हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

मुंबई विश्वविद्यालय के हिंदी विभाग के प्रोफेसर एवं अध्यक्ष डॉ. करुणाशंकर उपाध्याय जी को साक्षात इन्टरटेनमेंट की ओर से साहित्य भूषण पुरस्कार २०१९ से सम्मानित किया जायेगा. आगामी दि. १७ अगस्त २०१९ को एक समारोह के दौरान उन्हें यह सम्मान प्रदान किया जायेगा. बता दें कि डॉ. उपाध्याय की अब तक १६ मौलिक आलोचनात्मक पुस्तकें और १५ सम्पादित पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी है. विविध पत्र – पत्रिकाओं में ३५० से अधिक लेख प्रकाशित हो चुके है. उत्कृष्ट साहित्यिक एवं आलोचनात्मक लेखन के लिए उन्हें सम्मानित किया जा रहा है. इसके पूर्व अब तक दो दर्जन से अधिक राष्ट्रीय व अंतर्राष्ट्रीय पुरस्कारों से उन्हें नवाजा गया है.

डॉ. उपाध्याय भारतीय एवं पाश्चात्य कविता और काव्यशास्त्र के विद्वान् है. इनके मार्गदर्शन में २७ शोधार्थी पीएचडी तथा ५२ छात्र एम.फिल. की उपाधि भी प्राप्त कर चुके है. एक मुखर आलोचक के रूप में वे विश्वविख्यात है. इसके साथ ही हिंदी भाषा को आगे बढ़ाने में उनका उल्लेखनीय योगदान है. वह उच्च न्यायालयों एवं सर्वोच्च न्यायालयों की भाषा हिंदी बनवाने के लिए प्रयासरत है. इसके अलावा संयुक्त राष्ट्र संघ में हिंदी को अधिकारिक भाषा का दर्जा दिलाने के लिए भी प्रयत्न कर रहें है.

भारत सरकार, विश्व विद्यालय अनुदान आयोग, संघ लोक सेवा आयोग, महारत्न कम्पनियां तथा अनेक बैंकों की समितियों के वह सदस्य भी है.

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: