हिंदी विवेक : we work for better world...

 

कहते हैं क्रिकेट अनिश्चितताओं का खेल है और तब तक कोई अंदाजा लगाना बेमानी है,जब तक कि आखिरी गेंद न फेंक दी जाए ।यह कहावत चैंपियंस ट्रॉफी में कल न्यूजीलैंड और बांग्लादेश के बीच हुए मैच में फिर से साबित हो गई।जिस बांग्लादेश को टूर्नामेंट की सबसे कमजोर टीम कहा जा रहा था और वह लगभग बाहर भी हो चुकी थी।उसी टीम ने एक बड़ा उलटफेर करते हुए न सिर्फ सबको हैरान कर दिया,बल्कि न्यूजीलैंड को 5 विकेट से हरा उसे टूर्नामेंट से आउट कर दिया और खुद को इन यानि सेमीफाइनल की दौड़ में बरकरार रखा है।न्यूजीलैंड द्वारा दिये गए 265 रन का पीछा कर रही बांग्लादेशी टीम ने एक समय 33 रनों पर 4 विकेट गवां दिया था,लेकिन उसके बाद साकिब उल हसन और महमुदुल्लाह के बीच हुई रिकॉर्ड 224 रनों की साझेदारी ने न्यूजीलैंड को हैरान कर दिया और अंत मे बांग्लादेश ने जीत दर्ज कर ली। यह बांग्लादेश की तरफ से किसी भी विकेट के लिए एकदिवसीय क्रिकेट में सबसे बड़ी साझेदारी है। इन दोनों बल्लेबाजों के सामने कीवी गेंदबाजों कर दांव बेअसर साबित हुआ।साकिब ने 114 रन और महमुदुल्लाह ने नाबाद 102 रन बनाए।बांग्लादेश को अब किस्मत के साथ की जरूरत होगी। इस ग्रुप के आस्ट्रेलिया और इंग्लैंड के बीच होने वाले अंतिम मैच में आस्ट्रेलिया जीत जाता है तो वह सेमीफाइनल में होगा जबकि बांग्लादेश बाहर हो जाएगा। इसलिए बांग्लादेश दुआ करेगी कि इंग्लैंड, आस्ट्रेलिया को हरा दे। इंग्लैंड पहले ही सेमीफाइनल में पहुंच चुका है। बांग्लादेश ने 12 साल पहले इसी मैदान पर आस्ट्रेलिया को हराते हुए उलटफेर किया था।

इससे पहले बांग्लादेश के गेंदबाजों ने अपनी कसी हुई गेंदबाजी के दम पर किवी टीम के बल्लेबाजों को खुलकर नहीं खेलने दिया और उसे 50 ओवरों में आठ विकेट खोकर 265 के स्कोर पर सीमित कर दिया। किवी टीम के अनुभवी बल्लेबाज रॉस टेलर (63) और कप्तान केन विलियमसन (57) ही विकेट पर बांग्लादेश के गेंदबाजों का सामना कर सके। इन दोनों बल्लेबाजों ने तीसरे विकेट के लिए 83 रन जोड़े, जो न्यूजीलैंड की तरफ से इस पारी में सबसे बड़ी साझेदारी साबित हुई। बांग्लादेश की तरफ से सबसे सफल गेंदबाज मोसाद्देक हुसैन रहे। उन्होंने सिर्फ तीन ओवर फेंके और 13 रन देकर तीन विकेट लेते हुए किवी टीम की कमर तोड़ दी। उनके अलावा तस्कीन अहमद ने दो विकेट लिए। मस्ताफिजुर रहमान और शाकिब को एक-एक सफलता मिली।

आज का मुकाबला : इंग्लैंड वर्सेज ऑस्ट्रेलिया

इंग्लैंड पर जीत दिलाएगी ऑस्ट्रेलिया को सेमीफइनल का टिकट

चैंपियंस ट्रॉफी में आज इंग्लैंड और ऑस्ट्रेलिया एक दूसरे के सामने होंगे। यह मुकाबला ऑस्ट्रेलिया के दृष्टिकोण से बेहद महत्वपूर्ण होगा और उसे हर हाल में इस मैच को जीतना होगा।इंग्लैंड अगर इस मैच में ऑस्ट्रेलिया से हार भी जाता है तो उसे कोई फर्क नहीं पड़ेगा,क्योंकि उसने पहले ही सेमीफइनल में अपनी सीट पक्की कर ली है। इस टूर्नामेंट में ऑस्ट्रेलिया ने अभी तक दो मैच खेले हैं और दोनों ही बारिश के भेंट चढ़ गए। इसे ऑस्ट्रेलिया की ख़राब किस्मत ही कहा जा सकता है कि बारिश के चलते मैच रद्द होने से उसे विपक्षी टीमों के साथ अंक बांटने पड़े,जबकि बांग्लादेश के खिलाफ वह जीत के बेहद करीब पहुंच गया था। इस वक़्त ग्रुप ऐ की अंकतालिका की बात करें तो इंग्लैंड के बाद ऑस्ट्रेलिया दूसरे नंबर पर है और उसे सेमीफइनल में पहुंचने के लिए इंग्लैंड पर जीत दर्ज करनी होगी। शुरुवाती दोनों मैचों के बारिश में धुलने से ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाजों को अपना जौहर दिखाने का मौका अभी तक नहीं मिल सका है। ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाजी की बात करें तो इस वक़्त डेविड वार्नर,स्टीव स्मिथ,ग्लेन मैक्सवेल जबरदस्त फॉर्म में हैं। डेविड वार्नर में दोनों मैचों में अच्छी बल्लेबाजी की है। ऑस्ट्रेलिया के लिए सबसे बड़ी चिंता का विषय इस वक़्त सलामी बल्लेबाज आरोन फिंच की फॉर्म है। फिंच दोनों मैचों में अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाए हैं। वही इंग्लैंड की बल्लेबाजी अभी तक पूरे टूर्नामेंट में बेहद ही संतुलित रही है और उसके बल्लेबाजों ने जबरदस्त प्रदर्शन किया है। चाहे वह जो रुट हों या वेन स्टोक्स या फिर कप्तान एवॉइन मॉर्गन या फिर जोस बटलर। इसी बेहतर प्रदर्शन का नतीजा है कि अभी तक इंग्लैंड चैंपियंस ट्रॉफी में पहुंचने वाली इकलौती टीम है।ऑस्ट्रेलिया की गेंदबाजी की बात करे तो वह अभी तक इस टूर्नामेंट में बेहद ही प्रभावशाली नज़र आई है। जोश हेज़लवुड,पैट कम्मिंग्स,मिचेल स्टार्क सभी गेंदबाजों ने जबरदस्त प्रदर्शन किया है। इंग्लैंड की गेंदबाजी की बात करे तो स्टीव फिन,जे बाल,मार्क वुड सभी ने अच्छी गेंदबाजी की है। इंग्लैंड पहले ही सेमीफइनल में है इसलिए वह इसे अभ्यास मैच के तौर पर ले सकता है लेकिन ऑस्ट्रेलिया के लिए यह मैच करो या मरो जैसी स्थिति वाला होगा और जीत उसे सेमीफइनल में पहुचायेगी और हार टूर्नामेंट से बाहर। ऑस्ट्रेलिया बस यही दुआ कर रहा होगा कि इंद्र देवता इस मैच में व्यवधान न डालें,वरना उसका बोरिया बिस्तर इस टूर्नामेंट से बध जायेगा।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu