वीर सावरकर के प्रखर विचारों की स्वीकार्यता

Continue Readingवीर सावरकर के प्रखर विचारों की स्वीकार्यता

निर्भयता, निडरता, निर्भीकता इन सब का पर्यायवाची शब्द हैं – वीर सावरकर। इस सामान्य कद – काठी के व्यक्ति में असामान्य और अद्भुत धैर्य था। अपने ८३ वर्ष के जीवन में वे किसी से नहीं डरे। २२ जून, १८९७ को, जब चाफेकर बंधुओं ने अत्याचारी अंग्रेज़ अफसर रॅंड को गोली…

चीन के कर्जजाल से हलकान श्रीलंका

Continue Readingचीन के कर्जजाल से हलकान श्रीलंका

श्रीलंका बुरे दौर से गुजर रहा हैं। कितना बुरा ? पूरे देश के पास सिर्फ आज के लिये पेट्रोल - डीजल हैं। आज १७ मई से देश मे ८०% से ज्यादा निजी बसे चलना बंद हो जाएंगी। श्रीलंका के समुद्री क्षेत्र मे पिछले चालीस दिनों से ३ बडे जहाज, जिनमे…

डॉ. आंबेडकर जी से गद्दारी करने वाली कांग्रेस

Continue Readingडॉ. आंबेडकर जी से गद्दारी करने वाली कांग्रेस

आज १४ अप्रैल  डॉ. बाबासाहब आंबेडकर जी की जयंती। कांग्रेस के नेता आज डॉ. आंबेडकर जी की प्रतिमा पर माला डालने अवश्य आएंगे। उन्हें रोकिये। उनका कोई अधिकार नहीं हैं बाबासाहब जी की प्रतिमा पर माल्यार्पण करने का। जिस कांग्रेस ने जीते जी आंबेडकर जी को जलील किया, उनकी उपेक्षा…

‘द कश्मीर फाइल्स’ – आरंभ हैं प्रचंड

Continue Reading‘द कश्मीर फाइल्स’ – आरंभ हैं प्रचंड

यह राष्ट्रवाद की जीत हैं। एक नया विमर्श गढ़ने जा रहा हैं। आज तक जिस सच को राजनेताओं और मीडिया ने छिपा के रखा था, उसे विवेक अग्निहोत्री जी ने ‘द कश्मीर फाईल्स’ के माध्यम से अत्यंत प्रभावी तरीके से सामने लाया हैं। ‘कश्मीर फाईल्स’ हिट हैं। जबरदस्त हिट हैं।…

स्वामी विवेकानन्द जी की राष्ट्रीय प्रेरणा

Continue Readingस्वामी विवेकानन्द जी की राष्ट्रीय प्रेरणा

सन १८६३ के प्रारंभ में, १२ जनवरी को स्वामी विवेकानंद का जन्म हुआ हैं उस समय देश की परिस्थिति कैसी थी? १८५७ के क्रन्तियुध्द की ज्वालाएं बुझ रही थी।  यह युध्द छापामार शैली में लगभग १८५९ तक चला। अर्थात स्वामी विवेकानंद के जन्म के लगभग ४ वर्ष पहले तक इस…

धनतेरस और ‘राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस’

Continue Readingधनतेरस और ‘राष्ट्रीय आयुर्वेद दिवस’

हाईडलबर्ग जर्मनी का एक छोटा सा शहर है. इसकी जनसंख्या केवल डेढ़ लाख है. परन्तु यह शहर जर्मनी में वहां की शिक्षा पद्धति के ‘मायके’ के रूप में प्रसिद्ध है, क्योंकि यूरोप का पहला विश्वविद्यालय सन १३८६ में इसी शहर में प्रारम्भ हुआ था. इस हाईडलबर्ग शहर के पास ही एक…

आत्मनिर्भर भारत

Continue Readingआत्मनिर्भर भारत

एक हजार वर्ष पहले, वैश्विक बाजार में, हम जिस शिखर को छू रहे थे, उसकी ओर जाने का मार्ग अब दिखने लगा है। यह ‘आत्मनिर्भर भारत अभियान’, हमारे देश का चित्र और हमारा भविष्य बदलने की ताकत रखता है।

जिजीविषा, तेरा नाम इजराइल!

Continue Readingजिजीविषा, तेरा नाम इजराइल!

इजराइल। जीवटता, जिजीविषा और स्वाभिमान का जीवंत प्रतीक है। रेगिस्तान में खेती से लेकर तकनीकी, फौजी और भाषा के मामले में इजराइल ने जो मिसाल कायम की है उसका विश्व में दूसरा उदाहरण दुर्लभ है। दुनिया का छोटा तथा नवीन देश होने के बावजूद इजराईल ने हर क्षेत्र में एक मिसाल कायम की है।  इस दुनिया में मात्र दो ही देश धर्म के नाम पर अलग हुए हैं। या यूं कहे, धर्म के नाम पर नए बने हैं। वे हैं, पाकिस्तान और इजराइल। दोनों के बीच महज कुछ ही महीनों का अंतर हैं। पाकिस्तान बना १४ अगस्त, १९४७ के दिन। और इसके ठीक नौ महीने क

नंदनवन उ़जड रहा है….

Continue Readingनंदनवन उ़जड रहा है….

वह दुनिया का सब से खूबसूरत पनाहगार था। हरीभरी वादियां, मन को तरोताजा करने वाला मस्तमौला मौसम, हिमधवल पर्वतों से आकाश को छूने वाला वह धरती का स्वर्ग था... भारत माता का वह उन्नत मस्तक था...! वह अखंड कश्मीर था...! पर १९४७ के विभाजन ने सब कुछ बदल दिया। सबकु

विकसित देशों के विकसित गांव…!

Continue Readingविकसित देशों के विकसित गांव…!

अपने देश के बाहर का पहला गांव देखने का सौभाग्य मुझे मिला था, आज से लगभग तीस वर्ष पूर्व। मैं जापान में ‘स्वीचिंगसिस्टम’ के प्रशिक्षण के लिए गया था। कुछ महीने जापान में रहने का अवसर मिला था। मेरा अधिकतम समय बीता था, टोकियो में। लेकिन लगभग दो स

जल प्रबंध की हमारी श्रेष्ठ प्राचीन परंपरा

Continue Readingजल प्रबंध की हमारी श्रेष्ठ प्राचीन परंपरा

हमारा देश किसी समय ‘सुजलाम्, सुफलाम्’ था, विश्व के अर्थतंत्र का सिरमौर था, क्योंकि हमारा जल व्यवस्थापन अत्यंत ऊँचे दर्जे का था। इसकी विकसित तकनीक हमें अवगत थी। इसकी विस्मृति का हमें आज खामियाजा भुगतना पड़ रहा है।

भारतीय उद्योग बुलंदियों को छूने तैयार!

Continue Readingभारतीय उद्योग बुलंदियों को छूने तैयार!

आज हमारा विदेशी मुद्रा भंडार 350 बिलियन अमेरिकी डॉलर है, जो चीन के विदेशी मुद्रा भण्डार का लगभग एक दहाई है। इसीलिए ‘मेक इन इंडिया’ का महत्व सामने आता है। इस अभियान से अगले दो-तीन वर्षों में हमारा अंतरराष्ट्रीय व्यापार घाटा तो कम होगा ही, साथ ही साथ विदेशी मुद्रा भण्डार भी बढ़ेगा। ...उद्योग जगत की जबरदस्त संभावनाओं के बीच हम आगे बढ़ रहे हैं।

End of content

No more pages to load