सकारात्मकता से होगा कोरोना पराजित

Continue Readingसकारात्मकता से होगा कोरोना पराजित

इस उपक्रम को एक सुन्दर पहल बताते हुए डॉ. इन्द्रेश कुमार ने कहा कि नानाविध मत पंथों के लोगों ने इस मंच से एक स्वर में कोरोना के खिलाफ आवाज बुलंद की है और लोगों के मन से भ्रांतियां और भ्रम को निकालने का काम किया है। इससे नए भारत के निर्माण का एक संकल्प उभरा है।

मधुमेह ने बढ़ाया काले कवक का खतरा

Continue Readingमधुमेह ने बढ़ाया काले कवक का खतरा

आज जिसे म्यूकोसिस कहा जा रहा है वह वास्तव में बहुत पुराना रोग जाइगोमाइकोसिस ही है जो एक दुर्लभ कवक संक्रमण है। यह कवक हमारे परिवेश में मिट्टी, पत्तियों, सड़ी लकड़ी और सड़ी हुई खाद, किसी भी सीलन वाली जगह पर बड़े पैमाने पर होता है। म्यूकोंर्मासेट मोल्ड के कारण यह इंसान के जीवन पर घातक मार करता है। इसके चलते त्वचा का काला पड़ना, सूजन, लाली, अल्सर, बुखार के अलावा, यह ख़तरनाक बीमारी फेफड़ों, आंखों और यहां तक कि मस्तिष्क पर भी आक्रमण कर सकती है।

योग-आयुर्वेद व एलोपेथी विवाद और समाधान

Continue Readingयोग-आयुर्वेद व एलोपेथी विवाद और समाधान

स्वामी रामदेव, आंशिक रूप से एलोपैथिक उपचार और दवाओं के ख़िलाफ़ आलोचनात्मक रहे हैं लेकिन, यह समझना होगा कि उसका कारण सिर्फ एलोपैथिक लॉबी द्वारा आयुर्वेद और योग की उपचारात्मक पद्धतियों की उपेक्षा करना रहा है। आज के समय में दोनों को एक दूसरे का पूरक मानते हुए साथ में उपचार का एक समग्र तरीका विकसित करने से भारतीय उपचार पद्धतियां और लाभकारी व ताकतवर हो सकती हैं।

गर्मियों में भी रहे कूल

Continue Readingगर्मियों में भी रहे कूल

इसी माह से गर्मी के तेवर बढ़ने शुरू हो जाएंगे, अतः हमें अपने पहनावे और खानपान के प्रति अधिक सतर्क होना पड़ेगा ताकि हम गर्मी की परेशानियों व बीमारियों से बच सकें।

कोरोना से प्रदीर्घ युद्ध आरंभ

Continue Readingकोरोना से प्रदीर्घ युद्ध आरंभ

भारत में फिलहाल कोवैक्सीन व  कोविशील्ड नामक दो वैक्सीनों से टीकाकरण का अभियान विशाल पैमाने पर चल रहा है। कोवैक्सीन देश में निर्मित पूर्णतः स्वदेशी वैक्सीन है, जबकि कोविशील्ड ऑक्सफोर्ड के फार्मूले पर भारत में निर्मित वैक्सीन है। दोनों वैक्सीनों की प्रभावकारिता लगभग 81% है और वे सुरक्षित मानी गई हैं। भारत एक तरह से वैक्सीन उत्पादन का केंद्र बन चुका है।

चलने की आदत बनाए सेहतमंद

Continue Readingचलने की आदत बनाए सेहतमंद

एक भ्रांति यह भी है कि व्यायाम करने से थकान हो जाती है। वास्तव में 6 सप्ताह तक प्रतिदिन 25 मिनट व्यायाम करने से थकान की समस्या कम हो जाती है। शरीर की फिटनेस बढ़ जाती है, वैवाहिक संबंधों में मधुरता आती है तथा अवसाद की स्थिति में गिरावट आती है।

बर्ड फ्लू सतर्कता जरुरी

Continue Readingबर्ड फ्लू सतर्कता जरुरी

भारत में आए बर्ड फ्लू का विषाणु न जाने भविष्य में किस करवट बैठे और कितने सालों के बाद अपने पंख फिर से फैला दे, यह कोई नहीं बता सकता। इस बार तो इस महामारी ने केवल मुर्गे-मुर्गियों को ही अपनी चपेट में लिया है मगर हो सकता है कि बर्ड फ्लू की भावी पीढ़ी का विषाणु मानवहंता साबित हो।

कोरोना के खिलाफ लड़ाई निर्णायक दौर में

Continue Readingकोरोना के खिलाफ लड़ाई निर्णायक दौर में

निर्धारित प्रोटोकॉल के अनुसार सबसे पहले कोविड 19 वैक्सीन हेल्थकेयर कर्मियों यानी डॉक्टर, नर्स, पैरामेडिक्स और स्वास्थ्य से जुड़े लोगो को दी जाएगी। सभी सरकारी और प्राइवेट हॉस्पिटल को मिलाकर इनकी संख्या 80 लाख से एक करोड़ बताई जा रही है।

क्या आप अनुलोम-विलोम के इन फायदों को जानते है?

Continue Readingक्या आप अनुलोम-विलोम के इन फायदों को जानते है?

अनुलोम-विलोम प्राणायाम प्राणायाम अनुलोम और विलोम सबसे सरल और आसन है और इसके फायदे भी बहुत ज्यादा है। अनुलोम का अर्थ होता है सीधा और विलोम का अर्थ होता है उल्टा। लेकिन यहां सीधा और उल्टा का अर्थ है नाक के दायें और बायें छिद्र से। प्राणायाम अनुलोम और विलोम…

इन 5 योग से खत्म होगा घुटने का दर्द.

Continue Readingइन 5 योग से खत्म होगा घुटने का दर्द.

शरीर के किसी भी अंग में अगर दर्द होता है तो दवा का इस्तेमाल किया जाता है लेकिन शरीर में दर्द ना हो इसके लिए योग किया जाता है हालांकि यह अलग बात है कि योग करने वालो की संख्या काफी कम है और जो योग कर रहे है उनमें…

वैश्विक सहयोग से होगा महामारी का खात्मा

Continue Readingवैश्विक सहयोग से होगा महामारी का खात्मा

दुनिया का कोई भी देश इस संक्रमण से पूरी तरह सुरक्षित नहीं है। अत:, इस वैश्विक खतरे से निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर संयुक्त रूप से कार्रवाई की आवश्यकता होती है। प्रत्येक देश को अपने नागरिकों को सुरक्षित रखने के लिए अपनी नीतियों में वैश्विक सहयोग, एकजुटता और देशों के बीच समन्वय स्थापित करना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि मानव को इस महामारी से हर सम्भव कम से कम नुकसान हो।

कोरोना वैक्सीन पर एकाधिकार की कोशिश

Continue Readingकोरोना वैक्सीन पर एकाधिकार की कोशिश

अमीर देश कोरोना की दवा या वैक्सीन पर अपने इंटिलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स नहीं छोड़ना चाहते। इससे उन्हें कोई मतलब नहीं कि मानवता को रोज कोरोना थोड़ा-थोड़ा कर लील रहा है। उन्हें अपने मुनाफे से मतलब है। न्यूज एजेंसी राइटर्स के मुताबिक एक सीक्रेट मीटिंग में अमीर देशों खासकर यूरोपीय यूनियन और अमेरिका ने इंटिलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स छोड़ने के प्रस्ताव का विरोध किया।

End of content

No more pages to load