जनसेवा का आधार केशवसृष्टि

पिछले दो माह से हम कोविड-19 नाम की आपदा की छाया में अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं। इस बीमारी ने विेश के सभी देशों, सभी शहरों एवं हमारे आसपास के पूरे जीवन को अपने में समेट लिया है। सतत कई प्रकार के वर्णन एवं कहानियां, जिनमें दु:ख है, मृत्यु है, आर्थिक संकट है, सुनते आ रहे हैं। खासकर मुंबई में, जो भारत में इस महामारी का केंद्र बना हुआ है, लाखों बाहर से आए हुए मजदूर, रास्तों पर जीवन बसर करने वाले लोग एवं अन्य कई व्यक्ति बिना किसी सहारे या सहायता के अपना पेट भरने एवं स्वास्थ्य रक्षा करने में असमर्थ हैं।मुंबई में इस महामारी से हमारे डॉक्टर, नर्स, मेडिकल स्टाफ, पुलिस एवं मुंबई महानगर पालिका के कर्मचारी दिन-रात मुकाबला कर रहे हैं। उनके साथ राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के स्वयंसेवक कंधे से कंधा मिलाकर कार्य कर रहे हैं।जिन मुख्य क्षेत्रों में वे काम कर रहे हैं वे हैं :-1. भोजन बनाना एवं उनके पैकेट तैयार कर वितरित करना2. राशन के पैकेट्स का वितरण3. पीपीई किट का वितरण4. प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली होम्योपैथिक दवा का वितरण5. रक्तदान शिविर का आयोजनलॉकडाउन के तुरंत बाद से माय ग्रीन सोसायटी ने ‘केशव सृष्टि’ के बैनर तले मुंबई महानगरपालिका के 24 वार्डों में 17 रसोई घरों के माध्यम से खाना बनाने, परोसने एवं वितरित करने का काम पालिका के प्रत्येक वार्ड में प्रारंभ कर दिया था।सुबह 6:00 बजे से रात के 8:00 बजे तक कार्यकर्ता समय पर उत्कृष्टता के साथ 50000 किलो भोजन प्रतिदिन बनाते हैं। सरकार द्वारा स्वास्थ्य के संबंध में जारी प्रत्येक नियम का एवं व्यक्तिगत दूरी का कड़ाई से पालन किया जाता है। इसमें तापमान की जांच, डिस्पोजेबल हैंड ग्लोब्स का उपयोग, सेनीटाइजर का उपयोग, प्रत्येक घंटे में हाथ धोना, खाना बनाने का स्थान, वितरण के काउंटर एवं काम में आने वाले बर्तनों का निर्जंतुकीकरण शामिल है। भोजन शाकाहारी होता है जो सकस एवं ताजे पदार्थों से बनाया जाता है। आज तक बीस लाख लोगों को भोजन कराया जा चुका है।महामारी का फैलाव रोकने, प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाने वाली होम्योपैथिक दवाइयां 50000 लोगों को अब तक वितरित की गई
है।

आपकी प्रतिक्रिया...