देश में साथ साथ बढ़ रहा संक्रमण और रिकवरी रेट

  • कोरोना रिकवरी रेट 31.15 फीसदी पहुंचा
  • 24 घंटे में 4 हजार से अधिक लोग कोरोना संक्रमित
  • महाराष्ट्र सबसे ज्यादा कोरोना संक्रमित राज्य
  • महाराष्ट्र से पैदल ही अपने राज्य जाने को मजबूर हुए श्रमिक
देश में एक तरफ कोरोना वायरस लगातार बढ़ता जा रहा है तो वहीं दूसरी तरफ डॉक्टरों की कड़ी मेहनत के बाद रिकवरी रेट में भी बढ़ोतरी देखने को मिल रही है। स्वास्थ्य मंत्रालय के संयुक्त सचिव लव अग्रवाल ने जानकारी देते हुए बताया कि सोमवार को रिकवरी रेट 31.15 फीसदी पर पहुंच गया लेकिन इससे पहले कोरोना संक्रमित मरीजों की संख्या में जोरदार बढ़ोतरी देखने को मिली थी। स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक पिछले 24 घंटे में 4000 से अधिक लोगों को में संक्रमण देखने को मिला था हालांकि इस दौरान करीब 1500 से अधिक लोग ठीक भी हुए थे और 100 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है। इसके साथ ही सोमवार को संक्रमित मरीजों की संख्या 67 हजार को पार कर चुकी है।

कोरोना से सबसे प्रभावित राज्य महाराष्ट्र है जहां संक्रमित लोगों की संख्या 22000 तक पहुंच चुकी है जिसमें 800 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है जबकि अब तक 4100 से अधिक लोग स्वस्थ्य हो चुके हैं। महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई भी कोरोना से बुरी तरह से ग्रसित है यहां भी संक्रमित लोगों की संख्या 14000 तक पहुंच चुकी है। महाराष्ट्र पुलिस के जवान भी कोरोना से लगातार ग्रसित होते जा रहे हैं। विपक्ष द्वारा सरकार पर आरोप लगाए जा रहे हैं कि सरकार कोरोना वायरस के खिलाफ कोई ठोस कदम नहीं उठा रही है और केंद्र सरकार द्वारा जारी किए गए लॉक डाउन के सहारे ही चुपचाप पड़ी है। वहीं दूसरे राज्यों के मजदूर पैदल अपने घरों को जाने को मजबूर हैं क्योंकि उन्हें राज्य सरकार की तरफ से कोई मदद नहीं मिल रही है इसलिए मजदूर 1500 किमी की यात्रा करने को विवश है।
महाराष्ट्र के साथ साथ गुजरात, तमिलनाडु और मध्य प्रदेश ऐसे कई ऐसे राज्य हैं जो कोरोना वायरस से बुरी तरह से ग्रसित है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को कोरोनावायरस और लॉक डाउन को लेकर सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों से बैठक की और इस दौरान एक बार फिर से लॉक डाउन को बढ़ाने की मांग रखी गई।

आपकी प्रतिक्रिया...