दंगा करने वालों को हम पाताल से भी ढूंढ निकालेंगे: अमित शाह

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने आज राज्य सभा में दिल्ली हिंसा को लेकर विपक्ष के सवालों का जवाब दिया। इससे पहले बुधवार को गृह मंत्री ने लोकसभा में भी विपक्ष के सवालों का जवाब दिया था हालांकि इस दौरान विपक्षी दलों ने जमकर हंगामा किया था जो गुरुवार को फिर से राज्यसभा में देखने को मिला जहां विपक्षी दल सरकार के जवाबों को सुनने को तैयार नहीं थे।

विपक्ष के सवालों का जवाब देते हुए अमित शाह ने कहा कि दंगे के आरोपियों को कड़ी से कड़ी सजा दी जायेगी और वह कहीं भी छिपे होंगे उन्हे ढूंढकर निकाला जायेगा। विरोधी दलों के एक सवाल का जवाब देते हुए अमित शाह ने कहा कि आरोपी किसी भी जात या धर्म का होगा उसे बक्शा नहीं जायेगा, उसे हर हाल में कानून के दायरे में लाकर खड़ा किया जायेगा।

कांग्रेस द्वारा लगाये गये आरोपों का जवाब देते हुए अमित शाह ने कहा कि दंगे कांग्रेस के समय में भी हुए थे लेकिन उन्होने यह कह कर हाथ खड़ा कर दिया था कि जब कोई बड़ा पेड़ गिरता है तो धरती हिलती है, जबकि हम ऐसा नहीं कहने वाले है हम आरोपियों को ढूंढ कर निकालेगें अगर उनको लगता है कि दंगा खत्म हो गया और वह बच जायेंगे तो यह उनकी गलतफहमी है हम उन्हे पाताल से भी ढूंढ निकालेंगे।

अमित शाह ने बताया कि दंगे के दौरान निजी हथियारों का भी जमकर इस्तेमाल हुआ था जिसको लेकर पुलिस ने कुल 49 मामले दर्ज किये है और अब तक 52 लोगों को गिरफ्तार भी कर लिया है। शाह ने बताया कि दंगे के दौरान इस्तेमाल हुए हथियारों में से काफी सारे जब्त कर लिए गये है जबकि बाकी हथियारों की खोज पुलिस द्वारा जारी है। गृह मंत्री ने कहा कि सिर्फ दंगाईयों को गिरफ्तार करने के लिए करीब 40 से अधिक विशेष दलों का गठन किया गया है जो सिर्फ और सिर्फ गिरफ्तारी पर लगे हुए है।

आप को बतादें कि सरकार के पास एक ऐसा सॉफ्टवेयर है जो चेहरे देखकर उसकी डिटेल्स बता देता है और इसी के माध्यम से सरकार को दंगाइयों की गिरफ्तारी करने में आसानी हो रही है। इसी सॉफ्टवेयर के द्वारा दंगे में शामिल लोगों की जानकारी पुलिस को मिल रही है और एक एक कर सभी को गिरफ्तार किया जा रहा है।

 

This Post Has One Comment

  1. सुनील गुप्ता

    बहुत ही अच्छा

आपकी प्रतिक्रिया...