योगी आदित्यनाथ पिता की अंतिम यात्रा में नहीं होंगे शामिल, निधन पर सभी ने दी श्रद्धांजली

  • योगी आदित्यनाथ के पिता का एम्स में निधन
  • पिता की अंतिम यात्रा में मुख्यमंत्री नहीं होंगे शामिल
  • लॉक डाउन का पालन करते हुए योगी नहीं जायेंगे अपने घर
  • आनंद सिंह बिष्ट के निधन पर सभी ने दी श्रद्धांजली 

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ट का सोमवार को दिल्ली के एम्स अस्पताल में निधन हो गया। वह पिछले काफी समय से किडनी और लिवर की समस्या से परेशान चल रहे थे। पिछले महीने उनकी तबियत खराब होने के बाद उन्हे 13 मार्च को एम्स में भर्ती कराया गया लेकिन लगातार बिगड़ती हालात के बाद उन्हे पिछले कुछ दिनों से वेंटिलेटर पर रखा गया था जहां सोमवार को उनकी मौत हो गयी।

21 अप्रैल को पिता की अंतिम यात्रा में योगी आदित्यनाथ शामिल नहीं होंगे। कोरोना वायरस के चलते लॉक डाउन पूरे देश में लगा हुआ है जिसका पालन वह भी पालन कर रहे है और यही वजह है कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ अपने पिता की अंतिम यात्रा में शामिल नहीं होंगे। योगी ने घर के लोगों से भी अपील की है कि कोरोना वायरस की वजह से कम से कम लोग अंतिम संस्कार में शामिल हों।

पिता की अंतिम यात्रा में ना शामिल होने पर दुख प्रकट करते हुए योगी ने कहा “ अपने पिता के कैलाशवासी होने पर मुझे दुख और शोक है वह मेरे पूर्वाश्रम के जन्मदाता है उन्होने बचपन में ही मुझे ईमानदारी, कठोर परिश्रम और निस्वार्थ भाव से लोक मंगल कार्य करने का संस्कार बचपन में ही दिया था। योगी ने कहा कि पिता के अंतिम दर्शन की हार्दिक इच्छा थी लेकिन महामारी के चलते मैं इसमें शामिल नहीं हो पा रहा हूं। हालांकि वह लॉक डाउन के बाद अपने पिता के अंतिम दर्शन के लिए घर जायेंगे।

उत्तर प्रदेश में कोरोना का संकट भी लगातार गहराता जा रहा है। आगरा सबसे ज्यादा संक्रमित क्षेत्र है जहां से कोरोना की शुरुआत हुई थी और लगातार कोरोना के केस वहीं से मिल रहे है। हालांकि कोरोना के दौरान काम को लेकर योगी सरकार की हर तरफ से तारीफ हो रही है। उत्तर प्रदेश एक बड़ी जनसंख्या वाला प्रदेश है और वहां शिक्षा का स्तर भी काफी नीचे है ऐसे में लोगों को समझाना एक बड़ी टेढी खीर है। केंद्र सरकार की मदद के बाद राज्य में स्वास्थ्य का स्तर काफी सुधरा हुआ है और कोरोना पर काफी हद तक रोक भी लगी हुई है।

वहीं मुख्यमंत्री के पिता के निधन पर लोगों ने उन्हे श्रद्धाजली दी और दुख प्रकट किया। कांग्रेस पार्टी की नेता प्रियांका गांधी ने इस निधन पर दुख प्रकट किया और ट्वीट कर अपनी संवेदना व्यक्त की।

राज्य के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने भी दुख प्रकट किया और ट्वीट कर श्रद्धांजली दी।

योगी आदित्यनाथ के पिता आनंद सिंह बिष्ठ उत्तराखंड में फॉरेस्ट विभाग में रेंजर के पद पर कार्यरत थे और 1991 में सेवानिवृत्त होने के बाद से उत्तराखंड के अपने गांव पंचूर में रहने लगे थे। योगी चार भाई और तीन बहन है।

आपकी प्रतिक्रिया...