800 जमातियों की रिपोर्ट से डरी दिल्ली, क्या कल से हटेगा लॉक डाउन?

हेडलाइन
  • 14 अप्रैल को लॉक डाउन होगा खत्म 
  • दिल्ली में 800 तबलीगी का मंगलवार को आयेगा टेस्ट रिजल्ट
  • 24 घंटे में बढ़े कोरोना के केस
  • कौन कौन राज्य बढ़ायेंगे लॉक डाउन की तारीख?
देश में कोरोना वायरस का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है। केंद्र सरकार द्वारा लागू किया गया 21 दिनों का लॉक डाउन भी मंगलवार को खत्म हो रहा है लेकिन अभी तक केंद्र सरकार की तरफ से लॉक डाउन को लेकर कोई नया निर्देश जारी नहीं किया गया है। जिससे उन राज्यों के लोग असमंजस में हैं जहां कि राज्य सरकारों ने लॉक डाउन को लेकर कोई फैसला नहीं लिया है। महाराष्ट्र, पश्चिम बंगाल, पंजाब और उड़ीसा सहित कई राज्य सरकारों ने लॉग डाउन को 30 अप्रैल और 1 मई तक के लिए बढ़ा दिया है। वहीं कुछ राज्य सरकारें अभी भी केंद्र के फैसले का इंतजार कर रही है क्योंकि सबको इस बात की उम्मीद है प्रधानमंत्री मोदी लॉक डाउन खत्म होने से पहले ही देश को संबोधित करेंगे और कोरोना के खिलाफ एक नया दिशानिर्देश जारी करेंगे।
इससे पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की राज्यों के मुख्यमंत्रियों के साथ दो बार वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बैठक हो चुकी है जिसमें लॉक डाउन को आगे बढ़ाने को लेकर चर्चा हुई थी। इस बैठक के बाद कुछ राज्यों ने संक्रमण को ध्यान में रखते हुए राज्यों में लॉक डाउन को बढ़ा लिया। वहीं कुछ राज्य ऐसे हैं जिन में संक्रमण का खतरा बहुत ही कम है ऐसे में उस राज्यों में लॉक डाउन जारी रखना अर्थव्यवस्था के हिसाब से सही नहीं होगा जबकि महाराष्ट्र और दिल्ली जैसे राज्यों को ध्यान में रखकर लॉक डाउन को आगे बढ़ाने की सख्त जरूरत है। महाराष्ट्र में करीब 2000 लोग इस संक्रमण से प्रभावित है जबकि करीब 150 लोगों की अब तक मौत हो चुकी है अगर पिछले 24 घंटे की बात करें तो करीब 22 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 80 से अधिक नए मामले सामने आए हैं।
राजधानी दिल्ली में करीब एक हजार से ज्यादा लोग कोरोना से संक्रमित हो चुके हैं इसमें करीब 750 सिर्फ मरकज के लोग है। वही सोमवार को 800 और तबलीगी लोगों की कोरोना रिपोर्ट आने वाली है जिसके बाद दिल्ली में संक्रमित लोगों का आंकड़ा अचानक से बढ़ सकता है। दिल्ली में अब तक 24 लोगों की संक्रमण से मौत हो चुकी है।
देश के ज्यादातर राज्य संक्रमण के खतरे से जूझ रहे हैं और इस दौरान सभी को सरकार से बड़ी उम्मीद है क्योंकि इसका इलाज ज्यादातर सरकारी अस्पतालों में ही हो रहा है वही कोरोनावायरस की वजह से लगातार गिरती अर्थव्यवस्था से देश का शहरी वर्ग पूरी तरह से परेशान है क्योंकि कई रिपोर्ट ऐसी सामने आई है जिसमें यह कहा गया है कि कोरोना वायरस की वजह से अर्थव्यवस्था में बड़ी गिरावट देखी जा सकती है और इसका असर नौकरियों पर भी पूरी तरह से पड़ने वाला है।

आपकी प्रतिक्रिया...