सेवा भारती पूर्वांचल और नेशनल मेडिको ऑर्गेनाइजेशन द्वारा एकात्मता यात्रा का आयोजन

प्राकृतिक सौंदर्य से समृद्ध पूर्वांचल क्षेत्र आज भी विकास की मुख्यधारा से कटा हुआ है. पूर्वांचल को जोड़ने और राष्ट्रीय एकात्मता को धरातल पर उतारने के लिए ‘सेवा भारती’ की ओर से सतत नित नए प्रयास किये जाते रहे है और विविध प्रकार के उपक्रम एवं सेवाकार्य चलाये जाते है. इसी कड़ी में सेवा भारती पूर्वांचल और नेशनल मेडिको ऑर्गेनाइजेशन द्वारा विगत २००५ से एक अनोखी यात्रा का आयोजन किया जाता रहा है. प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी हर्षोल्लास के साथ १८ वीं धन्वंतरी सेवा यात्रा का आयोजन किया गया. ‘स्वास्थ्य रक्षा, राष्ट्र रक्षा’ का मूल मंत्र लेकर पूर्वांचल के दुर्गम पहाड़ी दूरदराज के क्षेत्रों में रहनेवाले हमारे वनवासी, आदिवासी, ग्रामीण आदि बंधुओं को चिकित्सकीय सुविधाओं सहित दवाएं उपलब्ध कराया गया. बड़ी संख्या में लोगों का स्वास्थ्य परिक्षण किया गया और आवश्यकतानुसार उनका उपचार भी किया गया.  बता दे कि देश भर के कुल १४ राज्य और पूर्वांचल के ७ राज्यों से १५० से अधिक डॉक्टर एवं मेडिकल छात्र इस कार्यक्रम में शामिल थे. असम के सभी जिलों समेत सातों राज्यों में यह चिकित्सा यात्रा एक-एक कर अपना पड़ाव पार करेगी और लोगों को लाभान्वित करेगी. इस दौरान कुल १६० मेडिकल केम्प लगाये जाएंगे और साथ ही ‘रक्तधारा’ नाम से चलने वाले उपक्रम के माध्यम से १० से अधिक जिलों में रक्तदान शिविर भी लगाये जायेंगे. बीमार लोगों को दवाई, ब्लडप्रेशर, मधुमेह, आदि की जांच तथा विकलांग जनों को ‘सेवा भारती’ की ओर से व्हील चेयर दिया जायेगा. गत दि. ०७ फरवरी २०२१ को डॉ. कृष्णगोपाल जी के करकमलों द्वारा भारतमाता की प्रतिमा के समक्ष दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया गया. अलग-अलग राज्यों से आये हुए प्रतिनिधियों का पारंपरिक पद्धति से स्वागत सम्मान किया गया. क्षेत्र संगठन मंत्री सुरेन्द्र तालखेडकर जी ने अपने वक्तव्य में वर्ष २००५ से चली आ रही इस धन्वन्तरी यात्रा की उपलब्धियों पर प्रकाश डाला और इस यात्रा का उद्देश्य स्पष्ट किया. इसके अलावा यात्रा अध्यक्ष प्रभात कुमार बेसबरुआ, कार्यकारी अध्यक्ष डॉ. सतेन्द्र कुमार चौधरी, सेवा भारती अध्यक्ष रामेन शर्मा, राष्ट्रीय सचिव डॉ. विश्वंभर सिंह आदि मान्यवरों ने भी अपने विचार प्रकट किये. डॉ. धीरेन पाणिका ने कार्यक्रम का सूत्र संचालन किया और डॉ. रक्तिम तामुली ने सभी अतिथियों सहित उपस्थित लोगों का आभार माना. इस समय स्किल डेवलेपमेंट के एमडी आनंद प्रकाश तिवारी, लोअर आसाम के कमिश्नर शांतनु गोठमारे, जीएमसीएच मेडिकल कोलेज के प्रिंसिपल डॉ. अच्युत वैश्य, बरपेटा मेडिकल कोलेज के प्रिंसिपल डॉ. रोमन तालुकदार एवं रा. स्व. संघ के क्षेत्र प्रचारक उल्हास कुलकर्णी तथा गौरीशंकर चक्रवर्ती आदि मान्यवर उपस्थित थे.

 

आपकी प्रतिक्रिया...