भारत की अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी!

Continue Reading भारत की अर्थव्यवस्था और बेरोजगारी!

भारत एक कृषि प्रधान देश! भारत एक कृषि प्रधान देश माना जाता है लेकिन अब यहां भी ऐसे हालात हो गये है कि अगर देश की जीडीपी गिरती है तो बेरोज़गारी भी तेजी से पैर पसारने लगती है। कोरोना वायरस महामारी के दौरान देश में महीनों तक पूर्ण रूप से…

आत्मनिर्भरता से ही बनेगा नया भारत

Continue Reading आत्मनिर्भरता से ही बनेगा नया भारत

देश को सामाजिक, आर्थिक विकास एवं पारदर्शी और जवाबदेह शासन प्रदान करने के लिए मोदी सरकार प्रतिबद्ध है। आत्मनिर्भर भारत इस तरह नए भारत की ही संकल्पना है। मोदी जी के नेतृत्व में भारत के सतत विकास के पथ पर आगे बढ़ने और नई ऊंचाइयों को छूने की उम्मीद है।

आरबीआई ने ब्याजदरों में की ऐतिहासिक कटौती, EMI पर मिलेगी 3 महीने की छूट

Continue Reading आरबीआई ने ब्याजदरों में की ऐतिहासिक कटौती, EMI पर मिलेगी 3 महीने की छूट

आरबीआई ने बताया कि वह रेपो रेट में 0.75 की कटौती कर रही है जिसके बाद रेपो रेट घट कर 4.40 फीसदी पर आ जाएगा। आरबीआई के इस फैसले से आम लोगों के साथ-साथ बैंकों को भी बड़ी राहत मिलेगी, जिसके बाद बैंक अब अपने ग्राहकों की ईएमआई भी कम करने का फैसला ले सकते हैं।  RBI के इस फैसले के बाद अब आम लोगों के घरों की ईएमआई भी कम हो सकती है।

जानिए सीतारमण ने क्या क्या दी छूट……….

जानिए सीतारमण ने क्या क्या दी छूट……….
The Minister of State for Commerce & Industry (Independent Charge), Smt. Nirmala Sitharaman addressing a press conference, in New Delhi on October 14, 2016.
Continue Reading जानिए सीतारमण ने क्या क्या दी छूट……….

वित्त मंत्री ने बताया कि इस बार देर से रिटर्न फाइल करने पर 12 फ़ीसदी की जगह 9 फ़ीसदी ब्याज देना पड़ेगा। GST फाइलिंग को लेकर भी समय सीमा को 30 जून तक बढ़ा दिया गया है। इससे छोटे और मध्यम वर्ग के कारोबारियों को राहत मिल सकेगी।

शेयर बाजार में भारी गिरावट, फिर से लगा लोअर सर्किट

शेयर बाजार में भारी गिरावट, फिर से लगा लोअर सर्किट
44171181 - 3d render illustration, red arrow crashes through the ground
Continue Reading शेयर बाजार में भारी गिरावट, फिर से लगा लोअर सर्किट

मार्च महीने में ही विदेशी पोर्टफोलियो  निवेशक या (FPI) एक लाख करोड़ से ज्यादा का शेयर और बॉन्ड बाजार से निकाल चुकी है। कोरोनावायरस भारत सहित पूरे विश्व में फैल चुका है जिसकी वजह से दुनिया की अर्थव्यवस्था तेजी से मंदी की ओर बढ़ रही है। 

भारतीय शेयर बाजार: निवेशकों के डूबे 12 लाख करोड़, बाजार पर लगा लोअर सर्किट

Continue Reading भारतीय शेयर बाजार: निवेशकों के डूबे 12 लाख करोड़, बाजार पर लगा लोअर सर्किट

शुक्रवार के कारोबार के दौरान सेंसेक्स में 2000 अंकों से ज्यादा की गिरावट देखने को मिली थी जबकि निफ्टी ने भी 700 अंक लुढ़क कर कारोबार शुरू किया था इससे पहले भी पूरे सप्ताह बाजार गिरावट के साथ कारोबार करते नजर आए थे ऐसे में आज कि गिरावट चिंता का विषय था

बाजार सहमा, एयरलाइंस और एसबीआई के शेयर नीचे, यस बैंक में सुधार

Continue Reading बाजार सहमा, एयरलाइंस और एसबीआई के शेयर नीचे, यस बैंक में सुधार

स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के चेयरमैन रजनीश कुमार ने यह दावा किया था कि एसबीआई यस बैंक में निवेश करेगी जिससे यस बैंक के हालात में सुधार होगा लेकिन इस बयान के बाद यस बैंक के शेयर में तेजी नजर आई लेकिन सोमवार को खुले बाजार में एसबीआई के शेयर दबाव में नजर आए।

यस बैंक में नहीं डूबेगा किसी का पैसा, वित्त मंत्री ने दिया आश्वासन

Continue Reading यस बैंक में नहीं डूबेगा किसी का पैसा, वित्त मंत्री ने दिया आश्वासन

यस बैंक में नगदी निकासी कि सीमा तय होने के बाद से खाता धारकों में हलचल मची हुई है खाताधारकों को इस बात की चिंता है कि कहीं उनका पैसा ना डूब जाए

देश को लूट लिया इन घोटालेबाजों ने

Continue Reading देश को लूट लिया इन घोटालेबाजों ने

जिस देश में बैंक का कर्ज चुका न पाने के कारण एक तरफ किसान आत्महत्या को बाध्य होते हों वहां बैंकों को हजारों करोड़ की चपत लगाने वाले पूंजीपति कानून को ठेंगा दिखाते हुए भोग-विलास कर रहे हों तो बात सोचने की हो जाती है। हर्षद मेहता, केतन पारेख से लेकर नीरव मोदी और मेहुल चोकसी तक ऐसे घोटालेबाजों की सूची पहुंचती है।

कांग्रेस के लिये मुसीबत बनते चिदंबरम!

Continue Reading कांग्रेस के लिये मुसीबत बनते चिदंबरम!

चिदंबरम के विरुद्ध लुक आउट नोटिस जारी करना भी सीबीआई का आश्चर्यजनक कदम था ,परंतु सीबीआई को यह विकल्प चुनने के लिए दरअसल चिदंबरम ने ही विवश किया।

बैंकिंग क्षेत्र में सुधार लाने की पहल करता बजट

Continue Reading बैंकिंग क्षेत्र में सुधार लाने की पहल करता बजट

मोदी सरकार बैंकिंग क्षेत्र में सुधार लाने के लिए गंभीरता से प्रयास कर रही है। ...सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों के पुनर्पूंजीकरण हेतु पूंजी उपलब्ध कराने, आईबीसी के तहत वसूली में तेजी लाने और बैंकों के एकीकरण से बैंकों की सेहत में सुधार आएगा।

बड़े लक्ष्य और आम आदमी का सरोकार

Continue Reading बड़े लक्ष्य और आम आदमी का सरोकार

वर्तमान वर्ष के बजट में हमने जीडीपी में लम्बी छलांग लगाने समेत कई बड़े लक्ष्य रखे हैं। लेकिन आम आदमी के सरोकारों पर भी गौर करना होगा। यदि उसकी क्रय शक्ति न बढ़ी तो सारे प्रयास व्यर्थ हो जाएंगे। हालांकि, मोदी सरकार के आत्मविश्वास की स्पष्ट झलक बजट में दिखाई देती है। 

End of content

No more pages to load