महाराष्ट्र: कोरोना से संक्रमित हुए डाक्टर्स, भाटिया अस्पताल बना कोरोना हब

महाराष्ट्र संक्रमण के मामले में पहले नंबर पर है जबकि आर्थिक राजधानी मुंबई में सक्रमण का खतरा सबसे ज्यादा हो चुका है यहां लोगों के साथ साथ अब पूरे इलाके को सील किया जा रहा है। मुंबई का धरावी सबसे ज्यादा संक्रमित क्षेत्र है जहां करीब हर दिन एक से ज्यादा केस सामने आ रहे है। धारावी में सबसे ज्यादा केस आने के दो कारण पता चले है यहां तबलीगी जमात के लोग है जो बिना किसी जांच या सावधानी के सभी के साथ मिलजुल कर रह रहे है जबकि दूसरा कारण यहां की घनी आबादी है। यह बात सभी को पता है कि धारावी एशिया का सबसे बड़ा स्लम है जहां जगह के मुताबिक लोगों की जनसंख्या काफी ज्यादा है।

महाराष्ट्र में अब लोगों के साथ डाक्टरों पर भी खतरा मंडराने लगा है। अलग अलग अस्पतालों में मिलाकर करीब 15 से अधिक डाक्टर कोरोना की चपेट मे आ चुके है। कोरोना संक्रमित लोगों का इजाल करते हुए डाक्टर्स अपनी सुरक्षा का पूरा ध्यान रखते है लेकिन इस दौरान कहीं ना कहीं चूक हो जाती है जिससे अब डाक्टर्स भी इस खतरे का शिकार होने लगे है। मुंबई का भाटिया अस्पताल डाक्टर्स के लिए कोरोना का केंद्र बनता जा रहा है सोमवार को भाटिया अस्पताल में 11 नये कार्मचारी कोरोना के शिकार हो गये जबकि पहले से भी कुछ कर्मचारी इससे संक्रमित थे। सोमवार को भाटिया अस्पताल में नये संक्रमण के साथ ही कुल 25 लोग संक्रमित हो गये। इससे पहले रविवार को अस्पताल के कुल 150 कर्मचारियों का टेस्ट किया गया था जिसमें से 11 लोगों का टेस्ट पॉजिटिव आया है जबकि 139 लोगों का टेस्ट निगेटिव आया है। हालांकि निगेटिव रिजल्ट आए लोगों को भी होम क्वारंटाइन के लिए कहा गया है जबकि पॉजिटिव रिजल्ट वाले सभी 25 लोगों को आईसीयू में रखा गया है और उन पर कड़ी नजर रखी जा रही है जिससे जल्द से जल्द उन्हे ठीक किया जा सके।

महाराष्ट्र में सोमवार को संक्रमित लोगों की संख्या 2 हजार के पार पहुंच गयी है जबकि सिर्फ मुंबई में करीब 1400 लोग इससे संक्रमित है। एक शहर के हिसाब से यह संख्या काफी ज्यादा है। मुंबई सहित पूरे महाराष्ट्र में सोमवार तक 97 लोगों की मौत हो चुकी है।

आपकी प्रतिक्रिया...