हिंदी विवेक : we work for better world...

1935: आज के दिन बॉलीवुड के दिग्‍गज अभिनेता धर्मेन्‍द्र का जन्‍म हुआ थ्‍ा.

1980: संगीत बैंड बीटल के सदस्य जॉन लेनन को इसी दिन में न्यूयॉर्क स्थित उनके अपार्टमेंट के बाहर एक अज्ञात बंदूकधारी ने गोली मार दी थी.

1983: ब्रितानी उच्च सदन हाउस ऑफ़ लॉर्ड्स ने सदन की सीधी कार्यवाही टेलिविज़न पर दिखाने के पक्ष में मतदान किया था.

आज ही हुआ था अमेरिका – रूस में मिसाइल नष्ट करने का समझौता

दूसरे विश्वयुध्द के बाद विश्व महाशक्ति के रूप में उभरे अमेरिका और रूस के बीच का तनाव आज भी बरकरार है। वर्तमान समय में भी दुनिया दो खेमों में बंटी हुई हैं, एक खेंमा हैं अमेरिका का तो दुसरा खेमा हैं रूस का। अमेरिका रूस का मनभेद – मतभेद, विवाद, क्रिया – प्रतिक्रिया जग जाहिर हैं। बावजूद इसके मानवता की दृष्टि से दोनों ही पक्ष आज ही के दिन 8 दिसंबर 1987 को हथियारो की अंधी दौंड़ के बीच एक समझौंते पर सहमत हुए थे। अमेरिका के राष्ट्रपति रॉनल्ड रीगन और सोवियत संघ के तत्कालीन राष्ट्रपति मिखाइल गोर्वाचोफ ने मध्यम – रेंज न्यूक्लियर मिसाइलो को नष्ट करने हेंतु समझौंता किया था। इसके अंतर्गत 1991 तक लगभग 2700 मिसाइलो को नष्ट किया गया था। दोनों ही देशो ने अपनी – अपनी कुछ मिसाइलों को नष्ट कर उनकी संख्या निश्चित की थी, किंतु अमेरिका – रूस के बीच बढ़ी तनातनी के दौरान अब यह समझौता टूटने के आसार नजर आ रहें हैं। अभी हाल ही में अमेरिकी विदेश मंत्री माइक पोम्पियों ने नाटो की एक बैठक के दौरान घोषणा की थी कि रूसी धोखेबाजी के कारण आगामी 60 दिनो के अंदर अमेरिका इंटरमीडिएट – रेंज न्यूक्लियर फोर्सेज ट्रीटी (आईएनएफ) के संधि से स्वयं को अलग कर लेगा। अमेरिकी राष्ट्रपति डॉनल्ड ट्रंप का आरोप है कि रूस ने मध्यम दूरी की एक नई मिसाइल बनाकर इस संधि का उल्लघंन किया है इसलिए अमेरिका इस संधि को नही मानेंगा। इस पर कड़ी प्रतिक्रिया देते हुए रूस के राष्ट्रपति ब्लादिमिर पुतिन ने चेतावनी भरे लहजे में कहा कि यदि अमेरिका इस संधि से बाहर निकलता हैं तो हम भी प्रतिबंधित मिसाइले विकसित करना शुरू कर देंगे। आगे पुतिन ने कहा कि इस संधि से अलग होने की प्रथम पहल अमेरिका ने की हैं। जैसा अमेरिका करेंगा वैसा ही हम भी करेंगे। अब देखना यह है कि इस मामले का पटाक्षेप कैसे होता है?

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu