श्रद्धा, भक्ति, विश्वास और संकल्प

Continue Readingश्रद्धा, भक्ति, विश्वास और संकल्प

अंत:करण की उत्कृष्टता को "श्रद्धा" के नाम से जाना जाता है । उसका व्यावहारिक स्वरुप है -"भक्ति" । यों साधारण बोलचाल में दोनों का उपयोग पर्यायवाची शब्दों के रूप में होता है । फिर भी कुछ अंतर तो है ही । "श्रद्धा" अंतरात्मा की आस्था है । श्रेष्ठता के प्रति…

End of content

No more pages to load