सोनिया गांधी ने लॉक डाउन पर उठाया सवाल? किसानों के मुआवजे की रखी मांग

गुरुवार को कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक हुई जिसमें सोनियां गांधी सहित पार्टी के तमाम बड़े नेताओ ने विडियो काफ्रेंसिग के जरिए शिरकत की। इस बैठक में देश में जारी कोरोना वायरस के खतरे को लेकर चर्चा हुई। लेकिन इस दौरान सोनिया गांधी ने देश में जारी हालात के लिए पीएम मोदी को जिम्मेदार ठहराया और कहा कि जिस तरह से देश में लॉक डाउन जारी किया गया है वह गलत है। क्योंकि इस लॉक डाउन से लोगों को परेशानी हो रही है। कांग्रेस पार्टी की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी ने बैठक के दौरान कहा कि कोरोना वायरस पर रोक लगाने के लिए देश में लॉक डाउन का फैसला लेना सही है लेकिन जिस तरह से इसे लागू किया गया वह फैसला सही नहीं है।

सोनियां गांधी ने कहा लॉक डाउन का फैसला सरकार द्वारा देरी से लिया गया जिसकी वजह से देश में संक्रमित लोगों की संख्या में वृद्धी देखने को मिल रही है। लॉक डाउन का फैसला लेना सही था लेकिन उसे जिस तरह से जमीन पर उतारा गया वह तरीका शायद सही नहीं था इसलिए हजारों लोगों को परेशानी झेलनी पड़ी और वह अपने घरों तक नहीं पहुच पा रहे है। सोनिया गांधी ने दिल्ली यूपी बार्डर पर फंसे मजदूरों का जिक्र करते हुए सरकार पर सवालिया निशान खड़े किये और कहा कि जो लोग अपने घरों तक नहीं पहुंच सके उसके लिए जिम्मेदार कौन है। सोनिया गांधी ने कहा कि लॉक डाउन के बाद अचानक से हजारों लोग सड़कों पर आ गये और भूखे प्यासे हजारो किलोमीटर तक पैदल चलने के लिए मजबूर हुए इससे यह साबित होता है कि सरकार के पास कोई योजना नहीं थी और सरकार ने अचानक से लॉक डाउन का फैसला लिया।

कांग्रेस वर्किंग कमेटी की बैठक में हाल ही में हुई बारिश का भी जिक्र किया गया, सोनिया गांधी ने कहा कि बारिश की वजह से किसानों की फसल खराब हो गयी है फसल कटाई के लिए तैयार थी लेकिन अचानक से हुई बारिश और बर्फबारी ने पूरी फसल को चौपट कर दिया जिसके बाद से किसानों की सालों की मेहनत पर पानी फिर गया। जिसके लिए सरकार को किसानों को इसका मुआवजा देना चाहिए।

आपकी प्रतिक्रिया...