हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

अमिता ने भागते हुए लगभग शाम की 5.45 की लोकल ट्रेन पकड़ी ,सीट मिलने का कोई सवाल ही नहीं था | खचाखच भरी इस ट्रेन में हिलना –डुलना भी मुश्किल था ,इतनी भीड़ होने के बावजूद भी वह यह लोकल नहीं छोड़ सकती थी | कल उसके बेटे तनय का ड्राइंग कॉम्पटीशन था और उसने जिद की थी कि पेस्टल कलर का एक बॉक्स आते समय ले आए | अभी स्टेशन से वह भी खरीदना है ,सास के लिए दवाईयाँ भी लेनी है और घर जाकर खाना भी बनाना है | आज के लिए बनाने को तो सब्जी रखी थी पर कल टिफ़िन में क्या देगी ….वह यह सोच ही रही थी कि एक फेरीवाली महिला की आवाज गूंजी –“कटी हुई साफ –सुथरी भाजियाँ ले लो “ उसने देखा महिला के हाथ में कई थैलियाँ थी, जिनमें विभिन्न सब्जियाँ कटी हुई रखी थी ,उसने कटी हुई भिंडी ले ली, अब कल के टिफ़िन का प्रबंध हो गया था |

आज ज्यादातर कामकाजी महिलाओं की स्थिति इसी तरह की हो गई है ,घर और बाहर दोनों जगह का काम सँभालते-सँभालते उनके नाक में दम हो जाता है| महिलाओं की स्थिति अब पहले की तरह नहीं रह गई, वे घर की चारदीवारी से निकल कर खुला आसमान छूने को तत्पर हैं ,पर आसान नहीं हैं उनकी राहें | समय का व्यवस्थापन करना उनके लिए अति आवश्यक हो गया है | ऐसी परिस्थिति में उन्हें अधिक सजग होकर समझदारी के साथ कामों को निपटाना है | कुछ छोटी –छोटी बातें उनके कामों को थोड़ा कम मुश्किल बनायेंगी |

अपने रोजमर्रा के कामों का बँटवारा करे

कार्यालय और घर इन दोनों स्थानों की महिलाओं पर जिम्मेदारी है | अत: आवश्यक है कि रोज दोनों स्थानों पर कितने और कौन से काम किए जाए, इसका विभाजन कर लिया जाए, तभी व्यवस्थित तरीके से काम हो सकेगा |

घरेलू कार्यों में घर के सदस्यों की मदद ले

अपने घरेलू कामों को जल्दी निपटाने के लिए आवश्यक है कि पति –बच्चों व घर के अन्य सदस्यों की मदद ली जाए | इसमें झिझक की कोई बात नहीं , यह जितना आपका घर है उतना ही उनका भी घर है | आप देखेंगी की घर के सदस्यों के हाथ बंटाते ही काम चुटकियों में हो जाएगा |

अपने लिए भी समय निकाले

इस भाग-दौड़ की जिंदगी में अपने लिए भी समय निकालना जरुरी है |अपने स्वास्थ्य का ख्याल रखें  ,समय –समय पर अपना स्वास्थ्य परीक्षण करवाते रहें | ध्यान रखें आप स्वस्थ रहेंगी तो आपका  परिवार भी स्वस्थ रहेगा |

 

हीनभावना को दूर रखें

कई बार आप यदि कोई काम नहीं कर पाती हैं तो इसके लिए अपने आप को दोषी न समझें ,आप भी इन्सान हैं कोई सुपरमैन नहीं | आप की भी कार्यक्षमता है , आप भी थकती हैं, इस बात का ध्यान ऑफिस के साथियों और बॉस को दिलाना भी आवश्यक है | जो भी काम करें अपना आत्मविश्वास कभी न खोएं |

 

घर और बाहर दोनों क्षेत्रों का काम संभालना आसान तो नहीं पर आपकी मेहनत और सकारात्मक सोच आपकी यह राह भी आसान बनाएगी और आप अपनी पहचान भी बना पाएंगी |

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu