केसरिया झंडे को ही संघ ने सर्वोच्च स्थान क्यों दिया?

Continue Readingकेसरिया झंडे को ही संघ ने सर्वोच्च स्थान क्यों दिया?

भगवा ध्वज हिंदुओं को त्याग, बलिदान, शौर्य, देशभक्ति आदि की प्रेरणा देने में सदैव सक्षम रहा है। यह ध्वज हिंदू समाज के सतत संघर्षों और विजयश्री का साक्षी रहा है। ‘भगवा ध्वज’ के बिना हम हिंदू संस्कृति, हिंदू राष्ट्र और हिंदू धर्म की कल्पना नहीं कर सकते। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के…

गुरु पूर्णिमा: दुनिया से परिचय कराने वाले गुरु की महिमा

Continue Readingगुरु पूर्णिमा: दुनिया से परिचय कराने वाले गुरु की महिमा

गुरु, ब्रम्हा जी की तरह हमारे हृदय में उच्च संस्कार भरते हैं, विष्णु जी की तरह पोषण करते हैं एवं शिवजी की तरह हमारे कुसंस्कारों एवं जीवभाव का संहार करते हैं। मित्रों और संबंधियों द्वारा अथक प्रयास के बाद भी जो ज्ञान हमें प्राप्त नहीं हो सकता, वह सब हमें ब्रम्हदेवता गुरु से सहज ही प्राप्त हो जाता है।

“स्वराज हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर ही रहूंगा”

Continue Reading“स्वराज हमारा जन्म सिद्ध अधिकार है और मैं इसे लेकर ही रहूंगा”

यह नारा देश के प्रसिद्ध स्वतंत्रता सेनानी बाल गंगाधर तिलक ने दिया था उन्होंने ब्रिटिश सरकार को पूरी तरह से देश छोड़ने के लिए मजबूर कर दिया था। बाल गंगाधर तिलक एक प्रसिद्ध वकील, शिक्षक, समाजसुधारक और राष्ट्रवादी व्यक्ति थे बाद में लोगों ने उन्हे लोकमान्य की भी उपाधि दी।…

ब्लैक रिवोल्यूशन के लिए तैयार भारत

Continue Readingब्लैक रिवोल्यूशन के लिए तैयार भारत

पिछले दिनों प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि प्रदूषण को कम करने और आयात पर निर्भरता घटाने के लिए पेट्रोल में 20 फीसद एथेनॉल मिलाने के लक्ष्य को पांच साल घटाकर 2025 कर दिया गया है। पहले यह लक्ष्य 2030 तक पूरा किया जाना था। एथेनॉल सम्मिश्रण से संबंधित रूपरेखा के बारे में विशेषज्ञ समिति की रिपोर्ट जारी करने के बाद मोदी ने कहा कि अब एथेनॉल 21वीं सदी के भारत की बड़ी प्राथमिकताओं से जुड़ गया है।

जयंती विशेष: डॉक्टर खूबचंद बघेल ने देश सेवा के लिए छोड़ी थी पढ़ाई!

Read more about the article जयंती विशेष: डॉक्टर खूबचंद बघेल ने देश सेवा के लिए छोड़ी थी पढ़ाई!
Dr.Khubchand Baghel,Hindi Vivek Magazine
Continue Readingजयंती विशेष: डॉक्टर खूबचंद बघेल ने देश सेवा के लिए छोड़ी थी पढ़ाई!

भारत की आजादी से लेकर भारत के विकास में अहम योगदान देने वालों में डॉक्टर खूबचंद बघेल का नाम भी शामिल है। खूबचंद जी के अथक प्रयास की वजह से ही सामाजिक और आर्थिक परिवर्तन देखने को मिला और उसका लाभ आज भी छत्तीसगढ़ और देश की जनता को मिल रहा…

जयंती विशेष: पल्टू शेख जिसकी वजह से मंगल पांडे को हुई थी फांसी

Continue Readingजयंती विशेष: पल्टू शेख जिसकी वजह से मंगल पांडे को हुई थी फांसी

देश की आजादी के इतिहास को जब भी पढ़ा जाता है तब मंगल पांडेय नाम सुनहरे अक्षरों में नजर आता है। वह देश के ऐसे योद्धा थे जिन्होने लोगों को गुलामी से हट कर कुछ सोचना सिखाया और लोगों के मन में स्वतंत्रता की आग पैदा की हालांकि उन्हें इसकी…

भारतीयत्व की पहचान कराने वाला नेतृत्व

Continue Readingभारतीयत्व की पहचान कराने वाला नेतृत्व

लोकमान्य तिलक की उग्र राजनीति असफ़ल होने वाला रोमांटिज़्म नहीं थी। भारतीयों के मनों में भरे असंतोष को बाहर निकालने हेतु यह सब आवश्यक था, जनता को उन पर होने वाले ब्रिटिशों के अत्याचारों की जानकारी ठीक तरह से देने की आवश्यकता थी, जो लोकमान्य तिलक ने पूरी की। भारतीय जनता को इन अत्याचारों का प्रतिकार करने हेतु तैयार किया। शिव जयंती एवं गणेश उत्सव के माध्यम से भारतीयों में संघ शक्ति निर्माण की।

वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की एक झलक

Read more about the article वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की एक झलक
वाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की एक झलक
Continue Readingवाराणसी के रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर की एक झलक

भारत और जापान की दोस्ती की मिसाल वाराणसी का रुद्राक्ष कन्वेंशन सेंटर अब आम जनता के लिए खोल दिया गया है। वाराणसी के सांसद और देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गुरुवार को इसका उद्घाटन किया और राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की मौजूदगी में इस रुद्राक्ष भवन को वाराणसी…

टीकाकरण में तेजी : समय की मांग

Continue Readingटीकाकरण में तेजी : समय की मांग

भारत के कई इलाकों विशेषत: गांवों में अधिकांश लोग टीका लगवाने के लिए सहयोग नहीं कर रहे हैं। आज ऐसे लोगों के लिए जागरूकता अभियान चलाए जाने की ज़रूरत है। इसके अंतर्गत ऐसे लोगों को यह बताने की ज़रूरत है कि यह वैक्सीन पूरी तरह सुरक्षित है। इससे मृत्यु नहीं बल्कि रोग के कारण हो सकने वाली संभावित मौत से बचा जा सकता है और केवल कुछ ही लोगों में एक-दो दिन हल्के-फुल्के बुखार के अलावा कोई अन्य समस्या नहीं होगी।

तीसरी लहर की आशंकाओं का सच

Continue Readingतीसरी लहर की आशंकाओं का सच

राष्ट्रीय बाल अधिकार संरक्षण आयोग ने एक विस्तृत फार्म (फॉर्मेट) राज्यों को भेजा है, इसमें बच्चों के इलाज के लिए कुल अस्पताल, नर्सिंग होम, प्राथमिक चिकित्सा केंद्र, डॉक्टर, नर्सों व टेक्निशियंस के आंकड़ों को देने को कहा गया है। दरअसल, पब्लिक डोमेन में मौजूद रिपोर्ट में चाईल्ड हेल्थ इन्फ्रास्ट्रक्चर के आंकड़े गायब नज़र आते हैं। लिहाजा ऐसे में राज्यों को इतने बारीक़ आंकड़े आयोग को देना आसान नहीं होगा।

शरणार्थियों को मिलेगी भारत में नागरिकता

Continue Readingशरणार्थियों को मिलेगी भारत में नागरिकता

भारतीय नागरिकता बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान से भारत में शरण हेतु आए प्रताड़ित अल्पसंख्यकों को दी जाएगी। इनमें वे हिंदू, सिख, जैन, बुद्धिस्ट, पारसी और क्रिश्चियन शामिल हैं जो कि 31 दिसंबर 2014 तक भारत आए हैं।

विश्व जनसंख्या दिवस: एनकंट्रोल्ड जनसंख्या विनाश की वजह!

Read more about the article विश्व जनसंख्या दिवस: एनकंट्रोल्ड जनसंख्या विनाश की वजह!
विश्व जनसंख्या दिवस
Continue Readingविश्व जनसंख्या दिवस: एनकंट्रोल्ड जनसंख्या विनाश की वजह!

जनसंख्या किसी भी देश के लिए अच्छी और बुरी दोनों होती है लेकिन वह जब तक नियंत्रित होती है तभी तक उसका फायदा मिलता है बाद में बढ़ती जनसंख्या गरीबी, भुखमरी और बेरोजगारी की वजह बनती है इसलिए हर देश को अपनी जनसंख्या पर नियंत्रण करना जरुरी है। किसी भी…

End of content

No more pages to load