हिंदी विवेक : we work for better world...

जैसा कि कहा जा रहा था कि बदलाव के दौर से गुज़र रही श्रीलंका की टीम इस बार की चैंपियंस ट्रॉफी में खिताब की दावेदारों में शामिल नही है।इसके पीछे की वजह साउथ अफ्रीका के साथ हुए मैच में सामने भी आ गई।टीम में शामिल ज्यादातर नए खिलाड़ियों में बल्लेबाजी की अनुभवहीनता ही श्रीलंका के मैच हारने की सबसे बड़ी वजह साबित हुई और उसी ने उसकी लुटिया डुबो दी।साउथ अफ्रीका के 299 रन के जवाब में जिस तरह से श्रीलंकाई सलामी जोड़ी उपुल थरंगा और दिकवल्ले ने शुरुवात दी थी और 14 ओवरों में ही 100 रन जोड़ दिए थे,उससे येही लग रहा था कि श्रीलंका आसानी से लक्ष्य को पा लेगी।थरंगा के आउट होने के बाद जिस तरह से विकेटों का पतन शुरू हुआ,वह अंत तक जारी रहा।सिर्फ कुशल परेरा को छोड़ मध्यक्रम का कोई भी बल्लेबाज ज्यादा समय तक क्रीज पर टिक नही पाया और श्रीलंकाई पारी 41.3 ओवरों में 203 रन पर ही समाप्त हो गई।सिर्फ थरंगा 57 रन,कुशल परेरा 44 रन और दिकवल्ले 41 रन ही अफ्रीकी गेंदबाजों का सामना कर पाए।श्रीलंकाई पारी के दौरान नए खिलाड़ियों में अनुभवहीन बल्लेबाजी और दबाव में बिखरना साफ तौर पर नज़र आया ।इसी का फायदा उठाते हुए अफ्रीकी गेंदबाज इमरान ताहिर ने अपने स्पिन के जाल में फंसाकर सबसे ज्यादा 4 विकेट झटके,जबकि क्रिस मोरिस को 2 और रबाडा को एक विकेट मिला।

इसके पहले टॉस हारकर पहले बल्लेबाजी करने उतरी साउथ अफ्रीका की टीम ने धीमी शुरुवात के बावजूद 50 ओवरों में 299 रन का स्कोर खड़ा किया।अफ्रीका की तरफ से हाशिम अमला ने शानदार 103 रन बनाए,जबकि फॉफ डुप्लेसिस ने 75,डुमिनी ने 38 और डी कॉक ने 23 रन बनाए।श्रीलंकाई गेंदबाजों ने शुरुवात में काफी कसी हुई गेंदबाजी की,जिसके चलते अफ्रीकी टीम शुरुवाती 10 ओवरों में सिर्फ 32 रन ही बना पाई।लेकिन उसके बाद डुप्लेसिस और अमला ने श्रीलंकाई गेंदबाजों की जमकर खबर ली और टीम को एक विशाल स्कोर तक ले गए।श्रीलंका की तरफ से नुवान प्रदीप सबसे सफल गेंदबाज रहे।उन्होंने 10 ओवरों में 54 देकर 2 विकेट झटके।

 आज का मैच

फैब फोर गेंदबाजों की फॉर्म,करेगी पाकिस्तान की नींद हराम
 
चैंपियंस ट्रॉफी में सबसे सुपरहिट मुकाबले यानि भारत और पाकिस्तान के बीच होने वाले मैच में अब बस कुछ ही घंटों का वक़्त बचा हुआ है।लोग इस सुपरहिट मुकाबले का बेसब्री से इंतज़ार कर रहे हैं।मुकाबले से पहले ही चिर प्रतिद्वंदी पाकिस्तान की नींद हराम हो गई है।वह भी किसी और वजह से नही,बल्कि फॉर्म में चल रहे भारत के फैब फोर यानी तेज़ गेंदबाजों की चौकड़ी की वजह से।भुवनेश्वर कुमार,उमेश यादव,शमी अहमद और जसप्रीत बुमराह ने पिछले दो अभ्यास मैचों में जिस तरह की गेंदबाजी का प्रदर्शन किया है,उससे पाकिस्तानी टीम की नींद उड़ गई है और वह इस वक़्त येही सोच रही होगी कि आखिर इन भारतीय शेरों से कैसे पार पाए? पाकिस्तानी टीम का यह डर लाज़मी है,क्योंकि इन्ही चौकड़ी चार की जबरदस्त गेंदबाजी का ही कमाल था कि दोनों अभ्यास मैचों को भारत ने एकतरफा जीत दर्ज की और न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के बल्लेबाज इनके सामने पानी भरते नज़र आये।पाकिस्तान टीम की समस्या यहां और बढ़ जाती है कि वो एक या दो गेंदबाजों को तोड़ तो निकाल सकते हैं,लेकिन भारत के ये चारों गेंदबाज जबरदस्त फॉर्म में हैं तो उनका तोड़ कैसे निकाले।पहले अभ्यास मैच में शमी अहमद और भुवनेश्वर कुमार ने 3-3 विकेट झटककर न्यूजीलैंड की बल्लेबाजी की खटिया खड़ी कर दी तो दूसरे अभ्यास मैच में उमेश यादव,भुवनेश्वर कुमार,जसप्रीत बुमराह और शमी अहमद ने बांग्लादेश को चारों खाने चित करते हुए 81 रन पर आल आउट कर दिया।भारत ने अभी तक अपने ब्रह्मास्त्र यानि रविचंद्रन अश्विन का इस्तेमाल किसी मैच में नही किया है और यह तय है कि वो इस हाई वोल्टेज मुकाबले में जरूर खेलेंगे और पाकिस्तानियों की नींद उड़ाएंगे।
 
बल्लेबाजी में भारतीय टीम है बीस
 
भारत और पाकिस्तान के बीच कल दोपहर 3 बजे इंग्लैंड के बर्मिघम में सबसे रोमांचक मैच खेला जाएगा।चैम्पिंयस इस मैच को लेकर दोनों टीमें तैयार हैं।दोनों टीमों की बल्लेबाजी की बात करे तो भारतीय टीम का बल्लेबाजी पाकिस्तान की बल्लेबाजी से बीस और बेहद संतुलित नज़र आ रही है।इस रोमांचक मैच में भारतीय टीम की तरफ से जो प्लेइंग इलेवन उतारने की संभावना जताई जा रही है उसमें विराट कोहली (कप्तान), एमएस धौनी, दिनेश कार्तिक, शिखर धवन, आर.अश्विन, रवींद्र जडेजा, केदार जाधव, भुवनेश्वर कुमार, हार्दिक पांड्या, मोहम्मद शमी और उमेश यादव हो सकते हैं।अगर कल के मैच में येही टीम उतरती है तो रोहित शर्मा और अजिंक्य रहाणे को बाहर बैठना पड़ सकता है और ओपनिंग करने की जिम्मेदारी दिनेश कार्तिक और शिखर धवन पर होगी।शिखर धवन,दिनेश कार्तिक,विराट कोहली और आलराउंडर हार्दिक पांड्या और रविन्द्र जडेजा जबरदस्त फॉर्म में हैं और भारतीय बल्लेबाजी का दारोमदार इन पर होगा।धवन,कार्तिक और पंड्या ने अभ्यास मैचों में भी जबरदस्त प्रदर्शन किया है और फिर से पाकिस्तानी गेंदबाजों की बखिया उधेड़ने की जिम्मेदारी इन्ही पर होगी।कोहली की कप्तानी वाली टीम को थोड़ा सावधान भी रहना होगा क्योंकि चैंपियंस ट्रॉफी में पाकिस्तान के खिलाफ टीम का रिकॉर्ड खराब रहा है,जिसे सुधारने का दबाव होगा।चैंपियंस ट्रॉफी इतिहास में भारतीय टीम और पाकिस्तान अब तक 3 बार आमने सामने हुई हैं। इन मुकाबलों में भारत को सिर्फ एक ही बार जीत नसीब हुई है।इस साल के टूर्नामेंट में अगर पाकिस्तानी बल्लेबाजी की बात करे तो यह 5 खिलाड़ियों के इर्द-गिर्द घूमेगी।शोएब मलिक,बाबर आजम,मोहम्मद हफीज,इमरान फरहत से भारत को सावधान रहना होगा,क्योंकि इन्होंने हाल के दिनों में बहुत अच्छा प्रदर्शन किया है।इसके अलावा गेंदबाजी में मोहम्मद आमिर और शादाब खान से निपटने के लिए भारतीय टीम को योजना बनानी होगी।
 

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu