हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

सद्गुरु मंगेशदा क्रिया योग फाउंडेशन द्वारा ‘क्रिया शिरोमणि’ पुरस्कार का वितरण बीते २१ वर्षों से किया जा रहा है. वर्ष २०१९ का ‘क्रिया शिरोमणि’ पुरस्कार का वितरण गत दि. २४ अक्टूबर को रविन्द्र नाट्य मंदिर, पू. ल. देशपांडे सभागृह में हर्षौल्लास के साथ संपन्न हुआ. बीते ३० वर्षो से पत्रकारिता क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने के लिए सद्गुरु मंगेशदा क्रिया योग फाउंडेशन द्वारा हिंदी विवेक के मुख्य कार्यकारी अधिकारी श्री अमोल पेडणेकर जी को ‘क्रिया शिरोमणी अवार्ड’ से सम्मानित किया गया। सद्गुरु योगीराज डॉक्टर मंगेशदा के करकमलों द्वारा पुरस्कार प्रदान कर सम्मानित किया गया। इसके पूर्व किरण बेदी जी, परमाणु वैज्ञानिक काकोडकर जी, विजय भटकर जी, जैन उद्योग समूह के भवरलाल जैन जी, संगितकार प्यारेलाल जी, होकी खिलाड़ी नटराज पिल्ले, नेत्र विशेषज्ञ डाक्टर लहाणे जी, संगीत सामग्री किशोरी आमोणकर जी जैसे मान्यवरों को पुरस्कार देकर सद्गुरु मंगेशदा क्रिया योग फाउंडेशन ने सम्मानित किया है।

सम्मान सत्कार से अभिभूत होकर श्री अमोल पेडणेकर ने अपने उद्बोधन में कहा कि इस संपूर्ण प्रवाह में अथवा परंपरा में मैं अपने आपको कहीं भी नहीं पाता हूं। साप्ताहिक विवेक और हिंदी विवेक के माध्यम से राष्ट्रीय एवं सामाजिक विचारों की जो दृष्टि मुझे मिली है उसके कारण यह संभव हो पाया है। इस कारण यह पुरस्कार विवेक के विचारों की और संस्कारों की देन है ऐसी मेरी विनम्र धारणा है। मैं विवेक परिवार को यह सम्मान समर्पित करता हूं। इसके अलावा सोलापुर के ग्रामीण क्षेत्रों में महिलाओं के विकास हेतु उल्लेखनीय कार्य करने वाली चन्द्रिका चौहान, प्रज्ञाचक्षु संगीत विशेषज्ञ योगिता तांबे, आर्युवेद विशेषज्ञ डॉ. कुमुद जोशी आदि मान्यवरों को विभिन्न क्षेत्रों में उत्कृष्ट योगदान देने के लिए वर्ष २०१९ ‘क्रिया शिरोमणि’ पुरस्कार से सम्मानित किया गया. इस कार्यक्रम में प्रमुख अतिथि के रूप में प्रसिद्ध ह्रदय रोग विशेषज्ञ डॉ. वी. श्रीखंडे उपस्थित थे. समारोह के दौरान सद्गुरु मंगेश दा और डॉ. वी. श्रीखंडे जी का प्रेरणादायी व्यक्तव्य उत्साहवर्धक था.

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: