पालघर साधुओं का केस लड़ रहे वकील की सड़क हादसे में मौत, बीजेपी ने उठाया सवाल

  • पालघर साधुओं के वकील की सड़क हादसे में मौंत
  • दहाणु कोर्ट जाते समय NH 48 पर हुआ हादसा 
  • वकील दिग्विजय त्रिवेदी की मौके पर मौत सहयोगी घायल
  • बीजेपी ने सड़क हादसे पर उठाया सवाल 
पालघर में साधुओं की हत्या का मामला लगातार तूल पकड़ता जा रहा है पहले बिना वजह साधुओं को पीट पीट कर हत्या कर दी गयी और अब साधुओं का केस लड़ने वाले वकील की सड़क दुर्धटना में मौत हो गयी। साधुओं के वकील दिग्विजय त्रिवेदी अपनी कार से दहाणु कोर्ट में मामले की सुनवाई करने जा रहे थे इसी दौरान उनकी कार हादसे का शिकार हो गयी जिसमें उनकी मौके पर ही मौत हो गयी जबकि उनकी कार में सवार उनकी महिला सहयोगी बुरी तरह से घायल हो गयी। पालघर पुलिस ने इस मामले पर ट्वीट कर बताया कि पहली नजर में यह मामला दिग्विजय त्रिवेदी के गाड़ी से नियंत्रण खोने का लगता है लेकिन इसकी जांच की जा रही है। दिग्विजय त्रिवेदी अपनी सहयोगी के साथ अपनी कार से NH48 से दहाणु की तरफ जा रहे थे इसी दौरान उनकी कार डिवाइडर से जा टकरायी जिससे उनकी मौके पर ही मौत हो गयी।

साधुओं के वकील दिग्विजय त्रिवेदी की मौत के बाद अब इस सवाल उठना शुरु हो गया है क्योकि इस सड़क हादसे को हत्या के चश्में से भी देखा जा रहा है। साधुओं की हत्या का मामला पूरे देश में चर्चित हो गया था। उद्धव सरकार को इस मामले पर काफी आलोचना भी झेलनी पड़ी थी हालांकि इस मामले में करीब 100 लोगों को गिरफ्तार किया गया है। साधुओं की हत्या को लेकर चर्चित पत्रकार अर्णब गोस्वामी ने सोनियां गांधी से सवाल किया था जिसके बाद उन पर हमला करवाया गया और अलग अलग राज्यों में अर्णब के खिलाफ मामले भी दर्ज किये गये थे। वहीं देश के बाकी राज्यों के साधुओं ने उद्धव सरकार को धमकी दी थी कि अगर साधुओं की हत्या के मामले में उचित कार्रवाई नहीं हुई तो सभी साधु महाराष्ट्र की तरफ कूच करेंगे।

वकील की मौत के बाद अब बीजेपी ने महाराष्ट्र सरकार पर हमला बोला है। बीजेपी के पार्टी प्रवक्ता संबित पात्रा ने सवाल उठाते हुए कहा कि यह घटना विचलित करने वाली है। लेकिन ऐसा क्यों है कि जो भी पालघर साधुओं की हत्या का मामला उठाता है उस पर कांग्रेस कार्यकर्ताओं द्वारा हमला किया जाता है और मामले दर्ज किये जाते है संबित पात्रा ने कहा कि हालांकि यह जांच का विषय है कि यह मात्र संयोग है या साजिश यह तो अदालत ही तय करेगी। लेकिन वकील दिग्विजय त्रिवेदी की हत्या के बाद से यह मामला और भी गंभीर होता जा रहा है।

आपकी प्रतिक्रिया...