वैश्विक सहयोग से होगा महामारी का खात्मा

Continue Reading वैश्विक सहयोग से होगा महामारी का खात्मा

दुनिया का कोई भी देश इस संक्रमण से पूरी तरह सुरक्षित नहीं है। अत:, इस वैश्विक खतरे से निपटने के लिए वैश्विक स्तर पर संयुक्त रूप से कार्रवाई की आवश्यकता होती है। प्रत्येक देश को अपने नागरिकों को सुरक्षित रखने के लिए अपनी नीतियों में वैश्विक सहयोग, एकजुटता और देशों के बीच समन्वय स्थापित करना चाहिए ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि मानव को इस महामारी से हर सम्भव कम से कम नुकसान हो।

कोरोना वैक्सीन पर एकाधिकार की कोशिश

Continue Reading कोरोना वैक्सीन पर एकाधिकार की कोशिश

अमीर देश कोरोना की दवा या वैक्सीन पर अपने इंटिलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स नहीं छोड़ना चाहते। इससे उन्हें कोई मतलब नहीं कि मानवता को रोज कोरोना थोड़ा-थोड़ा कर लील रहा है। उन्हें अपने मुनाफे से मतलब है। न्यूज एजेंसी राइटर्स के मुताबिक एक सीक्रेट मीटिंग में अमीर देशों खासकर यूरोपीय यूनियन और अमेरिका ने इंटिलेक्चुअल प्रॉपर्टी राइट्स छोड़ने के प्रस्ताव का विरोध किया।

टीकाकरण का महाभारत

Continue Reading टीकाकरण का महाभारत

भारत में यह टीका सीरम इन्स्टीट्यूट द्वारा तैयार किया जा रहा है। तीसरे प्रकार के टीके से तात्पर्य है- सीधे-सीधे स्पाइक प्रोटीन तैयार करना और शरीर में उसका टीकाकरण करना। इस प्रकार का टीकाकरण बहुत आसान लगता है परंतु कोविड के निर्मूलन के लिए अब तक ऐसा टीका बना नहीं है। अपेक्षा की जाती है कि आने वाले 3 से 6 महीनों में वह टीका बन जाएगा।

स्वास्थ्य का मूलाधिकार आत्मनिर्भरता की बुनियाद

Continue Reading स्वास्थ्य का मूलाधिकार आत्मनिर्भरता की बुनियाद

मोदी सरकार ने जिस राष्ट्रीय स्वास्थ्य नीति को 2017 में लागू किया है उसके मूल प्रारूप में ’जनस्वास्थ्य’ को शिक्षा और खाद्य की तरह बुनियादी अधिकार बनाने का प्रस्ताव था; लेकिन राज्यों के कतिपय विरोध के चलते इसे विलोपित कर दिया गया। कोरोना महामारी के अनुभव ने हमें अब पुनः इस पर नए सिरे से सोचने पर मजबूर किया है। स्वास्थ्य के क्षेत्र में हम तभी आत्मनिर्भर बन सकते हैं, जब स्वास्थ्य को हम नागरिकों का बुनियादी अधिकार मानें।

हल्दी से सदा के लिए निरोगी जीवन

Continue Reading हल्दी से सदा के लिए निरोगी जीवन

हल्दी में मौजूद एक बहुउद्देशीय रसायन कर्क्यूमिन की महत्वपूर्ण भूमिका है। यह न केवल शरीर और मस्तिष्क को तरोताजा करता है, बल्कि इससे भी महत्वपूर्ण बात यह है कि यह बढ़ती उम्र को भी रोक सकता है।

साबुन-कोरोना का दुश्मन

Continue Reading साबुन-कोरोना का दुश्मन

साबुन के केमिकल को वायरस के बाहरी परत का फैट तोड़ने में थोड़ा वक्त लगता है और हाथ को अच्छी तरह धोने में कुछ समय लगता है। लगभग 20 सेकंड़ में ये दोनों काम पूरे हो जाते हैं। ...ए से लेकर ज़ेड़ तक अंग्रेजी वर्णमाला को मन में बोलें तो इतने समय में दोनों हाथ अच्छी तरह धुल जाएंगे।

Peytm के बाद Google का कर्मचारी हुआ कोरोना से संक्रमित, Google ने घर से काम करने के दिए निर्देश

Continue Reading Peytm के बाद Google का कर्मचारी हुआ कोरोना से संक्रमित, Google ने घर से काम करने के दिए निर्देश

Peytm के बाद अब गूगल के एक कर्मचारी को भी कोरोना वायरस हो चुका है बेंगलुरु स्थित गूगल ऑफिस में काम करने वाले इस कर्मचारी में कोरोनावायरस की पुष्टि हो चुकी है।

महिलाएं बीमारी से कैसे बचें?

Continue Reading महिलाएं बीमारी से कैसे बचें?

मानसिक तैयारी और शारीरिक तैयारी आपको बीमारियों के कष्ट को कम करने में बहुत मदद कर सकती है। खान - पान, नियमित व्यायाम शरीर और मन दोनों को स्वस्थ रखने का पहला हथियार है। कष्ट को टाले नहीं, डॉक्टरी सलाह समय पर अवश्य लें।

फिट है तो हिट है…

Continue Reading फिट है तो हिट है…

व्यक्ति के फिट रहने के लिए शरीर और मन दोनों फिट रहना आवश्यक है। इसलिए शरीर और मन दोनों की सेहत पर बराबर ध्यान दिया जाए। आज मुख्य प्रश्न है, लोगों में फिटनेस के प्रति जागरूकता लाना और जो जागरुक हैं उन्हें बाजार के बहाव में बहने से रोकना।

पहले सेहत, फिर काम

Continue Reading पहले सेहत, फिर काम

घर और दफ्तर की जिम्मेदारियां संभालती कामकाजी महिलाएं, कई बार खुद के प्रति जिम्मेदारी को गंभीरता से नहीं लेतीं। चूंकि आप पर दोहरी जिम्मेदारी होती है, इसलिए आपको अपनी सेहत के प्रति अधिक गंभीर और सचेत होना चाहिए।

 पिता के करीब हों बेटियां तो उनमें आती है यह खूबी

Continue Reading  पिता के करीब हों बेटियां तो उनमें आती है यह खूबी

अक्सर लोग कहते हैं कि बेटियां अपने पिता के दिल के ज्यादा करीब होती हैं.अब यह बात एक रिसर्च में भी साबित हो गयी है. अमेरिका के कॉर्नेल यूनिवर्सिटी में हुए एक शोध में यह बात साबित भी हो गयी है.

योग : जीवन का एक विज्ञान

Continue Reading योग : जीवन का एक विज्ञान

नियमित रूप से आसन और प्राणायाम का अभ्यास करके लोगों को उच्च रक्तचाप एवं हृदय संबंधी समस्याओं से छुटकारा दिलाया जा सकता है। व्यक्ति अपने फेफड़ों की क्षमता विकसित कर सकता है, मानव शरीर को शुद्ध और श्वसन प्रणाली एवं तंत्रिकाओं को भी साफ किया जा सकता है।

End of content

No more pages to load