दूसरों को खास महत्व नहीं देते।

जहां तक महिलाओं की बात है, तो हाइ हील्स पहनने वाली महिलाओं में आत्मसम्मान का स्तर तुलनात्मक रूप से अधिक होता है, जो कि उनके चेहरे से भी झलकता है। ऐसी महिलाएं हमेशा चर्चा में बने रहना पसंद करती हैं। इन्हें अपनी बढ़ाई सुनना अच्छा लगता है। इसके विपरीत जो महिलाएं फ्लैट फुटवेयर्स पहनना पसंद करती हैं, वे व्यावहारिक प्रवृति की होती हैं। उन्हें अपने बारे में अच्छी तरह से पता होता है कि वे क्या हैं। वे शांत, सरल और विनम्र स्वभाव की होती हैं। जिन महिलाएं स्नीकर्स, स्पोर्ट्स या ट्रेनिंग शूज पहनना पसंद करती हैं, वे जूझारू और रोमांचक प्रवृति की होती हैं। उन्हें घूमना-फिरना, नए लोगों से मिलना और नई चीजों के बारे में जानने-समझने में रुचि होती है।

लोफर्स या ऑक्सफोर्ड फुटवेयर्स पहनना पसंद करने वाली महिलाएं आजाद ख्याल की, रचनात्मक और बहुआयामी व्यक्तित्व की स्वामिनी होती हैं, लेकिन उनका स्वभाव अंतर्मुखी होता है। जो महिलाएं अन्य फुटवेयर्स की अपेक्षा बूट पहनना ज्यादा पसंद करती हैं, वे काफी सामाजिक, आजाद ख्याल और थोड़ी गुस्सैल स्वभाव की होती हैं। जिन महिलाओं को फ्लिप-फ्लॉप पहनना भाता है, वे मित्रवत और हंसमुख स्वभाव की होती हैं। वे दूसरों की बातों के नजरिये का सम्मान करना जानती हैं। उन्हें देख कर अक्सर लोगों को यह गलतफहमी होती हैं कि वे बहिर्मुखी स्वभाव की हैं, जबकि ऐसा नहीं होता।

कपड़ों और जूतों के अलावा एसेसरीज भी फैशन का एक अहम हिस्सा होते हैं। तेर्सीश मैगजीन की किरस्ले क्लिमेंट्स कहती हैं कि ”सही एसेसरीज आपके व्यक्तित्व को बिल्कुल अलग तरह का दिखा सकती हैं।”

बैग्स

सामान्य से बड़े आकार का बैग रखने वाली लड़कियां हमेशा खुद को परफेक्ट मानती हैं। ऐसी लड़कियां व्यावहारिक होने के साथ-साथ अ।लोचनात्मक चिंतक भी होती हैं। यदि आप उन लड़कियों में से हैं, जो सिर्फ अपने जरूरी सामानों के साथ पूरी दुनिया घूमने का सपना देखती हैं, तो निश्चित तौर से आपको पीछे पीठ पर टांगने वाले पिट्ठूू बैग्स पसंद आते होंगे। जिन लड़कियों को कोर्शिश लरसी पसंद होता है, वे अपने विचारों को लेकर बेहद स्पष्ट होती हैं। किसी के सामने अपनी बात कहने में उन्हें हिचक नहीं होती। जो लड़कियां Sling इरसी का उपयोग करती हैं, उन्हें वास्तव में बैग्स कैरी करना पसंद ही नहीं होता। वे केवल जरूरी सामानों को रखने के लिए बैग्स का उपयोग करती हैं।

जेवरात

जेवरातों का उपयोग अक्सर लोग दूसरों को अपनी हैसियत दिखाने के लिए करते हैं, खास तौर से महिलाएं। जिन महिलाओं को बड़े लटकने वाले इयररिंग्स, स्टेटमेंट नेकलेस या फिर मंहगे कॉकटेल रिंग्स, जिनमें रंगीन जड़ाऊ नग लगे हों आदि पहनना पसंद होता है, वे पाटी वूमेन होती हैं। मतलब उन्हें हमेशा लोगों से घिरे रहना, अपनी लाइफ को बिंदास तरीके से एंजॉय करना और हमेशा हंसते-हंसाते रहना भाता है। ऐसी महिलाएं हमेशा खुद को खबरों में बनाए रखने का गुण भली-भांति जानती हैं। जो महिलाएं बस काम चलाने भर ज्वेलरी (जैसे कि चेन, पेंडेंड, इयररिंग और ब्रेसलेट) पहनना पसंद करती हैं, उन्हें अपने जीवन की विभिन्न परिस्थितियों के साथ संतुलन बना कर चलना बखूबी आता है। उनका व्यक्तित्व रहस्यमयी किंतु प्रभावशाली होता है। उन्हें अपने हर काम में व्यवस्था पसंद होती है। वे प्रचलित सामाजिक-आर्थिक मानदंडों से इतर अपनी पसंद से अपनी दुनिया गढ़ती हैं। जो महिलाएं मैंचिंग ज्वेलरी पहनना पसंद करती हैं, वे बहिर्मुखी स्वभाव की होती हैं और थोड़ा-बहुत दिखावा पसंद करती हैं। उन्हें गॉसिप करना भाता है और अक्सर बातचीत करते समय उनके अंगों की हलचल काफी अधिक होती है। जिन महिलाओं को स्टेटमेंट इयररिंग्स पसंद आते हैं, अभिव्यक्तिशील और निडर होती हैं। इन महिलाओं को दूसरों का ध्यान अपनी ओर पाना अच्छा लगता है।

घड़ियां

यदि आपको ब्राइट और वाइब्रेंट कलर्स की घड़ियां पहनने का शौक है, तो इसका मतलब है कि आप एक खुशमिजाज मूड की इंसान हैं। जो लोग लेदर बेल्ट वाली घड़ियां पहनना पसंद करते हैं, वह शांत व स्थिर स्वभाव के होते हैं। जो लड़कियां लेदर बेल्ट की घड़ियां पहनती हैं, उनमें अपनी बात को दृढ़ता से रखने का गुण होता है। वे जीवन की चुनौतियों को सकारात्मक तरीके से लेती हैं और जीवन के प्रति उनका दृष्टिकोण व्यावहारिक होता है। वे थोड़ी जिद्दी, आत्मनिर्भर और अपनी मान्यताओं पर यकीन करने वाली होती हैं। जो लड़कियां स्डट्स लगे डायल वाली घड़ियां पसंद करती हैं, वे थोड़ी नाटकीय स्वभाव की होती हैं।  इन दिनों यूनिसेक्स घड़ियां खूब चल रही हैं। जो महिलाएं मजबूत इच्छाशक्ति रखती हैं और आत्म-प्रेरित होती हैं, उन्हें ऐसी घड़ियां काफी भाती हैं। इन्हें घूमना – फिरना, नई जगहों को जाना अच्छा लगता है। अब ऐसे लोगों का साथ भला कौन छोड़ना चाहेगा!

जिन महिलाओं को गोल डायल वाली ट्रेडिशनल घड़ियां भाती हैं, वे पुराने रीति-रिवाजों और मान्यताओं को तरजीह देने वाली होती हैं। उन्हें इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि कौन उनके विषय में क्या कहता हैं। ऐसी महिलाएं बहुत कम ही लोगों पर भरोसा करती हैं। हर किसी से अपनी बात शेयर नहीं करती।  आपके व्यक्तित्व के बारे में बताने के साथ-साथ आपका पहनावा आपके व्यवहार को भी दर्शाता है। इसी वजह से आप जहां भी जाते हैं, वहां का एक निश्चित ड्रेस कोड होता है। अंग्रेजी में ‘Enclothed Cognition’ शब्द का उपयोग वैसे प्रभाव को दर्शाने के लिए किया जाता है, जो हमारे विभिन्न मनोवैज्ञानिक प्रक्रियाओं जैसे- संवेदना, आत्म-विश्लेषण, मनोवृति और अंतर्वैयक्तिक व्यवहारों का परिणाम होता है। हमारे कपड़े हमारे व्यवहार और हमारे मूड को प्रभावित करते हैं।

औपचारिक पहनावा

जब कोई व्यक्ति औपचारिक पहनावा पहनाता है, तो स्वत : रूप से वह अधिक जिम्मेवार और व्यवस्थित तरीके से काम करने लगता है। इसी वजह से फॉर्मल जैकेट्स पसंद करने वाले लोगों के बारे में ऐसा माना जाता है कि उनमें सफल होने की भावना प्रबल होती है। इसी वजह से कई कार्यालयों में कर्मचारियों को फॉर्मल ड्रेस कोड  लागू होता है, क्योंकि विशेषज्ञों की मानें, तो यह व्यक्ति को अपना काम सही तरह से करने के लिए प्रेरित करता है। फॉर्मल वेयर को ’पावर क्लॉथिंग’ भी कहा जाता है, क्योंकि इसे पहनने के बाद व्यक्ति अधिक आत्मविश्वासी महसूस करता है. यहां तक कि उसके हॉर्मोंस में भी अधिपत्यता का गुण दिखता है। इस वजह से वह व्यक्ति एक बेहतर समन्वयक (negotiators) तथा अमूर्त चिंतक (abstract thinkers) की भूमिका निभा पाता है।

अनौपचारिक पहनावा

फंकी और अनौपचारिक पहनापा पहनने वाले लोग आरामदेह जिंदगी पसंद करते हैं। उनका व्यवहार मित्रवत और अधिक सामाजिक होता है।

किसी भी तरह का पहनावा, जो कि हमारे ज्ञान और अनुभवों पर आधारित किसी विशेष कार्य व्यापार से संबंधित होता है, वह यह दर्शाता है कि उस कार्यव्यापार से जुड़े लोगों को किस तरह का व्यवहार करना चाहिए। उदाहरण के लिए- किसी खास तरह की वर्दी या कोट पहनने से लोग अपने कर्तव्यों के प्रति अधिक सजगता महसूस करते हैं और ऐसे ड्रेस उन्हें अपने कार्य पर ध्यान देने के लिए प्रेरित करते हैं। इसी तरह प्रयोगशाला में प्रयोग करते समय लैब कोट पहनना व्यक्ति को अपने कार्य के प्रति अधिक ध्यान देने एवं सजग रहने के लिए प्रेरित करता है, जिसकी वजह से वे कम गलतियां करते हैं। शायद यही कारण है कि डॉक्टर, साइंटिस्ट जैसे गंभीर प्रोफेशन के लिए इसे जरूरी बना दिया गया है। अपनी आत्म-छवि को सुधारने के लिए दूसरों के पहनावे की नकल करना भी एक बढ़िया आइडिया है। विभिन्न शोध यह दर्शाते हैं कि जिन लोगों को आप स्मार्ट और पावरफुल समझते हैं और जिनकी आप प्रशंसा करते हैं, यदि आप उनके स्टाइल मंत्र को अपनाते हैं या उसकी नकल करते हैं, तो आपके गुण भी उनसे प्रभावित होते हैं और तब आप अधिक आत्मविश्वास महसूस करते हैं। इस तरह से फैशन ऐतिहासिक रूप से किसी व्यक्ति के व्यक्तित्व से संबंधित होता है, क्योंकि यह लोगों को उसके बारे में, उसके विचारों के बारे में और उसके व्यवहारों के बारे में जानकारी देता है। किसी व्यक्ति का व्यक्तित्व उसके ’स्व’ का प्रतिनिधित्व करता है और उस पर इसको बेहतर साबित करने की जिम्मेवारी होती है। संक्षेप में कहें, तो फैशन किसी इंसान के व्यक्तित्व को परिभाषित करता है और ये देानों एक दूसरे के पूरक होते हैं।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu