वास्तुशास्त्र और खेती-बाड़ी

Continue Reading  वास्तुशास्त्र और खेती-बाड़ी

 प्राचीन काल में भारत में नगर नियोजन पर वास्तुशास्त्र के ग्रिड पैटर्न आधारित था| वास्तुशास्त्र के अन्य नियमों का भी पूरी श्रद्धा से पालन किया जाता था| इसीलिए भारत विश्व गुरु और सोने की चिड़िया था, परन्तु आज प्रायः देश के गांवों में गलियां, घर और खेत भी टेढ़े-मेढ़े बने हुए हैं| यह समृद्धि के विरोध में है|

 वास्तुशास्त्र और ऊर्जा संरक्षण

Continue Reading  वास्तुशास्त्र और ऊर्जा संरक्षण

ऊर्जा संरक्षण के विभिन्न उपायों के क्रम में वास्तुशास्त्र में बताए गए उपाय करने से न केवल ऊर्जा का संरक्षण करने में ही मदद मिलती है; अपितु हमारा जीवन भी अधिक स्वस्थ, सुखी और समृद्ध होता चला जाता है।

End of content

No more pages to load