हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

गृहमंत्री अमित शाह की तस्वीर के साथ रंगीन कवर पृष्ठ की साज सज्जा रोमांचकारी है. जिसे देख कर पाठक सहर्ष ही अन्दर के पृष्ठ देखने के लिए उत्सुक होंगे. सीएए पर मचे बवाल का पर्दाफाश करती ‘भूतकाल की भड़ास,भविष्य की चिंता’ में सच का आइना दिखाया गया है. ‘खतरनाक राह पर चल पड़ा है असम’ नामक आलेख में जनता की भेड़चाल का उत्तम नमूना पेश किया गया है. इसमें बताया गया है कि कैसे किसी कानून को बिना जाने ही उसका विरोध किया जा रहा है. ‘नकारात्मक राजनीति की पराकाष्ठा’ विपक्षी पार्टियों पर करारा प्रहार करती है. महाराष्ट्र की राजनीति में ‘आवश्यकता है महाराष्ट्र मोदी की’ नामक लेख सटीक बैठता है. ‘यह स्थिति स्वीकार्य नहीं’ तथा ‘एक हादसा और पूरी जिन्दगी का दर्द’ नामक आलेख में देश में हो रहीं जघन्य बलात्कार की घटनाओं का मनोवैज्ञानिक रूप से मार्मिक विश्लेषण किया गया है. इसके अलावा ‘संकल्प से सिद्धि तक’ और ‘ग्रामोदय से भारत उदय’ में भारत के पुनरुत्थान को दर्शाया गया है. ‘डर इसे कहते है’ नामक आलेख में लेखक ने देश में कुप्रचारित किये जा रहे डर के माहौल का पर्दाफाश किया है और असली डर का माहौल क्या होता है इसका वास्तविक दर्शन कराया है.

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें