प्रधानमंत्री ने की सर्वदलीय बैठक, देश में बढ़ सकता है लॉक डाउन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को सर्वदलीय बैठक की, जिसमें सभी पार्टी नेताओं से कोरोना वायरस और लोगों को लेकर चर्चा हुई। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सभी से अपने विचार साझा किए और बाकी पार्टी नेताओं के विचारों को भी सुना। पिछले कुछ दिनों से सरकार के सामने लॉक डाउन को लेकर एक बड़ी समस्या खड़ी हुई है कि आने वाले समय में लॉक डाउन को आगे बढ़ाया जाए या नहीं? देश के हालात कोरोनावायरस को लेकर जिस तरह से बिगड़ रहे हैं उससे लॉक डाउन को आगे बढ़ाना ही एकमात्र उपाय है लेकिन लगातार गिरती अर्थव्यवस्था और लोगों के विचारों पर ध्यान देते हुए इसे जल्द से जल्द खत्म करने में ही राहत नजर आ रही है।
बुधवार को हुई सर्वदलीय बैठक में प्रधानमंत्री ने लॉक डाउन को बढ़ाने के संकेत दिए हैं। सूत्रों की माने तो प्रधानमंत्री ने कहा कि कोरोनावायरस की लड़ाई लंबी चलने वाली है इस दौरान सभी की जिंदगी बचाना जरूरी है। सभी को सावधान रहना होगा और इसके लिए लॉक डाउन बढ़ाना ही एकमात्र उपाय है।
प्रधानमंत्री ने आज की वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान बीजेपी, कॉन्ग्रेस, डीएमके, एआईडीएमके, टीआरएस, सीपीआईएम, टीएमसी, शिवसेना, एनसीपी, अकाली दल, एलजेपी, जेडीयू, एसपी और बीएसपी सहित कई पार्टी नेताओ के साथ बैठक की जहां कोरोना वायरस और लॉक डाउन को लेकर चर्चा हुई। 
प्रधानमंत्री ने इस बैठक के दौरान बताया कि इससे पहले इस मुद्दे पर राज्य के मुख्यमंत्रियों, प्रशासन और विशेषज्ञों से बात हुई है जहां पर ज्यादातर लोगों ने लॉक डाउन का सुझाव दिया है क्योंकि इस समय सिर्फ लॉक डाउन ही ऐसा उपाय है जिससे आसानी से संक्रमण से बचा जा सकता है। जिस तरह से संक्रमण से मरने वालों का आकड़ा बढ़ता जा रहा है उससे यह समझ आ रहा है कि लोगों की जिंदगी बचाना सबसे ज्यादा जरुरी है और इसके लिए लॉक डाउन का बढाना अतिआवश्यक है। लेकिन लॉक डाउन कितने दिनों के लिए बढ़ाया जायेगा इस पर अभी कुछ भी साफ नहीं हुआ है।
भारत में कोरोना वायरस तेजी से फैल रहा है अब तक 5 हजार से ज्यादा लोग इस संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं जबकि 150 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है।

आपकी प्रतिक्रिया...