हिंदी विवेक : we work for better world...

 

१५ जून को चैंपियंस ट्रॉफी के दूसरे सेमीफइनल मैच में जब टीम इंडिया अपनी विपक्षी टीम बांग्लादेश के खिलाफ मैदान में उतारेगी,तो यह मैच दो मायनों में बेहद ही महत्वपूर्ण होगा। पहला ये कि टीम इंडिया उस मैच को जीतकर फाइनल में प्रवेश करने के लिए दम लगाएगी। दूसरा,टीम इंडिया के सिक्सर किंग युवराज सिंह इस मैच में उतरते ही ३०० एकदिवसीय मैच खेंलने वाले खिलाडियों के क्लब में शामिल हो जायेंगे। सचिन तेंदुलकर,मुहम्मद अजहरुद्दीन,सौरव गांगुली और राहुल द्रविड़ के बाद 300 वनडे खेलने वाले पांचवे भारतीय खिलाड़ी होंगे,जो इस क्लब में शामिल होंगे। रविवार को साउथ अफ्रीका के खिलाफ उन्होंने अपने करियर का 299वां वनडे खेला और अपने इस ऐतिहासिक मुकाम पर पहुंचने के जोश में वह बांग्लादेश के खिलाफ जबरदस्त धमाका कर इस अवसर को और भी खास बनाना चाहेंगे।

बता दें कि युवी ने अब तक २९९ एकदिवसीय मैचों में १४ शतक और ५२ अर्धशतकों के साथ ८६१९ रन बनाए हैं। उनके नाम ५८ टी-20 मैचों में ११७७ रन हैं। हालांकि,वनडे और टी-20 की अपेक्षा उनका टेस्ट करियर साधारण ही रहा। वह सिर्फ ४० टेस्ट ही खेल सके और उसमें 33.९२ के औसत से उनके नाम सिर्फ १९०० रन हैं। युवी का शुरुआती करियर काफी शानदार रहा। भारत को 2011 में दूसरा विश्व कप दिलाने में भी वही हीरो थे,लेकिन इसके बाद वह कैंसर से जूझते रहे। बाद में यह खबर आई थी कि वह विश्वकप के दौरान ही काफी बीमार थे,लेकिन देश पहले और बाकी सब बाद में की मिसाल पेश करते हुए खेलते रहे और टीम इंडिया २०११ विश्वकप जीत गई। कुछ साल तक संघर्ष करने के बाद उन्होंने कैंसर को हराकर फिर से मैदान में वापसी की, लेकिन वह टिक नहीं सके। हालांकि, इस साल उन्होंने फिर से सीमित ओवरों के क्रिकेट में शानदार वापसी की है और इसीलिए अब सारा फोकस उन पर आ गया है।

बायें हाथ के इस बल्लेबाज ने हालिया वापसी के बाद 15, 150, 45, 53 और 07 रनों का स्कोर किया है। उनके आने से टीम को काफी मजबूती मिली है। पाकिस्तान के खिलाफ मैच में उनके अर्धशतक ने ही टीम की जीत में अहम भूमिका निभाई थी। श्रीलंका के खिलाफ वह जल्दी आउट हो गए और टीम इंडिया हार गई। जबकि साउथ अफ्रीका के खिलाफ दर्शकों की मांग पर छक्का लगाकर टीम इंडिया को जीत की मंजिल तक पहुंचाया। निश्चित ही बांग्लादेश के खिलाफ ऐतिहासिक उपलब्धि के अवसर पर बांग्लादेश के खिलाफ बड़ी पारी खेलकर उसे और भी ऐतिहासिक बनाना चाहेंगे। देश के जनता और टीम के कप्तान विराट कोहली भी उनसे ऐसी ही उम्मीद कर रहे होंगे।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu