भारत विश्व कप का सबसे बड़ा दावेदार

क्या दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज और सफल कप्तान कहे जाने वाले विराट कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम 2019 का विश्व कप जीत पाएगी और क्रिकेट की दुनिया में भारत की महाशक्ति का गौरव स्थापित कर पाएगी? लिहाजा, भारत इसका सबसे बड़ा दावेदार है ही।

वर्तमान समय में क्रिकेट की महाशक्ति के रूप में भारत का गौरव किया जाता है। इसमें कोई अतिशयोक्ति भी नहीं है क्योंकि भारतीय टीम ने अपने सतत अभ्यास एवं कड़ी मेहनत से यह मुकाम हासिल किया है और समय-समय पर स्वयं को साबित भी किया है। विराट कोहली के नेतृत्व में युवा भारतीय टीम सबसे मजबूत, संतुलित और प्रतिभाशाली है। टीम की खासियत यह है कि इसमें सभी खिलाड़ी अपना-अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे है। हर कोई कुछ अच्छा करना चाहता है।

इंग्लैंड और वेल्स में आयोजित 2019 क्रिकेट विश्व कप प्रतियोगिता में सभी टीमें जीतने के लिए एक दूसरे से भिड़ रही हैं, वहीं लगातार जीत से उत्साहित भारतीय टीम का आत्मविश्वास प्रबल है और भारत को ही क्रिकेट विशेषज्ञ विश्व कप का प्रमुख दावेदार मान रहे हैं। पांचवीं बार इंग्लैंड और वेल्स में क्रिकेट विश्व कप का आयोजन किया गया है।

भारत का शानदार प्रदर्शन

भारत ने अपना विश्व कप का पहला मैच दक्षिण अफ्रीका के साथ खेला। दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीतकर बल्लेबाजी का निर्णय किया। क्रिस मॉरिस ने 42 रन की पारी खेलकर 9 विकेट के नुकसान पर 50 ओवरों में 227 रन का लक्ष्य भारत को दिया। भारतीय गेंदबाज युजवेंद्र चहल ने 4 विकेट लेकर दक्षिण अफ्रीका टीम के रन स्कोर को प्रतिबंधित करने में अहम रोल निभाया। भारत की ओर से हिटमैन के नाम से मशहूर रोहित शर्मा ने शतकीय पारी खेलते हुए 122 रन बनाए और आसानी से यह मैच भारत ने जीत लिया। इस मैच में जसप्रीत बुमराह ने 50 वन डे मैच पूरे किए। इसके साथ ही रोहित शर्मा ने इस मैच में 12000 अंतरराष्ट्रीय रन बनाने का रिकॉर्ड भी बनाया और विराट कोहली ने इस मैच को जीत कर 50 अंतराष्ट्रीय मुकाबले बतौर कप्तान जीतने का भी रिकॉर्ड बनाया।

9 जून को ओवल में भारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेले गए दूसरे मैच में भारत ने प्रथम बल्लेबाजी करते हुए 5 विकेट पर 352 रन का विशाल स्कोर बनाया। जिसके जवाब में ऑस्ट्रेलिया 316 रन ही बना सकी और भारत यह मैच 36 रनों से जीत गया। इसके बाद 13 जून को भारत और न्यूजीलैंड के बीच होने वाले मैच को बारिश के कारण रद्द करना पड़ा। आखिर वह घड़ी आ ही गई जिसका दर्शकों को सबसे ज्यादा इंतजार था। मैनचेस्टर के ओल्ड ट्रैफर्ड मैदान में 16 जून को भारत और पाकिस्तान का मुकाबला हुआ। पाकिस्तान ने टॉस जीत कर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। यह उसकी सबसे बड़ी गलती साबित हुई। भारत ने 5 विकेट पर 50 ओवरों में 336 रन का बड़ा स्कोर बनाया। रोहित शर्मा के हिट को पाकिस्तानी गेंदबाज रोक नहीं पाए। रोहित शर्मा ने पाकिस्तान के खिलाफ 113 गेंदों में 140 रन बनाए। रोहित की शतकीय पारी की बदौलत भारत ने बड़ा स्कोर खड़ा किया। हालांकि रोहित शर्मा के पास चौथी बार दोहरा शतक लगाने का मौका था लेकिन वह चूक गए। इसके पूर्व रोहित शर्मा वन डे में तीन दोहरे शतक लगा चुके हैं और ऐसा करने वाले वह दुनिया के इकलौते क्रिकेटर हैं। भारत ने यह मैच 89 रनों से जीत कर पाकिस्तान को मैदान में धूल चटा दी। जिसके बाद पाकिस्तान के लोग ही पाकिस्तानी टीम को भला-बुरा कहने लगे और सोशल मीडिया पर पाकिस्तान की खूब आलोचना हुई। भारत से मिली करारी हार के बाद पाकिस्तान के कप्तान सरफराज ने भी भरतीय टीम की तारीफ की और कहा कि भारतीय टीम हमसे अच्छी है इसलिए वह जीत रही है।

अब भारत का  अगला मुकाबला अफगानिस्तान के साथ 22 जून को है। 27 जून को भारत का मुकाबला वेस्ट इंडीज और 30 जून को इंग्लैंड के साथ होना है। इसके बाद 2 जुलाई को भारत-बांग्लादेश और 6 जुलाई को भारत बनाम श्रीलंका का मुकाबला निर्धारित है।

कहा जा रहा है कि उत्कृष्ट बल्लेबाजी, गेंदबाजी और क्षेत्ररक्षण में भारतीय टीम गजब का प्रदर्शन कर रही है। युवा टीम होने के साथ ही भारतीय खिलाड़ी चुस्त दुरुस्त और फुर्तीले हैं। सभी खिलाड़ी पूरे फॉर्म में होने के कारण सभी मैच जीतने की संभावना बढ़ती जा रही हैं। बहरहाल विश्व कप का आखिरी परिणाम देखने के लिए हमें 14 जुलाई को खेले जाने वाले फाइनल मैच का इंतजार करना होगा।

कपिल देव के नेतृत्व में 1983 क्रिकेट विश्व कप, महेंद्र सिंह धोनी के नेतृत्व में 2007 में आईसीसी 20-20 विश्व कप और 2011 क्रिकेट विश्व कप भारत जीत चुका है। क्या दुनिया के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज और सफल कप्तान कहे जाने वाले विराट कोहली के नेतृत्व में भारतीय टीम 2019 का विश्व कप जीत पाएगी और क्रिकेट की दुनिया में भारत की महाशक्ति का गौरव स्थापित कर पाएगी?

 

 

आपकी प्रतिक्रिया...