बाजार के जानिब आली जनाब

Continue Reading बाजार के जानिब आली जनाब

आम आदमी एक तरह से सीला हुआ बम ही तो है। भ्रष्टाचार, कुशासन, मंहगाई के शोलों में सुलगता रहता है, मगर फटता नहीं। हालांकि उसके चारों ओर की गर्मी कई बार इतनी बढ जाती है कि वह अपनी उच्चतम सीमा पर सुलगने लगता है। देखने वालों लगता है कि अब तो ये जरूर फटेगा। पर नहीं, वह तो बेचार सीला हुआ बम है। फुस्स्स्स..... पटाखे के बाजार में खड़े हैं वे। उनका नाम यहां इसलिए नहीं बताया जा रहा है कि बाजार को उनके नाम से क्या मतलब। उसके लिए अर्थ से समर्थ हर व्यक्ति एक उपभोक्ता है बस! भले ही उसका नाम दिवालिया सिंह या फकीरचंद क्य

End of content

No more pages to load