हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

उस्मानाबाद में कल रहे ९३वें अखिल भारतीय साहित्य सम्मेलन में मुंबई तरुण भारत के पत्रकार सोमेश कोलगे को पुलिस के द्वारा गिरफ्तार करने के प्रयत्न किया गया. पुलिस उपनिरीक्षक माने ने सम्मेलन में लगे मुंबई तरुण भारत के स्टाल पर आकर सोमेश कोलगे को वहां से दूर ले जाने का प्रयत्न किया. कोलगे के साथ विवेक विचार मंच के भरत आमदापुरे भी उपस्थित थे. जब स्टाल के पुस्तक विक्रेताओं ने इस बारे में पूछताछ की तो माने  ने बिना कोई कारण दिए केवल इतना ही कहा कि पूछताछ के लिए लेकर जा रहे हैं.

सोमेश कोलगे साहित्य सम्मलेन को कवर करने के लिए उस्मानाबाद आये थे. उन्होंने पुलिस उपनिरीक्षक माने  को अपने आने का कारण बताया साथ ही यह भी बताया की सम्मलेन शांतिपूर्वक सम्पन्न हो यह हमारे भी इच्छा है. वे प्रशासन तथा वहां की व्यवस्था को मदद करने के लिए भी तैयार दिखे परन्तु माने उन्हें गिरफ्तार करने की बात पर अड़े रहे. इसके बाद कुछ समय बाद पुलिस उपअधीक्षक मोतीचंद राठोड स्टाल पर आये. उनके साथ माने तथा एनी पुलिस कर्मचारी भी थे. राठोड ने पहले स्टाल की किताबों की जानकारी ली तथा अन्य कर्मचारियों से भी पूछताछ की.

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu

विगत 6 वर्षों से देश में हो रहे आमूलाग्र और सशक्त परिवर्तनों के साक्षी होने का भाग्य हमें प्राप्त हुआ है। भ्रष्ट प्रशासन, दुर्लक्षित जनता और असुरक्षित राष्ट्र के रूप में निर्मित देश की प्रतिमा को सिर्फ 6 सालों में एक सामर्थ्यशाली राष्ट्र के रूप में प्रस्तुत करने में भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी की अभूतपूर्ण भूमिका रही है।

स्वंय के लिए और अपने परिजनों के लिए ग्रंथ का पंजियन करें!
ग्रंथ का मूल्य 500/-
प्रकाशन पूर्व मूल्य 400/- (30 नवम्बर 2019 तक)

पंजियन के लिए कृपया फोटो पर क्लिक करें

%d bloggers like this: