बौद्धिक गुलामी से मुक्ति हेतु शुरू हुआ राष्ट्रधर्म

Continue Readingबौद्धिक गुलामी से मुक्ति हेतु शुरू हुआ राष्ट्रधर्म

दत्तात्रेय होसबाले ने कहा कि देश की हर क्षेत्र में उन्नति और प्रगति होनी चाहिए लेकिन वैचारिक स्पष्टता और वैचारिक शुद्धता भी चाहिए। आर्य द्रविड़ मिथक को स्थापित करने का प्रयास इस देश में किया गया। भारत एक देश है ही नहीं ऐसी बातें कही गयीं। अंग्रेजों के जमाने से शुरू हुआ षड़यंत्र आजादी के 75 वर्षों तक जारी रहा। सरकार्यवाह ने बताया कि स्वतंत्रता के बाद भी भारत की संसद में बजट शाम पांच बजे पेश होता था। अटल जी जब प्रधानमंत्री बने तो उन्होंने यह परम्परा बदली। राजपथ को कर्तव्यपथ बनाने का काम हुआ। देश को  मानसिक गुलामी से बाहर लाना होगा। 

मुंबई संकल्प २०२२ : न भूलेंगे, न माफ करेंगे

Continue Readingमुंबई संकल्प २०२२ : न भूलेंगे, न माफ करेंगे

आतंकियों का प्रयास था कि भारत की आर्थिक राजधानी मुंबई को आतंकित कर देश की अर्थव्यवस्था को नुकसान पहुंचाया जाए तथा ताज होटल और लियोपोल्ड होटल जैसी जगहों को हमले का केंद्र बनाने का प्रमुख मकसद था कि दुनिया भर के देशों की नजर में भारत को एक असुरक्षित राष्ट्र साबित करवाया जाए. पर इसमें उनकी करारी हार हुई तथा उनके आकाओं के चेहरे से नकाब भी हट गया. उक्त बातें महाराष्ट्र के उप मुख्य मंत्री देवेन्द्र फडणवीस ने मुंबई के कोलाबा में स्थित ताज होटल के बॉलरूम में पांचजन्य द्वारा आयोजित कॉन्क्लेव में कहीं. उसी  कार्यक्रम के एक सत्र में केंद्रीय मंत्री जनरल वी. के. सिंह ने बताया कि 2008 में सतर्कता विभाग ने 12 सिमकार्ड की जानकारी दी थी. उनमें से 4 सिम 26/11 के हमले में प्रयोग किये गए थे. अगर उस जानकारी को हलके में न लिया गया होता को इतने बड़े हादसे को रोकने की सम्भावना बढ़ जाती.

दिव्यांग कल्याणकारी संस्था,६६ वां स्थापना दिवस समारोह

Continue Readingदिव्यांग कल्याणकारी संस्था,६६ वां स्थापना दिवस समारोह

बीते दिनों दिव्यांग कल्याणकारी शिक्षण संस्था व वैद्यकीय संशोधन केंद्र का ६६ वां स्थापना दिवस समारोह विशेष अतिथियों एवं गणमान्य जनों की उपस्थिति में हर्षोल्लास के साथ मनाया गया. दिव्यांग कल्याण महाराष्ट्र भाप्रसे आयुक्त ओमप्रकाश देशमुख और नेशनल मेडिकल कमिशन एवं नेशनल कमिशन (भारत सरकार) स्वास्थ्य विशेषज्ञ डॉ. संतोष कुमार कलेटी विशेष अतिथि के रूप में उपस्थित होकर संस्था के उल्लेखनीय कार्यों का खूब बखान एवं गौरवगान किया और हाल ही में एमबीबीएस में प्रवेश किये हुए छात्र को विशेष तौर पर सम्मानित किया गया. साथ ही संस्था के उपाध्यक्ष डॉ. राजेंद्र हिरेमठ जी का हाल ही में जनसेवा सहकारी बैंक के अध्यक्ष पद पर नियुक्ति होने से उनका भी सम्मान किया गया.

सरसंघचालक इंद्रनाथ बेरी जी को भावपूर्ण श्रद्धांजली

Continue Readingसरसंघचालक इंद्रनाथ बेरी जी को भावपूर्ण श्रद्धांजली

सुप्रसिद्ध उद्योगपति एवं राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के मार्वे भाग सरसंघचालक इंद्रनाथ बेरी जी का बीते दिनों अकस्मात स्वर्गवास हो गया। हिंदी विवेक मासिक पत्रिका से हितचिंतक के रूप में निरंतर जुड़े हुए थे। पुरे विधि विधान से उनका अंतिम संस्कार किया गया. उनकी अंतिम यात्रा में सैकड़ों की संख्या में लोग शामिल होकर उन्हें अंतिम विदाई दी. इसके बाद मालाड पश्चिम स्थित सुन्दर नगर के गीता भावना में चौथा एवं पगड़ी कार्यक्रम किया गया. जहाँ उनके आत्मीय जनों ने उन्हें अपनी ओर से भावभीनी श्रद्धांजलि अर्पित की. राष्ट्र, धर्म व समाज की सेवा के लिए संघकार्यों से जुड़े इन्द्रनाथ जी ने आजीवन अपने सभी दायित्वों का पूरी निष्ठा से निर्वहन किया.

वोकल फॉर लोकल को बढ़ावा देने का पर्व है-मंगला गुप्ता

Continue Readingवोकल फॉर लोकल को बढ़ावा देने का पर्व है-मंगला गुप्ता

दि योगक्षेम सोसायटी की अध्यक्षा मंगला गुप्ता जी ने बताया कि सोसायटी के द्वारा "सहयोग किट" वितरण करने पर गरीबो के चेहरे में काफी खुशियां देखने को मिली इनकी खुशी से हमे खुशी प्राप्त हुई, गरीबो की खुशियों का ध्यान रखते हुए योगक्षेम कोऑपरेटिव सोसायटी का उद्देश्य था कि सब की तरह गरीब परिवार भी अच्छा कपड़ा पहन सके और सभी के भांति वह भी दीपावली खुशियाँ के साथ अच्छे से मना सके।सुखी-संपन्न लोग अपने घरों को रोशन करने और खुशी मनाने का यह मौका कभी नहीं छोड़ते, लेकिन कभी आपने सोचा है कि गरीबों के घर कैसे मनाई जाती होगी दीपावली ,आप सभी जनमानस से योगक्षेम सोसायटी निवेदन करता है ऐसा काम करे कि अपने घर के साथ-साथ दूसरों के घर भी दिवाली पर खुशियां आए, इसके लिए छोटी ही सही पर कोशिश हम सब को करनी चाहिए।

अनूसूचित जाति के हितों पर डाका बर्दास्त नहीं -विहिप

Continue Readingअनूसूचित जाति के हितों पर डाका बर्दास्त नहीं -विहिप

मतांतरित अनुसूचित समाज को आरक्षण का लाभ दिलाने की मांग न केवल संविधान विरोधी और राष्ट्र विरोधी है अपितु अनुसूचित जाति के अधिकारों पर खुला डाका है। विश्व हिंदू परिषद के संयुक्त महामंत्री डॉ सुरेंद्र जैन ने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि मिशनरी व मौलवी बार-बार यही दोहराते हैं कि उनके मजहब में जाति के आधार पर कोई भेदभाव नहीं है और उनका मजहब स्वीकार करने के बाद कोई पिछड़ा नहीं रह जाता है। इसके बावजूद जब वे मतांतरितों के लिए बार-बार आरक्षण की मांग करते हैं तो न केवल उनका समानता का दावा खोखला सिद्ध होता है अपितु, उनके गलत इरादों का भी पर्दाफाश होता है। उनका उद्देश्य न्याय दिलाना नहीं अपितु मतांतरण की प्रक्रिया को तेज करना है। यह अनुचित मांग न केवल सामाजिक न्याय अपितु संविधान की मूल भावना के विपरीत किया गया एक षड्यंत्र है।

मुरलीधर कचरे ‘लोककल्याण भूषण’ पुरस्कार से सम्मानित

Continue Readingमुरलीधर कचरे ‘लोककल्याण भूषण’ पुरस्कार से सम्मानित

दिव्यांग कल्याणकारी संस्था के कार्यकारी अध्यक्ष एड. मुरलीधर कचरे को पद्मश्री गिरीश प्रभुणे के हाथों ‘लोककल्याण भूषण’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया. दिव्यांगों के लिए किये गए सेवाकार्यों को देखते हुए उन्हें लोककल्याण प्रतिष्ठान के २० वें पुरस्कार समारोह के दौरान सम्मान दिया गया.

वनवासी कल्याण आश्रम का पुरस्कार समारोह संपन्न

Continue Readingवनवासी कल्याण आश्रम का पुरस्कार समारोह संपन्न

वनवासी कल्याण आश्रम महाराष्ट्र के नेरुळ , नवी मुंबई मे श्रध्येय जगदेवराम उरांव स्मृती पुरस्कार प्रदान कार्यक्रम दिनांक 9 ऑक्टोबर 2022 को संपन्न हुआ। इस साल का पुरस्कार श्री केशव जी गुरनुले , गडचिरोली एवं श्री मनेजर राम जी , जशपूर छत्तीसगड एनको करिब 500 कार्यकर्ता के उपस्थिती मे प्रदान किया गया ।

पीताम्बरी के प्रभुदेसाई को ‘उद्योगरत्न’ पुरस्कार

Continue Readingपीताम्बरी के प्रभुदेसाई को ‘उद्योगरत्न’ पुरस्कार

पुणे. पीताम्बरी प्रोडक्ट्स प्रा. लि. के व्यवस्थापकीय संचालक रविन्द्र प्रभुदेसाई को ब्राह्मण जागृति सेवा संघ द्वारा ‘दाजीकाका गाडगील उद्योगरत्न’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया है. हाल ही में हुए एक समारोह के दौरान राज्यसभा के सांसद एवं भारतीय सांस्कृतिक परिषद् के अध्यक्ष डॉ. विनय सहस्त्रबुद्धे के हाथों उन्हें गौरवान्वित किया गया.

दिव्यांग शिक्षण संस्था में जिला जज की सदिच्छा भेंट

Continue Readingदिव्यांग शिक्षण संस्था में जिला जज की सदिच्छा भेंट

बीते दिनों दिव्यांग कल्याणकारी शिक्षण संस्था व वैद्यकीय संशोधन केंद्र में पुणे के प्रमुख जिला न्यायाधीश संजय देशमुख ने सदिच्छा भेंट कर संस्था के कार्यों की जानकारी प्राप्त की और छात्रों से संवाद स्थापित करते हुए अपने वक्तव्य में कहा कि “अपने भीतर की मूल शक्ति पञ्च महाभूतों को जागृत कर जीवन में यशस्वी हो सकते है”. उन्होंने आगे संस्था के उल्लेखनीय सेवाकार्यों की भूरी-भूरी प्रशंसा करते हुए कहा कि ‘सेवा मतलब अध्यात्म’. आपकी सेवा को मैं नमन करता हूं. आप बहुत ही महान कार्य कर रहे है.

निर्मला सीतारमण ने किया आदिवासी महिलाओं को सम्मानित

Continue Readingनिर्मला सीतारमण ने किया आदिवासी महिलाओं को सम्मानित

सेवा विवेक सामाजिक संगठन के पालघर जिले की आदिवासी महिलाओं द्वारा श्रीमती निर्मला सीतारमण जी (वित्त मंत्री - भारत सरकार) को बांस से बने हस्तशिल्प भेंट किए गए। श्रीमती निर्मला सीतारमण बांद्रा, मुंबई में हिंदी विवेक की स्वयं-75 पुस्तक विमोचन में उपस्थित थीं। उस अवसर पर उन्होंने सेवा विवेक के कार्यों की सराहना की और आदिवासी महिलाओं के उपहार को स्वीकार करते हुए उनके अच्छे होने की कामना की. उस अवसर पर संगठन के मुख्य कार्यकारी अधिकारी लुकेश बूँद, आदिवासी महिला कारीगर सुचिता सांबारे, गीता सांबारे, जान्हवी माली उपस्थित थे.

हिन्दी के विकास में चुनौती हमारा अपना दृष्टिकोण

Continue Readingहिन्दी के विकास में चुनौती हमारा अपना दृष्टिकोण

अनुपमा अनुश्री ने कहा कि - "आत्महीनता नहीं, हमें अपने देश, अपनी हिंदी भाषा, अपनी संस्कृति और वस्तुओं के प्रति आत्म गौरव होना चाहिए । शैक्षणिक संस्थानों, शालाओं में  छात्र-छात्राओं को अपने ही देश में, अपनी भाषा हिंदी बोलने पर जुर्माना दिया जाना, दंडित करना, अपमानित करना बहुत दासतापूर्ण , शर्मनाक है । न्याय की भाषा भी हिंदी नहीं हो पा रही है जो कि  बहुत चिंतनीय है। संस्कृत से सृजित विशद शब्दावली धारण किए हिंदी में वह क्षमता है जो तमाम नवाचारों को, नए प्रयोगों को शामिल- आत्मसात  कर के चल सकती है और तकनीकी -विज्ञान विषयों का भी अनुवाद हिंदी में बेहतर तरीके से हो सकता है। सबसे बड़ी चुनौती है  हिंदी के विकास में  हमारा दृष्टिकोण।

End of content

No more pages to load