हिंदी विवेक : we work for better world...

रजवाड़ों और महलों का राज्य कहा जाने वाला राजस्थान एक बार फिर लगातार सुर्खियां बटोर रहा है,पर इस बार प्रदेश सरकार की महत्वाकांक्षी योजनाओं के सफल क्रियान्वयन के लिए देश-विदेश में मिल रही सराहनाओं के लिए। हिंदी विवेक के साथ बातचीत के दौरान राज्य की मुख्यमंत्री वसुंधरा राजे ने राज्य सरकार की योजनाओं और अगले वर्ष होने वाले विधानसभा चुनाव पर खुलकर चर्चा की। प्रस्तुत है चर्चा के कुछ संपादित अंश।

 

राजस्थान में आपके नेतृत्व वाली सरकार को लगभग साढ़े तीन वर्ष का समय हो गया है। इन साढ़े तीन सालों के कामकाज को आप किस रूप में देखती हैं?
हमने पूरी मेहनत के साथ राजस्थान के लोगों की अपेक्षाओं और आकांक्षाओं पर खरा उतरने का प्रयास किया है। आकलन तो जनता करेगी लेकिन हमने सिर्फ राजधानी में बैठकर सरकार नहीं चलाई बल्कि गांव-ढाणी में पहुंचकर लोगों की तकलीफों को समझा और उन्हें दूर करने की दिल से कोशिश की है। इसी का परिणाम है कि आज कई राष्ट्रीय एवं अन्तर्राष्ट्रीय बैंचमार्क पर हमारे काम को सराहा जा रहा है।

सरकार की कोई तीन बड़ी उपलब्धियां जिनको देश- विदेश में सराहा गया हो ?
हमारी सरकार ने राजस्थान को सतत् एवं सुस्थिर विकास की ओर बढ़ाने का प्रयास किया है। मुझे पूरा विश्वास है कि हमारी योजनाएं इस दिशा में मील का पत्थर साबित होंगी और राजस्थान को सफलता के नए शिखर पर ले जाएंगी। हमारी हर योजना का केन्द्र बिंदु प्रदेश का वह गरीब, वंचित और पिछड़ा तबका है, जो आजादी के बाद से आज तक मूलभूत सुविधाएं भी नहीं जुटा पाया। ‘भामाशाह‘ जैसी योजनाओं ने इस वर्ग को सम्बल प्रदान किया है। आमजन इन योजनाओं से राहत महसूस कर रहा है। ‘भामाशाह योजना‘ के माध्यम से बिना किसी मध्यस्थ के सरकारी योजनाओं का शत-प्रतिशत पैसा सीधा जनता तक पहुंच रहा है। इस योजना में अब तक १ करोड़ ४० लाख से अधिक परिवारों और ५ करोड़ ८ लाख से अधिक व्यक्तियों का पंजीकरण किया गया है। अब तक ६७३६ करोड़ से ज्यादा की रकम सीधे बैंक खातों में जमा कराई गई है। ‘भामाशाह स्वास्थ्य बीमा योजना‘ में अब तक १० लाख से अधिक लोगों को मुफ्त इलाज मिला है। राजस्थान में पानी के भीषण संकट को देखते हुए हमने ‘मुख्यमंत्री जल स्वावलम्बन अभियान‘ की शुरुआत की। इस अभियान को न केवल देश के दूसरे राज्यों बल्कि विदेशों ने भी सराहा है।

विधानसभा चुनाव में करीब सवा साल बचा है। ऐसे में आपकी प्राथमिकताएं क्या हैं ?
हम चुनाव को ध्यान में रखकर काम नहीं करते। जनता की उम्मीदों पर खरा उतरना महत्वपूर्ण है। सुराज संकल्प पत्र की करीब तीन-चौथाई घोषणाओं को हम पूरा कर चुके हैं। जनता से किए सभी वादों को पूरा करना, उन्हें सुशासन देना हमेशा हमारी प्राथमिकता रही है और आगे भी यही प्राथमिकता है।

राजस्थान राज्य में बेरोजगारी एक बड़ी समस्या है। ऐसे में सरकार ने युवाओं को बेराजगारी से निजात दिलाने के लिए क्या कदम उठाए हैं ?
हमारी सरकार की कोशिश रही है कि हमारे युवा जॉब सीकर नहीं जॉब क्रियेटर बनें। हमने युवाओं को रोजगार देने के साथ-साथ उनका कौशल विकास कर उन्हें अपने पैरों पर खड़ा होना सिखाया है। हमारी सरकार ने रोजगार के ११ लाख अवसर उपलब्ध कराए। इनमें एक लाख से अधिक नौकरियां सरकारी क्षेत्र में दी गई और इतनी ही सरकारी नौकरियां प्रक्रिया में हैं।

राज्य में निवेश को लाने के लिए सरकार ने ‘रिसर्जेंट राजस्थान‘ का आयोजन किया था। क्या उम्मीद के अनुसार निवेश आया है ?
यह हमारे लिए गौरव की बात है कि राजस्थान के उद्योगपति दुनिया के हर कोने में अपना लोहा मनवा रहे हैं। पिछले कार्यकाल में भी हमने निवेश को आकर्षित करने के लिए ‘रिसर्जेंट राजस्थान पार्टनरशिप समिट‘ का आयोजन किया था। इस बार भी हमने यह महत्वपूर्ण कार्यक्रम आयोजित किया जिसमें ३ लाख ३८ हजार करोड़ रूपये के एमओयू किये गए।
मुझे यह बताते हुए खुशी है कि इनमे से करीब ८४ हजार करोड़ का निवेश धरातल पर आने की प्रक्रिया में है। इसके अलावा सौर ऊर्जा के प्रोजेक्ट भी हैं, जिनको मूर्त रूप देने में लम्बा समय लगता है। हमने उद्यमियों के लिए अनुकूल माहौल बनाने के लिए ‘राजस्थान निवेश प्रोत्साहन योजना २०१४,‘ ‘स्टार्टअप पॉलिसी २०१५‘ सहित कई नीतियां भी लागू की हैं, जिनके सकारात्मक परिणाम आ रहे हैं। राज्य के हितों की अनदेखी कर रिफाइनरी के लिए पूर्ववर्ती सरकार ने जो एमओयू किया था, हमने पुनःमध्यस्थता कर नई शर्तों पर फिर से एमओयू किया जिससे राजकोष पर पड़ने वाले भार में ४० हजार करोड़ रूपये की कमी आएगी।

पर्यटन उद्योग के विकास में कौन से महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए हैं? उसके असर बताएं?
राजस्थान के गांव, कस्बे और शहर यहां के वैभवशाली इतिहास की अनूठी विरासत समेटे हुए हैं। पर्यटन क्षेत्र में वह क्षमता है जिसके माध्यम से प्रदेश को समृद्धि के शिखर पर पहुंचाया जा सकता है। हमने पर्यटन में छिपी असीम संभावनाओं को साकार करने के लिये ग्लोबल ट्यूरिज्म कैम्पेन ’जाने क्या दिख जाये’ शुरू किया जिससे राजस्थान में आने वाले पर्यटकों की संख्या में १७ प्रतिशत की वृद्धि हुई है। लेकिन हमें इस संख्या को कई गुना बढ़ाना है। पर्यटन के क्षेत्र में राजस्थान के युवाओं को विश्वस्तरीय कौशल का प्रशिक्षण देकर उन्हें अपने पांव पर खड़ा करने के प्रयास भी हम कर रहे हैं। इसी दिशा में हमने उदयपुर में सिंगापुर की सहभागिता से सेंटर फॉर एक्सीलेंस इन ट्यूरिज्म ट्रेनिंग स्थापित किया है।

राजस्थान राज्य का किसान खुशहाल है? इस पर आपका क्या कहना चाहेंगी ?
कृषि तथा पशुपालन हमारे राज्य की अर्थव्यवस्था का प्रमुख आधार हैं। हमारे अन्नदाता किसान तथा पशुपालक भाई कृषि तथा नवीन तकनीकों को अपनाकर खुशहाल बनें, इसके लिए हमने ग्लोबल राजस्थान एग्रीटेक मीट (ग्राम) का ऐतिहासिक आयोजन किया। निश्चित रूप से इस आयोजन का फायदा हमारे प्रदेश के लाखों किसानों और पशुपालकों को होगा। ग्राम में ४४०० करोड़ रुपये के एमओयू हुए। आजादी के बाद संभवत: पहली बार किसी राज्य सरकार ने ऐसा आयोजन किया जिसमें केन्द्र बिन्दु किसान था। अब हम ग्राम को संभागों में भी ले जा रहे हैं। कोटा में २४ मई से यह आयोजन होने जा रहा है।

भाजपा के शीर्ष नेतृत्व और राज्य सरकार में समान धरातल पर विचार होता है?
संगठन हमारे लिए मार्गदर्शक, प्रेरणास्रोत और शक्तिपुंज रहा है। राष्ट्रीय अध्यक्ष श्री अमित शाह जी का हमें सतत् मार्गदर्शन मिलता रहा है। राजस्थान में सरकार और संगठन में पूर्ण समन्वय है, जिससे सरकार तेज गति से प्रभावी फैसले ले पा रही है साथ ही साथ इन निर्णयों का क्रियान्वयन और मॉनिटरिंग भी बेहतर ढंग से हो रही है।

केन्द्र सरकार का राज्य के विकास में योगदान किस प्रकार प्राप्त हो रहा है ?
हमारी सरकार प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के विजन के अनुरूप ‘सबका साथ-सबका विकास‘ की भावना के साथ कार्य कर रही है। प्रधानमंत्री जी के नेतृत्व में देश के विकास को एक नई दिशा मिल रही है और राजस्थान भी कंधे से कंधा मिलाकर उनके विजन के अनुरूप कार्य कर रहा है।

केन्द्र और सरकार के साझा कार्य का उदाहरण प्रस्तुत कीजिये?
केन्द्र सरकार की केन्द्रीय प्रवर्तित योजनाओं को लागू करने में प्रदेश अग्रणी भूमिका निभा रहा है। स्वच्छ भारत मिशन में शौचालय निर्माण में राजस्थान प्रथम स्थान पर है। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत राजस्थान में २०१८-१९ तक ६.७५ लाख आवास निर्माण का लक्ष्य रखा गया है। हमारी सरकार ने प्रदेश में किसानों को ३७ लाख मृदा स्वास्थ्य कार्ड उपलब्ध कराए हैं। प्रदेश में स्मार्ट सिटी परियोजना के तहत जयपुर, उदयपुर, अजमेर एवं कोटा में तेजी से कार्य चल रहा है।
इसमें स्मार्ट मोबिलिटी, स्मार्ट हेरिटेज व टूरिज्म, स्मार्ट इन्फ्रास्ट्रक्चर, स्मार्ट सोलिड वेस्ट मैनेजमेन्ट, स्मार्ट वाटर सप्लाई, स्मार्ट पार्किंग, सोलर रूफ टॉप पावर प्लान्ट जैसे काम करवाए जा रहे हैं।

२०२२ में देश की स्वतंत्रता को ७५ साल पूर्ण हो रहे है, प्रधानमंत्री मा. नरेंद्र मोदी जी ने भारत को सामर्थ्यशाली बनाने का सपना देश के सामने रखा है। आपका राज्य इस सपने को पूरा करने मे किस प्रकार योगदान दे रहा है ?
राजस्थान में वर्ष २०२२ तक किसानों की आय दोगुनी करने के लिए रोडमैप तैयार किया गया है। जिसमें खेती की लागत कम करना, उत्पादन बढ़ाना, बाजार की जरूरतों के अनुरूप उत्पादन, मार्केटिंग और प्रोसेसिंग सुविधाओं को बढ़ाना, कम पानी वाली फसलों को बढ़ावा देना आदि उपाय शामिल हैं। मुझे यह बताते हुए खुशी है कि राजस्थान प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना का सर्वाधिक कवरेज वाला राज्य है।
वर्ष २०२२ तक हर गरीब व्यक्ति को अपना पक्का घर मुहैया कराने के प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के सपने को साकार करने के लिए भी हम पूरे प्रयास कर रहे हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) में एक लाख पचास हजार आवासों की स्वीकृति तो जारी भी हो चुकी है तथा चार लाख लाभार्थियों के रजिस्ट्रेशन हो चुके हैं। हमने सस्ते आवास उपलब्ध कराने के लिए निजी क्षेत्र की भागीदारी वाली मुख्यमंत्री जन आवास योजना शुरू की है। प्रधानमंत्री जी के २०२२ तक १ लाख मेगावाट सौर उर्जा उत्पादन के लक्ष्य के लिए भी राजस्थान तेजी से आगे बढ़ रहा है।

भविष्य में हो रहे चुनावों में आपकी सरकार फिर सत्ता में आएगी, इस बारे में आपका क्या कहना है?
प्रदेश में २०१८ में होने जा रहे विधानसभा चुनाव के लिए हमने मिशन १८० प्लस और २०१९ में लोकसभा चुनाव के लिए मिशन-२५ का लक्ष्य रखा है। धौलपुर विधानसभा उपचुनाव में ३८ हजार से अधिक मतों से मिली ऐतिहासिक जीत से स्पष्ट है कि प्रदेश की जनता अगले चुनाव में भाजपा को ऐतिहासिक जनादेश का पूरा मन बना चुकी है।

ऐसी कौन सी उपलब्धियां हैं, जिस कारण भाजपा को राज्य की जनता फिर से सत्ता में लाएगी?
बहुत सारी उपलब्धियों की चर्चा मैं पहले ही कर चुकी हूं। फिर भी इतना जरूर कहूंगी कि हमने इतना काम किया है कि जनता हमें फिर से मौका देगी और हम इस बार जीत के पिछले सारे रिकॉर्ड ध्वस्त कर देंगे।

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu