17 मई तक बढ़ा लॉक डाउन, ऑरेंज और ग्रीन ज़ोन को मिली राहत

  • देश में तीसरी बार बढ़ा लॉक डाउन
  • 17 मई तक रेड जोन को कोई राहत नहीं
  • 3 मई के बाद ऑरेंज और ग्रीन जोन को मिलेगी राहत 
  • पूरे देश के 130 जिलों को रेड जोन किया गया घोषित 

देश में कोरोना वायरस के संक्रमण में धीरे धीरे सुधार देखने को मिल रहा है हालांकि कुछ राज्य ऐसे भी है जहां संक्रमण के बढ़ने की भी खबर है लेकिन अगर पूरे देश के आकड़ों पर नजर डालें तो संक्रमण में कमी देखने को मिल रही है और सुधार की गति तेजी से बढ़ रही है। कोरोना वायरस की स्थिति को देखते हुए सरकार की तरफ से तीसरी बार लॉक डाउन को दो हफ्तों के लिए और बढा दिया गया है। 3 मई को खत्म होने वाला लॉक डाउन अब 17 मई तक के लिए बढ़ाया गया है हालांकि इस दौरान ऑरेंज और ग्रीन इलाकों को कुछ छूट दी जायेगी। सरकार की तरफ से तीसरी बार लॉक डाउन बढाने को लेकर एडवाइजरी भी जारी कर दी गयी है साथ ही जिन जिन इलाकों को छूट मिलने वाली है उनकी भी लिस्ट तैयार की गयी है। सरकार हर हाल में कोरोना का संक्रमण रोकना चाहती है जिससे वह लॉक डाउन पर शुरु से ही ध्यान दे रही है और शायद  यही वजह है कि भारत में बाकी देशों के मुकाबले संक्रमण का खतरा काफी कम है।

केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ से पूरे देश को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में बांट दिया गया है जिससे लॉक डाउन को कम करने या पूरी तरह से हटाने में आसानी होगी साथ ही साथ इससे बाजारों और उद्योंगो को भी शुरु करने में मदद मिलेगी। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय की तरफ पूरे में देश के 130 जिलों को रेड जोन में डाला गया है जबकि 284 जिलों को ऑरेंज जोन में रखा गया है और 319 ऐसे जिले है जहां संक्रमण करीब ना के बराबर है इसलिए इन्हे ग्रीन जोन में डाला गया है। सरकार की तरफ से कुल संक्रमण, संक्रमण बढ़ने की रफ्तार सहित कई जानकारियों के आधार पर जिलों का विभाजन किया गया है। सरकार की तरफ से इसे हर सप्ताह संशोधित भी किया जायेगा और जिन जिलों में संक्रमण की संख्या कम होगी उन्हे ऑरेज या फिर ग्रीन जोन में तब्दील कर दिया जायेगा।
पूरे देश को रेड, ग्रीन और ऑरेज जोन में बांट दिया गया है अब सरकार की तरफ से धीरे धीरे जिंदगी को सुचारू बनाने की कोशिश भी शुरु हो रही है। दूसरे राज्यों में फंसे मजदूरों को घर ले जाने के लिए भी केंद्र सरकार की तरफ से निर्देश जारी कर दिया गया है हालांकि इस दौरान तमाम नियमों का ध्यान रखने के लिए कहा गया है। उत्तर प्रदेश सरकार ने कुछ राज्यों से अपने मजदूरों को बुला भी लिया है और सभी को क्वारंटान भी किया गया है। सरकार के सामने अब लॉक डाउन को खत्म करने की चुनौती है साथ ही संक्रमण पर रोक भी जरुरी है वरना पूरी मेहनत पानी में फिर जायेगी। कोरोना वायरस की वजह से पूरी दुनिया में करीब 2 लाख लोगों की मौत हो चुकी है जबकि सिर्फ भारत में करीब 1200 लोगों की मौत हो चुकी है। महाराष्ट्र अब भी सबसे ज्यादा संक्रमित राज्य है जहां संक्रमित लोगों की संख्या 10 हजार के आकड़े को पार कर चुकी है।
भारत में संक्रमण के खतरे के बाद 25 मार्च को पहली बार सरकार की तरफ से लॉक डाउन का ऐलान किया गया जो 14 अप्रैल तक के लिए लगाया गया था लेकिन हालात काबू में ना आने की वजह से फिर इसे 3 मई तक के लिए बढ़ा दिया गया हालांकि हालात में तो सुधार है लेकिन यह पूरी तरह से ठीक नही हुआ है इसलिए एक बार फिर से लॉक डाउन को आगे बढ़ाया जा रहा है और अब इसे 17 मई तक के लिए लागू किया जा रहा है। इसके साथ ही पूरे देश को रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में बांटा गया है तीसरे लॉक डाउन के दौरान ऑरेंज और ग्रीन जोन को कुछ रियायतें भी मिल रही है लेकिन 17 मई तक रेड जोन के हालात में सुधार नहीं हुआ तो लॉक डाउन के बढ़ने की फिर से उम्मीद की जा सकती है।

आपकी प्रतिक्रिया...