तबलीगी जमात ने बढ़ाई देश की मुश्किलें, धरावी में पहुचा कोरोना संकट

पूरा देश कोरोना वायरस से पीड़ित है किसी को कुछ भी नजर नहीं आ रहा है हर तरफ सिर्फ और सिर्फ कोरोना का डर दिखाई दे रहा है। हालांकि केंद्र और राज्य सरकारों की तरफ से जरुरी इतजाम किये जा रहे है और लोगों को लगातार इसके बारे मे जानकारी और सावधानी बरतने के लिए भी कहा जा रहा है। लेकिन बावजूद इसके संक्रमण का खतरा लगातार बढ़ता जा रहा है।

महाराष्ट्र अभी तक संक्रमण के नंबर में सबसे आगे चल रहा है। वहीं महाराष्ट्र सरकार की चिंता अब और बढ़ गयी है क्योंकि एशिया के सबसे बड़े स्लम धरावी में भी कोरोना ने अपना पैर पसार लिया है। बुधवार को धरावी में पहला कोरोना पॉजिटिव केस सामने आया था जबकि गुरुवार को दूसरा केस भी सामने आया है जो चिंता का विषय है। पिछले 24 घंटे में दो लोग कोरोना से संक्रमित पाये गये है और इसके बढ़ने की और भी उम्मीद है। महाराष्ट्र में संक्रमित लोगों का आकड़ा 400 के पार जा चुका है जबकि मरने वालों की संख्या भी 19 पहुंच चुकी है।

देश में कोरोना को लेकर हालात समान्य थे कि अचानक से निजामुद्दीन के मरकज में जुटे लोगों की वजह से देश के हालात बिगड़ने लगे है। तबलीगी जमात के करीब एक हजार लोग देश के अलग अलग भागों में बंट गये है जिससे कोरोना के फैसले की आशंका बढ़ चुकी है। तबलीगी जमात के लोग जहां भी गये वहां कोरोना का खतरा बढ़ता जा रहा है और मुंबई का धरावी भी अब इससे अछूता नहीं रह गया है। धरावी के कुछ लोग भी निजामुद्दीन मरकज गये थे और वहां से कोरोना के साथ वापस लौट आये है। हालांकि सरकार ने ऐसे लोगों को चिन्हित करना शुरु कर दिया है और ऐसे लोगों के घरों को सील कर दिया जा रहा है।

मुंबई महानगर पालिका ने शहर के कुल 145 से अधिक जगहों को सील कर दिया है यह वह स्थान है जहां से संक्रमण का खतरा ज्यादा है। सील किये गये स्थानों में झुग्गी-झोपड़ी, आवास, नर्सिंगहोम और चॉल शामिल है। नगर पालिका की तरफ से ऐसे चिन्हित जगहों पर रासायनिक छिड़काव किया जायेगा।     

देश को तबलीगी जमात की वजह से बड़ी परेशानी उठानी पड़ सकती है और इनकी नासमझी की वजह से बाकी लोगों को भी इस संक्रमण का शिकार होना पड़ सकता है। केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा ऐसे लोगों की खोज जारी है जो निजामुद्दीन मरकज में शमिल हुए थे ताकि उन्हे चिन्हित कर उन्हे बाकी लोगों से दूर रखा जा सके।

This Post Has One Comment

  1. योगेश

    सच्चाई कड़वी होती है, विवेक सच सामने ला रहा है। ईलाज बस एक! इस पूरी जमात का पूर्ण बहिष्कार।

आपकी प्रतिक्रिया...