हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

टेलीग्राफ के रचयिता अलेक्जेंडर

ट्रिंग ट्रिंग वाली घंटी, गोल घुमाने वाले नंबर..वायरलेस और मोबाइल दुनिया में कहीं खो गए हैं. इसी टेलीफोन से जुड़ा है आज का इतिहास.

1875 में अलेक्जैंडर ग्राहम बेल ने अकूस्टिक टेलीग्राफ विकसित किया और इसको पेटेंट करवाने का आवेदन भी तैयार किया. उन्होंने अमेरिका में होने वाला मुनाफा अपने निवेशकों के साथ साझा करने का वादा कर लिया था. अपने एक सहयोगी को उन्होंने इसे ब्रिटेन में भी पेटेंट करवाने के लिए कहा. साथ ही अपने वकील को उन्होंने यह भी कहा कि ब्रिटेन से पेटेंट का वादा मिलने के बाद ही अमेरिका में पेटेंट की कोशिश की जाए.

एलिशा ग्रे नाम की महिला भी अकूस्टिक टेलीग्राफ पर प्रयोग कर रही थीं. 14 फरवरी 1876 के दिन ग्रे ने अमेरिकी पेटेंट ऑफिस में ऐसे टेलीफोन डिजाइन के पेटेंट के लिए आवेदन किया जिसमें वॉटर ट्रांसमीटर का इस्तेमाल किया गया था. उसी दिन बेल के वकील ने भी पेटेंट का आवेदन किया. इस पर लंबी बहस है कि पेटेंट करवाने कौन पहले पहुंचा था. ग्रे ने बाद में बेल के पेटेंट आवेदन को चुनौती भी दी.

बहरहाल सारे विवाद के बीच ग्राहम बेल का पेटेंट, 174465 सात मार्च 1876 यानि आज के दिन अमेरिका में स्वीकृत हो गया. उनके पेटेंट में आवाज या दूसरी आवाजें ट्रांसमिट करने के तरीके और उपकरण शामिल थे. उन्होंने अगले ही दिन से इसके मॉडल पर काम शुरू किया. जो शुरुआती डिजाइन उन्होंने बनाया, वह ग्रे के पेटेंट जैसा ही था.

10 मार्च 1876 के दिन उनका टेलीफोन लिक्विड ट्रांसमीटर के जरिए काम करने लगा, ये भी ग्रे की डिजाइन जैसा ही था. आवाज के कंपन से पर्दा हिलता और इससे पानी में एक सुई हिलती, इस प्रक्रिया से सर्किट में इलेक्ट्रिक प्रतिरोध पैदा होता. इस फोन पर उन्होंने मशहूर वाक्य बोले थे, “मिस्टर वॉटसन यहां आइए, मैं आपसे मिलना चाहता हूं.” अगले कमरे में बैठे वॉटसन रिसीवर के जरिए इस वाक्य को साफ साफ सुन सके.

आज के इतिहास की अन्य प्रमुख घटनाएं

  • रोमन सम्राट कॉन्स्टेंटाइन प्रथम ने सन 321 में रविवार को राजकीय विश्राम का दिन घोषित किया जो ईसाई मान्यताओं के अनुरूप था।
  • ब्रिटेन के बोस्टन पोर्ट को 1774 में सभी वाणिज्यिक गतिविधियों के लिए बंद कर दिया।
  • भारत में 1835 में यूरोपीय साहित्य और विज्ञान के प्रचार-प्रसार को बढ़ावा देने का प्रस्ताव लाया गया।
  • चार्ल्‍स मिलर ने सिलाई मशीन के लिए 1854 में पेटेंट हासिल किया था।
  • एलेक्ज़ेंडर ग्राहम बेल को 1876 में अपने टेलीफोन (दूरभाष) आविष्कार का पेटेंट मिला।
  • सन 1906 से फिनलैंड ने महिलाओं को वोट डालने का अधिकार मिला।
  • प्रसिद्ध हिंदी लेखक सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन अज्ञेय का 1911 में उत्तर प्रदेश में जन्म हुआ।
  • फिनलैंड ने 1918 मेंजर्मनी के साथ मैत्री समझौते पर हस्ताक्षर किये।
  • मंगोलिया पर सोवियत रेड आर्मी ने 1925 में बाहरी कब्जा किया।
  • द्वितीय विश्व युद्ध के दौरान 1945 में अमेरिकी फौज ने जर्मनी की राइन नदी को पार किया।
  • सन 1959 में अमेरिकी पायलट मेल्विन सी गार्लोव जेट विमानों से एक लाख मील की दूरी तय करने वाले पहले पायलट बने।
  • इसरायल ने 70 साल की गोल्डा मेयर को 1969 में अपनी पहली महिला प्रधानमंत्री चुना था।
  • शेख़ मुजिब-उर-रहमान ने 1971 मेंबांग्लादेश की स्वतंत्रता का आह्वान किया।
  • सन 1985 में एड्स का पहला एंटीबॉडी परीक्षण एलिसा-टाइप टेस्ट शुरु किया गया।
  • पाकिस्तानऔर भारत आतंकवाद पर जांच में मदद के लिए 2007 में तैयार।
  • अंतरिक्ष यात्रियों ने मंगल ग्रह पर झील की 2008 में खोज की।
  • नासा ने ब्रम्हांड में पृथ्वी जैसे ग्रह और उनपर जीवन को तलाशने के लिए केप कनावेरल से केप्लर नाम की एक दूरबीन को 2009 में अंतरिक्ष में छोड़ा था।

7 मार्च को जन्मे व्यक्ति 

  • रूसी चित्रकार बोरिस कुस्तोदीव का 1878 में जन्म।
  • प्रसिद्ध हिन्दी लेखक सच्चिदानंद हीरानंद वात्स्यायन ‘अज्ञेय’ का 1911 में जन्म।
  • भारत के प्रसिद्ध पूर्व क्रिकेट खिलाड़ी नरी कॉन्ट्रैक्टर का 1934 में जन्म।
  • भारतीय राजनीतिज्ञ ग़ुलाम नबी आज़ाद का 1949 में जन्म।
  • वेस्टइंडीज के ऑलराइंडर सर विवियन रिचडर्स का 1952 में जन्म हुआ।
  • भारतीय अभिनेताअनुपम खेर का 1955 में जन्म।

7 मार्च को हुए निधन 

  • हिन्दी फ़िल्मों में प्रसिद्ध संगीतकार रवि का 2012 में निधन।
  • भारतीय गुरु परमहंस योगानन्द जी का 1952 में निधन।
  • प्रसिद्धस्वतंत्रता सेनानी और वरिष्ठ नेता गोविंद बल्लभ पंत का 1961 में निधन।
  • अमेरिकी फिल्म निर्देशक स्टैनली क्यूब्रिक का 1999 में निधन।

 

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: