युवाओ उठो, अपनी असीम शक्ति को जगाओ

Continue Reading युवाओ उठो, अपनी असीम शक्ति को जगाओ

“युवाओ, तुम्हारे अंदर असीम शक्ति है। तुम्हें शक्तिशाली बनना है। अन्यथा तुम किसी भी वस्तु पर विजय कैसे प्राप्त करोगे? अपने अंदर झांको और उन गुणों को देखो, जो समाज और राष्ट्र के लिए उपयोगी हो सकते हैं, उन्हें और विकसित करना चाहिए। कोई दूसरा हमें नहीं सुधार सकता, हमें…

सर्व समावेशी हिंदुत्व का सन्देश‡ स्वामी विवेकानंद

Continue Reading सर्व समावेशी हिंदुत्व का सन्देश‡ स्वामी विवेकानंद

प्रस्तुत लेख स्वामी विवेकानंद के विभिन्न अवसरों पर दिये उद्बोधनों का अंश मात्र है, इसमें संकलनकर्ता ने अपनी ओर से एक शब्द भी नहीं जोड़ा है।

सामाजिक समरसता के पुरोधा स्वामी विवेकानंद

Continue Reading सामाजिक समरसता के पुरोधा स्वामी विवेकानंद

भारत की दुरावस्था का कारण और निदान स्वामी जी की दृष्टि में- स्वामी विवेकानंद जी की मान्यता थी की भारतीय जीवन दर्शन दुनिया में सर्वश्रेष्ठ है। इतने श्रेष्ठ जीवन दर्शन के बाद भी सामाजिक विषमता की खाई देखकर उन्हें गहन वेदना होती थी।

End of content

No more pages to load