महाराष्ट्र ने विमान सेवा के लिए मांगा समय, कई राज्यों ने भी जताई असहमति

  • महाराष्ट्र सरकार विमान सेवा पर अब भी असहमत
  • उद्धव ठाकरे ने विमान सेवा के लिए मांगा और समय
  • महाराष्ट्र सहित कई गैर बीजेपी राज्यों ने जताई असहमति 
  • रविवार को स्वास्थ्य मंत्रालय ने जारी की नई गाइडलाइन

केंद्र सरकार के विमान सेवा शुरु करने के आदेश के बाद भी महाराष्ट्र सरकार अभी तक इस पर अंतिम फैसला नहीं ले सकी है हालांकि राज्य के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने मीडिया के द्वारा यह जानकारी दे दी है कि वर्तमान हालात को देखते हुए विमान सेवा शुरु करना ठीक नहीं होगा। उद्धव ठाकरे ने कहा कि विमान सेवा शुरु करना जरुरी है और यह महाराष्ट्र सरकार भी चाहती है लेकिन अभी इसके लिए और समय की जरुरत है। महाराष्ट्र में संक्रमण का खतरा 50000 के आकड़े को छूने वाला है और ऐसे में अगर विमान सेवाएं शुरु की जाती है तो फिर इसके बढ़ने की उम्मीद तेजी से होगी।
 
 
महाराष्ट्र में 31 मई से भी आगे बढ़ेगा लॉक डाउन
उद्धव ठाकरे ने अपने संबोधन के दौरान यह भी साफ कर दिया कि 31 मई लॉक डाउन की अंतिम तारीख नहीं होगी इससे और भी आगे बढ़ाया जायेगा। महाराष्ट्र लगातार संक्रमण की चपेट में है और यह लगातार बढ़ता ही जा रहा है। दूसरे राज्यों के लोग लगातार पलायन कर रहे है लेकिन फिर भी राज्य में सक्रमण के केस बढ़ते ही जा रहे है जिससे सरकार की चिंता कम होने का नाम नहीं ले रही है। उद्धव ठाकरे ने कहा कि आने वाले दिन हमारे लिए महत्वपूर्ण रहने वाले है इसलिए हर कदम को बड़ी ही समझदारी से उठाना होगा।
 
गैर बीजेपी राज्यों की विमान सेवा पर असहमति
केंद्र के विमान सेवा शुरु करने के फैसले पर गैरबीजेपी राज्यों से सहमित नहीं बन पा रही है पहले महाराष्ट्र फिर छत्तीसगढ़ और अब पश्चिम बंगाल की तरफ से भी विमान सेवा शुरु करने को लेकर विरोध में बयान आ रहे है। महाराष्ट्र सरकार ने संक्रमण का हवाला देते हुए कहा कि विमान सेवा शुरु करने के लिए अभी और वक्त की जरुरत है जबकि छत्तीसगढ़ और पश्चिम बंगाल की तरफ से कहा गया कि केंद्र ने विमान सेवा शुरु करने को लेकर अभी तक सही सही जानकारी साझा नहीं की है इसलिए हम इसे शुरु करने को लेकर अंतिम फैसला नहीं ले पा रहे है।

विमान सेवा के लिए नई गाइडलाइन जारी
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने भी रविवार को हवाई यात्रा को लेकर नई गाइड लाइन जारी कर दी। नई गाइड लाइन में राज्यों को अधिकार दिया गया है कि वह यात्रियों के स्वास्थ्य के अनुसार उन पर फैसला ले सकते है लेकिन सभी को हवाई यात्रा के बाद बाहर निकलने से पहले थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना होगा और 14 दिनों तक खुद को आइसोलेट करना होगा अगर इस दौरान कोई भी लक्षण नजर आते है तो फिर उन्हे जिला चिकित्सालय या बाहर कहीं इलाज के लिए बाहर ले जाया जायेगा। इसके साथ ही सभी को यात्रा के दौरान मास्क, आरोग्य सेतु एप और सोशल डिस्टेंसिग का पालन करना होगा।

आपकी प्रतिक्रिया...