हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

 

 केरल सरकार के विरोध के बावजूद राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ  मोहन भागवत ने केरल  में ध्वजारोहण कर स्वतंत्रता दिवस मनाया

 केरल के पलक्कड जिले में कर्णकी अम्मन माध्यमिक पाठशाला में आज स्वतंत्रता दिवस के उपलक्ष्य में कार्यक्रम आयोजित किया गया था. पलक्कडके जिला अधिकारी पी. मेरकुट्टी ने पाठशाला को एक नोटीस भेजा था, जिसमें यह कहा गया था कि, किसी भी राजनैतिक पार्टी के प्रमुख के हाथों ध्वजारोहण नहीं होना चाहिये. ऐसी चर्चा है कि, सरसंघचालक डॉ मोहन भागवत के हाथों होने वाले इस ध्वजारोहण को ध्यान में रखते हुए यह नोटीस निकाला गया है. लेकिन इन आदेशों को ठुकराकर मोहन भागवत ने आज ध्वजारोहण कर स्वतंत्रता दिवस मनाया. इस कारण अब पाठशाला पर कारवाई होने की आशंका जताई जा रही है.
 
पिछले कई महीनों से केरल में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवकों ही निर्मम हत्याओं के चलते, केरल की सत्ताधारी मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी और राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के बीच तनाव का वातावरण है. केरल में मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी की सरकार आने के बाद से ही १७ महीनों के भीतर संघ और भारतीय जनता पार्टी के १७ कार्यकर्त्याओंकी हत्या हुई है. इस बारे में कुछ ही दिन पहले संसद के मान्सून सत्र में भी चर्चा हुई थी. इसी पार्श्वभूमीपर ऐसा कहा जा रहा है की, केरल सरकार की तरफ से जान बूझ कर यह आदेश दिया गया है.

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: