भारतीय शेयर बाजार: निवेशकों के डूबे 12 लाख करोड़, बाजार पर लगा लोअर सर्किट

दुनिया भर में बढ़ते  कोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए लोगों के साथ-साथ अब बाजार की भी हालत लगातार गिरती जा रही है। हफ्ते के आखिरी दिन यानी शुक्रवार को भारतीय बाजार में ऐतिहासिक गिरावट देखने को मिली, शुक्रवार को सेंसेक्स और निफ्टी ने गिरावट के साथ कारोबार शुरू किया लेकिन बाजार संभलने की जगह लगातार गिरावट की तरफ बढ़ते जा रहे थे जिसके बाद बाजार को थोड़े समय के लिए बंद करना पड़ा।

10 फीसदी से ज्यादा अायी गिरावट के बाद निवेशकों में हड़कंप मच गया और अंत में बाजार पर लोअर सर्किट लगाना पड़ा जिससे बाजार के सभी कारोबार 45 मिनट के लिए बंद कर दिए गए। लेकिन इस गिरावट के दौरान निवेशकों के 12 लाख करोड़ रुपए डूब गए। हालांकि बाद में बाजार को 45 मिनट बाद फिर से खोला गया तो बाजार में थोड़ा सुधार देखने को मिला। भारतीय बाजार में आज का दिन ब्लैक फ्राइडे के नाम से दर्ज हो गया। पिछले 12 सालों में पहली बार बाजार को लोअर सर्किट लगाना पड़ा है।

शुक्रवार के कारोबार के दौरान सेंसेक्स में 2000 अंकों से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली थी जबकि निफ्टी ने भी 700 अंक लुढ़क कर कारोबार शुरू किया था इससे पहले भी पूरे सप्ताह बाजार गिरावट के साथ कारोबार करते नजर आए थे ऐसे में आज कि गिरावट चिंता का विषय था जिसके बाद निवेशकों का पैसा बचाने के लिए बाजार पर लोअर सर्किट लगा दिया गया ताकि निवेशकों के पैसे डूबने से बचाया जा सके।

भारतीय बाजारों के साथ-साथ दुनिया के बाकी बाजारों की भी हालत खराब है गुरुवार को अमेरिकी बाजार भी गिरावट के निचले स्तर को छू रहे थे जिसके चलते अमेरिकी बाजारों को भी 15 मिनट के लिए बंद किया गया था और उसके बाद खुले बाजारों में थोड़ी रिकवरी देखने को मिली थी।

आपको बता दें कि कोरोनावायरस के चलते पूरे विश्व में कोहराम सा मचा हुआ है अब तक कोरोनावायरस की वजह से हजारों लोगों की मौत हो चुकी है जबकि लाखों की संख्या में लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं वही सऊदी अरब के नए फैसलों के चलते कच्चे तेल के दामों में भी लगातार गिरावट जारी है हालांकि कच्चे तेल के दामों में आई गिरावट से जहां आम जनता को राहत मिल रही है तो वही इसका बुरा असर बाजारों पर भी देखने को मिल रहा है और इसी के चलते बाजार लगातार निचले स्तर पर कारोबार कर रहे हैं।

आपकी प्रतिक्रिया...