जनसंघ की निधि पर भाजपा की शक्ति

Continue Readingजनसंघ की निधि पर भाजपा की शक्ति

मां और पुत्र के बीच जो शाश्वत प्रेम प्राकृतिक रूप से स्थापित होता है, वह किसी अन्य परस्पर दो जीवो के बीच देखने को नहीं मिलता। इसका एक प्रमुख कारण यह भी है कि मां अपने पुत्र को नौ माह तक पहले गर्भ में उसका पालन पोषण करती है। अनेक…

BSF को मिला बड़ा अधिकार, क्या अवैध हथियार व ड्रग्स पर लगेगी रोक?

Continue ReadingBSF को मिला बड़ा अधिकार, क्या अवैध हथियार व ड्रग्स पर लगेगी रोक?

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बार्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) के अधिकारों में बढ़ोत्तरी की है जिससे देश की सीमा सुरक्षा को और मजबूत किया जा सकेगा। अभी तक BSF के जवान सिर्फ सीमा की सुरक्षा करते थे इसके साथ ही बहुत की कम दायरे में उन्हें अंदर की सुरक्षा का जिम्मा दिया…

सावरकर को बदनाम करने की कड़ी आगे बढ़ सकती है?

Continue Readingसावरकर को बदनाम करने की कड़ी आगे बढ़ सकती है?

राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ के सरसंघचालक ने वीर सावरकर पर लिखी पुस्तक का विमोचन करते हुए एक बड़ी चिंता जताई है। उन्होंने कहा कि स्वतंत्रता के बाद से ही वीर विनायक दामोदर सावरकर को बदनाम करने की मुहिम चलाई गई है। संभव है, सावरकर के बाद स्वामी विवेकानंद, दयानंद सरस्वती…

शस्त्र पूजन: शक्ति की उपासना

Continue Readingशस्त्र पूजन: शक्ति की उपासना

भारतवर्ष एक प्राचीन परंपरा और सांस्कृतिक देश है। कई हजार साल पहले रामायण, महाभारत से लेकर आज से सत्तर साल पीछे देश की आजादी तक हमने एक चीज बहुत निरंतरता से आजमाई है, वो संघर्ष है। कोई भी संघर्ष शस्त्र के बिना अधूरा है। यही नहीं बल्कि हमारे सभी देव-देवताओं के हाथ में भी कोई न कोई आयुध शस्त्र नजर आते हैं।

इंदिरा गांधी सरकार के भ्रष्ट्राचार पर जय प्रकाश नारायण ने उठाई थी आवाज

Continue Readingइंदिरा गांधी सरकार के भ्रष्ट्राचार पर जय प्रकाश नारायण ने उठाई थी आवाज

11 अक्टूबर 1902 को बिहार के सिताब दियारा में जन्में जय प्रकाश नारायण शुरुआती शिक्षा बिहार से प्राप्त किया और बाद में पढ़ाई के लिए अमेरिका चले गये लेकिन राष्ट्र प्रेम से ओत प्रोत नारायण का अमेरिका में बहुत मन नहीं लगा और वह फिर भारत वापस आ गये

राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख

Continue Readingराष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख

सम्पूर्ण जीवन में अपनी देह को कष्ट दे देकर समाजजागरण करने वाले राष्ट्रऋषि नानाजी ने मृत्युपूर्व इच्छापत्र लिखकर अपनी मृत देह चिकित्सकीय अनुसंधान हेतु दधिची संस्थान हेतु दान कर दी थी। नानजी को पद्म विभूषण व भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया था। ये सभी सम्मान निश्चित ही हमारे राष्ट्र का उनके कृतित्व व व्यक्तित्व को कृतज्ञता ज्ञापन ही है, तथापि यह भी सत्य ही है कि उनके व्यक्तित्व को इन सम्मानों से नहीं मापा जा सकता है।

अमेरिकी समाज में हिंदू विचार क्यों हुआ इतना प्रतिष्ठित

Continue Readingअमेरिकी समाज में हिंदू विचार क्यों हुआ इतना प्रतिष्ठित

कई अमेरिकी राज्यों ने अक्टूबर माह को हिंदू विरासत माह घोषित किया है। उनका मानना है कि हिंदू धर्म ने अपनी अद्वितीय विरासत से अमेरिका के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। 1960 के दशक में बहुत से अमेरिकियों का हिंदू धर्म से परिचय 'ध्यान' व 'साधना' के माध्ये से…

हिंदुत्व : धर्म की अवधारणा, सत्य एवं भ्रांति

Continue Readingहिंदुत्व : धर्म की अवधारणा, सत्य एवं भ्रांति

हिंदुत्व का दूसरा नाम सनातन संस्कृति या सनातन धर्म है। सनातन का अभिप्राय ही यह है कि जो काल की कसौटी पर सदैव खरा उतरे, जो कभी पुराना न पड़े, जिसमें काल-प्रवाह में आया असत्य प्रक्षालित होकर तलछट में पहुँचता जाय और सत्य सतत प्रवहमान रहे। फिर यह भ्रांति कब,…

सिनेमा और वायु सेना की साझी उड़ान

Continue Readingसिनेमा और वायु सेना की साझी उड़ान

हम देखते हैं कि रजतपट के रंगीन होने के बाद सिनेमा ने भारतीय वायु सेना को भी अपने बहुविध विषयों की माला के मनके के रूप में शामिल किया है। सिनेमा और वायु सेना के साझे सफर की यह उड़ान आगे चलकर कहां तक पहुंचेगी, यह देखना दिलचस्प होगा।

आखिर जम्मू-कश्मीर में क्यों बढ़ रहा आतंकी हमला ?

Continue Readingआखिर जम्मू-कश्मीर में क्यों बढ़ रहा आतंकी हमला ?

जम्मू कश्मीर में एक बार फिर से आतंकी घटनाएं बढ़ी हैं और आतंकी अब हिन्दूओं को अपना निशाना बना रहे है। पिछले 4 दिनों में अलग अलग घटनाओं को अंजाम दिया जिसमें अब तक कुल 5 लोगों की मौत हो चुकी है। गुरुवार को एक विद्यालय पर हमला किया जिसमें…

कन्हैया और जिग्नेश को शामिल करने के खतरे कांग्रेस के लिए ही ज्यादा हैं

Continue Readingकन्हैया और जिग्नेश को शामिल करने के खतरे कांग्रेस के लिए ही ज्यादा हैं

कांग्रेस की दुर्दशा का इससे बड़ा प्रमाण कुछ नहीं हो सकता है कि इस समय उसके बारे में जो भी नकारात्मक टिप्पणी कर दीजिए सब सही लगता है। केंद्रीय नेतृत्व यानी सोनिया गांधी, राहुल गांधी और प्रियंका वाड्रा जो दांव लगाते हैं वही उल्टा पड़ जाता है। कन्हैया कुमार को…

प्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ साजिशे….

Continue Readingप्रधानमंत्री मोदी और मुख्यमंत्री योगी के खिलाफ साजिशे….

लोकतंत्र ने हर व्यक्ति को विरोध करने और अपने विचार खुलकर व्यक्त करने का अधिकार दिया है, इरादा लोकतंत्र को जीवंत और गतिशील बनाना है ताकि समाज और देश के प्रत्येक वर्ग को लाभ हो। हालाँकि कुछ राजनीतिक दलों और उनके संगठनों के अलग-अलग एजेंडा हैं और इस लोकतांत्रिक साधन…

End of content

No more pages to load