हिंदी विवेक : we work for better world...

घर एक ऐसी जगह है, जहां, हम रह सकते हैं। जहां रहने, बोलने, खाने या पहनने से पहले कुछ सोचना नहीं पड़ता। अपना घर तो आखिर अपना घर ही होता है। जब हम काम से थक कर घर आते हैं, तो जो सुकून हमें हमारा घर देता है, वह और कोई नहीं दे सकता। इसीलिए घर की सुंदरता भी बहुत जरूरी है। अगर घर घर ना लगे तो हमें सुकून भी नहीं मिल सकता। इसलिए खुशियों के लिए, हमें अच्छा महसूस करने के लिए घर की सजावट भी बहुत जरूरी है।

पहले तो मिट्टी के घर हुआ करते थे। गोमय लीप कर, गेरुआ रंग देकर घर को सजाया जाता था। लेकिन अब की पीढ़ी फ्लैट लिविंग पीढ़ी है। इसलिए सजावट और उसके तौर तरीके भी बदल गए हैं। वॉल पेंटिंग्स, विविध प्रकार के लाइट्स, और घर में छोटे, मोटे बदलाव कर के घर का लुक पूरी तरह से बदला जा सकता है।

१. इको फ्रेंडली सजावट: देखा जाए तो आजकल सीमेंट के जंगल के अलावा कुछ भी दिखाई नहीं देता। पर्यावरण को ध्यान में रखते हुए घर में इको फ्रेंडली सजावट होना बहुत जरूरी भी है और यह घर को एक सुंदर और रॉयल लुक दे सकता है। इसमें मुख्यत: मिट्टी के बर्तनों की सजावट की जा सकती है। मिट्टी के फ्लावर पॉट में ताजे फूलों को सजा कर रखने से घर भी ताजा लगने लगता है। साथ ही गर्मी के दिनों में ठंडक का अहसास भी होता है। मिट्टी के साथ-साथ जूट की सजावट भी बहुत सुंदर लगती है। जूट और बांबू से बने वॉल हँगिंग्स घर के हॉल में बहुत ही सुंदर लगते हैं। जूट के परदे भी आजकल काफी प्रसिद्ध हैं। बांबू से बने कुछ शो पीस घर के मुख्य कमरे में शोकेस पर या टेबल पर भी रखे जा सकते हैं। आजकल यह काफी प्रसिद्ध है।

२. किचन गार्डन: यह भी इको फ्रेंडली सजावट का ही एक हिस्सा है। आज की दुनिया में सब्जी और फलों के दाम भी आसमान को छू रहे हैं। अगर ऐसे में, घर की बाल्कनी में ही किचन गार्डन बनाया जाए, तो यह घर को एक सुंदर लुक तो देता ही है, साथ ही घर में एक ताजा अहसास बना रहता है। इसमें विविध तरह के फूल और मिर्ची, टमाटर, नींबू, मोसंबी, चीकू आदि के पेड़ भी लगाए जा सकते हैं। ताजी सब्जी और फल घर पर ही मिलें साथ ही वे घर को सुंदरता भी दें, तो इसके अलावा और क्या चाहिए?

३. वॉल पेंटिंग: यह आजकल बहुत ही प्रसिद्ध है। घर की एक दीवार खास तरह से इसी लिए बनवाई जाती है। घर के मुख्य कमरे में सभी दीवारों से एक दीवार का रंग भिन्न रखा जाता है। और इस पर खास तरह की चित्रकारी की जाती है। इसमें फूलों का बगीचा, सीनरी, पशु पक्षी, थ्री डी पेंटिंग आदि प्रकार के चित्र निकाले जाते हैं। कई घरों में बच्चों के अंदर की कला सब के सामने आए इसलिए भी ऐसी दीवार रखी जाती है। जिस पर घर के बच्चे अपनी सुंदर चित्रकला का प्रदर्शन करते हैं। इससे बच्चों की कला भी विकसित होती है, और घर की सुंदरता भी बनी रहती है।

४. पेपर मॅशी की सजावट: पेपर मॅशी एक नया तरीका है। इसमें फ्लावर पॉट, पेन सेट, बाउल्स, ग्लास, ऐसे विविध प्रकार की सजावट की जा सकती है। इसके अतिरिक्त पेपर मेशी के द्वारा तैयार वॉल हैगिंग्स, कोलाज और पेंटिंग्स से भी घर की सुंदरता बढ़ाई जा सकती है। यह बहुत ही आसान और सुंदर सजावट होती है। पेपर को गला कर उससे इस तरह की सजावट तैयार की जा सकती है।

५. फोटो कोलाज: फोटोज हमेशा हमारे चेहरे पर मुस्कान लाते हैं। जरा सोचिए अगर आपके पुराने फोटोज हमेशा आपकी आंखों के सामने रहे तो? घर पर अपनों से लड़ाई हो भी जाए तो यह फोटो देख कर सारे मनमुटाव दूर हो जाते हैं। अपनों के जन्मदिन या शादी की सालगिरह पर फोटो कोलाज गिफ्ट किया जाए तो बात की क्या है। यह फोटो कोलाज आपके कमरे में, या सीढ़ियों के पास वाली दीवार पर लगाए जाए तो यह घर की सुंदरता बहुत बढ़ाता है। साथ ही घर में अपनापन भी बना रहता है। यह यादों के ताजा करता है। और नई यादें बनाने के लिए हमें प्रेरित भी करता है।

६. प्लास्टिक बॉटल सजावट: प्लास्टिक की बोतलें देखा जाए तो पर्यावरण के लिए खतरनाक भी होती हैं, और एक बार उसका इस्तेमाल कर लिया जाए तो बाद में उसका कुछ किया भी नहीं जा सकता। लेकिन यदि उसका उपयोग क्रिएटिव सजावट के लिए किया जाए तो इससे बहुत कुछ तैयार किया जा सकता है। खासकर बच्चों के कमरे की सजावट के लिए भी इसका उपयोग किया जा सकता है। इन्हें बीच से काट कर पेन स्टैंड, वॉल हैंगिंग, बुकशेल्फ और काफी कुछ बनाया जा सकता है। साथ ही इससे लड़कियों के लिए कान के और गले के जेवर रखने का डिब्बा, स्टायलिश मोबाइल स्टैण्ड बना कर भी सजावट की जा सकती है।

७. सुंदर सी बुकशेल्फ: कहते हैं किताबें इंसान की सब से अच्छी दोस्त होती हैं। किताबें तो अपने आप में बहुत खूबसूरत होती हैं, लेकिन यदि इसे रखने वाली जगह याने कि बुकशेल्फ भी सुंदर हो तो क्या कहने। अपने बिस्तर के पास लकड़ी की पटिया लगा कर, या कांच का शेल्फ बना कर उसमें अपनी पसंदीदा पुस्तकें रखी जा सकती हैं। यदि घर में खिड़की के पास बाहर का नजारा देखते हुए बैठने की जगह हो तो, खिड़की के पास भी सुंदर सी बुकशेल्फ बनाई जा सकती है। यह दिखने में तो सुंदर होती ही है, साथ ही इससे आपकी किताबें भी सुरक्षित रह सकती हैं।

८. विविध लाइट्स: अब वह जमना गया जब घर के मुख्य कमरे में केवल दो सफेद ट्यूबलाइट्स लगाई जाए। घर की सजावट में लाइट्स का बहुत बड़ा योगदान है। यदि घर में टीवी के पीछे, छत पर लगी लकड़ी की सजावट के पीछे से हल्की पीली रोशनी आए, तो रात को खाना खाते समय यह बिल्कुल होटल का अहसास देगा। कभी-कभी घर में ही खूबसूरत पल बिताने के लिए इन लाइट्स का उपयोग किया जा सकता है। साथ ही छोटे से झूमर और विविध सुंदर छोटे लाइट्स का प्रयोग किया जाए तो इसकी सुंदरता और भी बढ़ जाती है।

घर यदि साफसुथरा और सुंदर हो तो वहां लक्ष्मी का निवास अपने आप ही होता है। साथ ही घर में हंसी-खुशी और प्यार का माहौल बना रहता है। यदि घर में खुशियां लानी हो, तो इन छोटे-छोटे तरीकों से सजावट करके भी माहौल बदला जा सकता है। यह किफायती भी है, और सुंदर भी। क्योंकि खूबसूरत घर खुशियों की निशानी है।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu