वीर सावरकर के प्रखर विचारों की स्वीकार्यता

Continue Readingवीर सावरकर के प्रखर विचारों की स्वीकार्यता

निर्भयता, निडरता, निर्भीकता इन सब का पर्यायवाची शब्द हैं – वीर सावरकर। इस सामान्य कद – काठी के व्यक्ति में असामान्य और अद्भुत धैर्य था। अपने ८३ वर्ष के जीवन में वे किसी से नहीं डरे। २२ जून, १८९७ को, जब चाफेकर बंधुओं ने अत्याचारी अंग्रेज़ अफसर रॅंड को गोली…

युवा बलिदानी अनंत लक्ष्मण कान्हेरे

Continue Readingयुवा बलिदानी अनंत लक्ष्मण कान्हेरे

भारत माँ की कोख कभी सपूतों से खाली नहीं रही। ऐसा ही एक सपूत थे अनंत लक्ष्मण कान्हेरे, जिन्होंने देश की स्वतन्त्रता के लिए केवल 19 साल की युवावस्था में ही फाँसी के फन्दे को चूम लिया। महाराष्ट्र के नासिक नगर में उन दिनों जैक्सन नामक अंग्रेज जिलाधीश कार्यरत था।…

End of content

No more pages to load