हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

शाहीनबाग जैसे आंदोलनों की समाप्ति के लिए सेना जरुरी -सुब्रह्मण्यम स्वामी  

Continue Reading

वरिष्ठ राजनीतिज्ञ सुब्रमण्यम स्वामी जी अपने बेबाक विचारों के लिये जाने जाते हैं। वर्तमान में सीएए, शाहीनबाग के प्रदर्शन, दिल्ली दंगे तथा राम मंदिर जैसे विभिन्न मुद्दों पर सुब्रमण्यम स्वामी जी ने हिंदी विवेक को दिये गए साक्षात्कार में अपनी वहीं बेबाक राय रखी। प्रस्तुत है उस साक्षात्कार के कुछ प्रमुख अंश

‘सेव वाटर’ भी राष्ट्रीय अभियान बने – संदीप आसोलकर चेयरमैन, एसएफसी एन्वायरमेन्टल टेक्नोलॉजीस प्रा. लि.

Continue Reading

नए भारत में ‘सेव टाइगर’ की तरह ‘सेव वाटर’ अभियान भी चलाना चाहिए। प्राकृतिक स्रोतों की रक्षा के साथ सीवेज वाटर पर पुनर्प्रक्रिया में तेजी आनी चाहिए। मोदी सरकार ने इस दिशा में जलशक्ति मंत्रालय बनाकर पहल की है। प्रस्तुत है एसएफसी एन्वायरमेन्टल टेक्नोलॉजीस प्रा. लि. के डायरेक्टर संदीप आसोलकर के साथ नया भारत और जल संरक्षण पर हुई विशेष बातचीत के महत्वपूर्ण अंशः-

महिलाएं याचना नहीं, नेतृत्व करें – मा. शांताक्का प्रमुख संचालिका, राष्ट्र सेविका समिति

Continue Reading

राष्ट्र सेविका समिति की प्रमुख संचालिका मा. शांताक्का का नए भारत की महिलाओं को आवाहन है कि वे घिघियाना छोड़ दें और अपने भीतर ऐसी शक्ति पैदा करें कि हम नेतृत्व कर सकें। उनसे समिति के कार्यों, नए भारत में महिलाओं की स्थिति आदि पर हुई विशेष बातचीत के महत्वपूर्ण अंश-

नए भारत की इबारत युवा ही लिखेंगे – आशीष चौहान, राष्ट्रीय महामंत्री, अभाविप

Continue Reading

अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद के राष्ट्रीय महामंत्री श्री आशीष चौहान को यकीन है कि नए भारत की संरचना युवाओं के जरिए ही निर्मित होगी। उनसे हुई विशेष बातचीत में उन्होंने प्रस्तावित नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति, युवाओं की समस्याओं और कर्तव्यों, भाषा समस्या, जेएनयू आदि की भी चर्चा की। प्रस्तुत है महत्वपूर्ण अंश-

रा.स्व.संघ राष्ट्रनीति करता है राजनीति नहीं……रा.स्व.संघ के अखिल भारतीय सम्पर्क प्रमुख मा. अनिरुद्ध देशपांडे जी

Continue Reading

रा.स्व.संघ के अखिल भारतीय सम्पर्क प्रमुख मा. अनिरुद्ध देशपांडे जी ने ‘हिंदी विवेक’ से हुई एक प्रदीर्घ भेंटवार्ता में नए भारत की संकल्पना, संघ-कार्यों के विस्तार और 2025 में संघ शताब्दी, राजनीति और राष्ट्रनीति पर अपने विचार रखे। उन्होंने राम मंदिर निर्माण, धारा 370, आतंकवाद, नक्सलवाद, समान नागरिक संहिता जैसी देश के समक्ष मौजूद समस्याओं पर भी संघ की भूमिका स्पष्ट की। प्रस्तुत है महत्वपूर्ण अंश-

जनसेवा का व्रतकभी नहीं टूटेगा

Continue Reading

मुंबई से सर्वाधिक वोटों से जीते गोपाल शेट्टी अपनी विजय का श्रेय मोदीजी -अमित शाह- देवेंद्र फडणवीस के नेतृत्व के साथ ही अपने विकास कार्यों को भी देते हैं। जनसेवा का व्रत लेकर वे राजनीति में आए। यह व्रत कभी नहीं टूटा, और न आगे भी टूटेगा। इस विजय के अवसर पर उनसे मुंबई की समस्याओं, शिक्षा संस्थाओं, उनके विकास कार्यों पर हुई विशेष बातचीत के महत्वपूर्ण अंश-

राष्ट्र को सर्वोपरि मानने वाला राजनैतिक समूह सत्ता में आए- मा. भैयाजी जोशी सरकार्यवाह ,रा.स्व.संघ

Continue Reading

“देश को सर्वोपरि मानने वाला, देश के हित में सोचने वाला राजनैतिक समूह केंद्र सरकार की बागड़ोर सम्भाले यही संघ की इच्छा है। संकुचित बातों से ऊपर उठकर देश हित में सोचने वाला राजनैतिक समूह सत्ता में आना चाहिए।”, रा.स्व.संघ के सरकार्यवाह मा. भैयाजी जोशी ने ‘हिंदी विवेक’ के साथ एक विशेष साक्षात्कार में यह भी कहा, “चुनाव में भाषा और आचरण का संयम होना चाहिए। संवाद के जरिए चर्चा हो और चुनाव खत्म होते ही कटुता भी खत्म हो।” प्रस्तुत है इस बातचीत के महत्वपूर्ण अंश-

संघ द्वेष से पुष्पवर्षा तक बदलता मुस्लिम मानस

Continue Reading

भारतीय मुस्लिम मुल्ला-मौलवियों के शिकंजे से त्रस्त हो चुके हैं और देश की मुख्य धारा में आना चाहते हैं, आने की कोशिश भी कर रहे हैं। संघ के प्रति उनके नजरिये में अब बहुत बदलाव आ गया है। संघ से उनकी दूरी घटती जा रही है। ऐसे एवं रामजन्मभूमि, पाकिस्तान, मदरसे की शिक्षा आदि ज्वलंत प्रश्नों पर मुस्लिम राष्ट्रीय मंच के संयोजक इंद्रेश जी से हुई विशेष भेंटवार्ता के महत्वपूर्ण अंशः-

जो भी करूंगा, पशुओं के लिए करूंगा… – गणेश नायक

Continue Reading

पर्यावरण, वन्य एवं अन्य प्राणियों की सेवा, सुरक्षा और चिकित्सा में अपना जीवन समर्पित करने वाले तथा जानवरों की संवेदना, पीड़ा व प्रेम की मूक भाषा समझने वाले  पशुप्रेमी श्री गणेश नायक ने ‘हिंदी विवेक’ को दिए विशेष साक्षात्कार में इस विषय के महत्वपूर्ण मुद्दों को रेखांकित किया है। पेश…

हवाई जहाज भारत में निर्मित करना मेरा सपना – कैप्टन अमोल यादव

Continue Reading

यह सुनकर आप चकित होंगे कि भारत में नागरी विमानों की निर्मिति ही नहीं होती। ये विमान विदेश से आयात किए जाते हैं। इसलिए धुन के पक्के कैप्टन अमोल यादव ने एक सपना देखा- देश में ही विमान बनवाने का। इस सपने का पीछा करते हुए उन्होंने जो संघर्ष यात्रा…

End of content

No more pages to load

Close Menu