हिंदी विवेक : WE WORK FOR A BETTER WORLD...

नियमित रूप से आसन और प्राणायाम का अभ्यास करके लोगों को उच्च रक्तचाप एवं हृदय संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलाया जा सकता है। व्यक्ति अपने फेफड़ों की क्षमता विकसित कर सकता है, मानव शरीर को शुद्ध और श्वसन प्रणाली एवं तंत्रिकाओं को भी साफ किया जा सकता है।

योग क्या है?

योग एक प्राचीन विज्ञान है, ईश्वर शिव को प्रथम महान योगी बताया गया है। योग में मानवता के लिए एक संपूर्ण संदेश है। इसमें मानव शरीर, मानव मन एवं मानव आत्मा के लिए एक संदेश है।

योग शब्द संस्कृत मूल (युज) से लिया गया है। इसका अर्थ मिलना, एकजुट होना है। आत्मा को प्रभु से मिलाने के लिए। ईश्वर के साथ मन का मिलन। पतंजलि योग के चित्तवृत्ति निरोध के अनुसार। ईश्वर कृष्ण ने योग को योग कर्मसु कौशलम् और समत्वम् योग उच्यते के रूप में परिभाषित किया – गीता।

योग सबसे पुराना ज्ञात विज्ञान है

योग भारत का सबसे प्राचीन विज्ञान है। यह शारीरिक, मानसिक और आध्यात्मिक विकास का विज्ञान है। यह मानव व्यक्तित्व के सर्वांगीण विकास के लिए एक वैज्ञानिक तकनीक है। वास्तव में यह मानव जीवन के लिए सबसे महत्वपूर्ण पहलुओं का गठन करता है। इसलिए इसे विज्ञान कहा जा सकता है जो मानव जाति के समान प्राचीन है।

क्या और क्यों योग?

स्वस्थ रहने के लिए सभी प्रकार के कारणों से हम योग का अभ्यास कर सकते हैं: स्वस्थ रहने के लिए या अच्छे स्वास्थ्य के लिए, अपने तंत्रिका तंत्र को संतुलित करने के लिए, अपने व्यस्त दिमाग को शांत करने के लिए और अधिक सार्थक तरीके से जीने के लिए। ये सभी लक्ष्य हमारे ध्यान और खोज के योग्य हैं।

बहुत समय पहले, योग के आचार्यों ने माना कि हम तब तक पूरी तरह से संतुष्ट नहीं हो सकते जब तक हमें सुख और दुख से परे आनंद का स्रोत नहीं मिल जाता। हम आसानी से पता लगा सकते हैं कि क्या हम वास्तव में संतुष्ट हैं और खुश हैं जब हम अपनी नौकरी खो देते हैं, हमारी शादी टूट जाती है, या एक अच्छा दोस्त अचानक हमारे विरुद्ध हो जाता है। आत्मज्ञान होने पर जब चेतना सभी मानसिक अनुकूलन से मुक्त होती है, तो न तो सुख और न ही दुख हमारी आंतरिक स्वतंत्रता को कम कर पाएगा। हम शुद्ध चेतना हैं और सभी चीजों के स्रोत के साथ हैं। इसे ही योग परंपरा आत्मानुभूति कहती है। स्वयं या आत्मा, परम चैतन्य, अमर, सदा मुक्त और अकस्मात आनंदित है।

योग के दृष्टिकोण से, इससे उच्चतर उपलब्धि कोई नहीं है; न ही इससे अधिक योग्य कोई खोज है। शुद्ध चेतना के रूप में जब हम अपने वास्तविक स्वरूप को महसूस करते हैं, तो हम जो कुछ भी करते हैं वह आत्मानुभूति के आनंद से ओत-प्रोत होगा। योग के पारंपरिक लक्ष्य को ध्यान में रखने के लिए जो भी व्यक्तिगत कारण हैं, योग हमारी पूर्ण क्षमता को ठीक करने के लिए प्रयास करना चाहता है।

योग, मानव अस्तित्व का सारांश

योग एक व्यक्ति में एक मौलिक परिवर्तन ला सकता है। योग के माध्यम से शुद्ध और सूक्ष्म ऊर्जा के आंतरिक असीमित भंडार के साथ निकट संपर्क स्थापित किया जा सकता है तथा जिससे किसी के सच्चे एवं सार्वभौमिक स्वभाव की पहचान की जा सकती है। अपने ’स्वयं’ के बारे में गहन और अंतरंग ज्ञान के माध्यम से और पूरी तरह से विकसित जीव होने में योग जागरूकता के विस्तार और चेतना के स्तर को बढ़ाकर किसी के आंतरिक जीवन को प्रभावित कर सकता है। मन और हृदय की उच्च क्षमताओं को उजागर करने के माध्यम से, योग व्यावहारिक रूप से मानव जीवन के सभी पहलुओं को समृद्ध करता है.. इस प्रकार योग मानव जीवन को मानव अस्तित्व के बारह मासी मूल्यों की अनुभूति की ओर उन्मुख करता है।

अष्टांग योग

योग के प्राचीन ऋषि महर्षि पतंजलि ने योग को आठ भागों (चरणों) में वर्णित किया है। इसलिए इसे अष्टांग योग कहा जाता है। अष्टांग योग के माध्यम से हम स्थिर, मजबूत एवं स्वस्थ शरीर और स्थिर मन प्राप्त कर सकते हैं जिसके बाद ईश्वर के साथ आत्मा का मिलन संभव है।

(1) यम (सामाजिक अनुशासन)

(2) नियम (कार्मिक व्यक्तिगत अनुशासन)

(3) आसन (अवस्था)

(4) प्राणायाम (श्वास पर नियंत्रण)

(5) प्रत्याहार (इंद्रियों का प्रत्याहार) इंद्रियों पर नियंत्रण

(6) धारणा (एकाग्रता)

(7) समाधि (आत्मानुभूति)

मानव शरीर

मानव शरीर एक कच्चे मिट्टी के बर्तन की तरह है, जिस तरह जल में फेंकने पर हमारा कच्ची मिट्टी का पात्र खराब होने लगता है (गलने लगता है), उसी तरह हमारा शरीर भी क्षरित होने लगता है। इस प्रकार अपने शरीर को तपाकर जो आग में कच्चे मिट्टी के बर्तन की तरह है, योग द्वारा शक्ति और पवित्रता प्राप्त करना संभव है। योग का अभ्यास करने से व्यक्ति शारीरिक स्वास्थ्य, मानसिक सतर्कता और आध्यात्मिक उत्कर्ष प्राप्त कर सकता है।

स्वास्थ्य बनाए रखने के लिए

यम और नियम के पालन तथा आसन और प्राणायामों के वैज्ञानिक अभ्यास के साथ हम मन, शरीर एवं आत्मा का संपूर्ण स्वास्थ्य प्राप्त कर सकते हैं।

लोगों की स्वास्थ्य जागरूकता बढ़ी है। योग की स्वास्थ्य गतिविधियों को बनाए रखना बहुत उपयोगी है। आज लोग तनाव की दुनिया में जी रहे हैं इसलिए, हृदय रोगों में वृद्धि हुई है। इस समस्या के कारण तंत्रिका में कुछ बाधाओं के कारण पुरुषों के तंत्रिका तंत्र क्षतिग्रस्त हो जाएंगे। इसलिए श्वास लेने और श्वास छोड़ने की प्रक्रिया में गड़बड़ी होगी। सफाई की प्रक्रिया (क्रिया) और प्राणायाम की मदद से हम इन बाधाओं को दूर कर सकते हैं तथा तंत्रिका को साफ कर (खोल) सकते हैं, अर्थात नाड़ी शुद्धि।

प्रेक्षा ध्यान, विपश्यना, मंत्र-जाप, गहरे-श्वास लेने का व्यायाम और अनुलोम-विलोम प्राणायाम अच्छे स्वास्थ्य को बनाए रखने के लिए उपयोगी हो सकते हैं। श्वास लेने की इन सभी प्रणालियों में एक निर्वाहक लंबे समय तक एक स्तंभन में बैठेगा और इसलिए श्वास छोड़ना एवं श्वास लेना अपने आप सामान्य हो जाएगा। सामान्य श्वसन और गहरा एवं अधिक हो जाएगा जिसका अर्थ गहरे-श्वास लेना है। इसका परिणाम मन का संतुलन होगा।

नियमित रूप से आसन और प्राणायाम का अभ्यास करके लोगों को उच्च रक्तचाप एवं हृदय संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलाया जा सकता है। व्यक्ति अपने फेफड़ों की क्षमता विकसित कर सकता है, मानव शरीर को शुद्ध और श्वसन प्रणाली एवं तंत्रिकाओं को भी साफ किया जा सकता है। स्वच्छ तंत्रिकाएं, स्वच्छ और स्वस्थ मन बनाएंगी तथा स्वस्थ मन स्वस्थ शरीर बनाएगा। तो इसे प्रसन्न, आत्मेंद्रिय, मन में परिवर्तित किया जा सकता है जो वास्तविक योग की जीवन शैली है।

 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu
%d bloggers like this: