पाक उच्चायोग से कर्मचारियों की संख्या 50 फीसदी घटाने का निर्देश

  • पाक उच्चायोग से कर्मचारियों की संख्या 50 फीसदी घटाने का निर्देश
  • इस्लामाबाद के भारत उच्चायोग से भी कम होंगे कर्मचारी
  • पाक भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को ना करें परेशान-भारत
  • आतंकियों के संपर्क में है पाक उच्चायोग के अधिकारी
     

मुसीबतों में भी खड़ा भारत
वर्ष 2020 भारत के लिए एक साथ कई मुसीबतें लेकर आया है लेकिन भारत भी सभी पर खरा उतरने के लिए तैयार है। इस साल सबसे पहले चीन की देन कोरोना ने देश की आर्थिक और रोज़मर्रा की जिंदगी पर रोक लगा दी और सैंकड़ो जिंदगियों को निगल भी लिया। चीन की तरफ से दूसरा कहर सीमा पर भी देखने को मिला जब चीन सीमा पर भारत को डराने की कोशिश कर रहा था लेकिन यहां उसे सफलता हाथ नही लगी और भारत से करीब दो गुना चीनी सैनिक मारे गये।
पाक उच्चायोग से 50 फीसदी कर्मचारियों की होगी कटौती 
चीन के साथ साथ अब पाकिस्तान भी बहती गंगा में हाथ धोने की फिराक में लगा हुआ है और सीमा पर बार बार सीज़फायर का उल्लंघन कर रहा है। इससे पहले पाकिस्तान ने भारतीय उच्चायोग के भारतीय अधिकारियों को अगवा कर लिया था जिस पर उसे भारत की तरफ से ज़ोरदार जवाब दिया गया था। भारत सरकार की तरफ से पाकिस्तान को एक नया निर्देश दिया गया है। भारतीय विदेश मंत्रालय की तरफ से निर्देश जारी करते हुए कहा गया कि वह दिल्ली के पाक उच्चायोग से 50 फीसदी कर्मचारियों की कटौती कर दे। सरकार की तरफ से कहा गया है कि संक्रमण को देखते हुए यह कदम उठाया जा रहा है और कम से कम अधिकारियों के साथ काम करने का निर्देश दिया जा रहा है। भारत ने पाक अधिकारियों को यह जानकारी भी दे दी है कि वह इस्लामाबाद से भी अपने करीब 50 फीसदी अधिकारियों को वापस बुला लेगा।
 
 
भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को परेशान कर रहा पाकिस्तान
भारत की तरफ से आरोप लगाया गया कि पाकिस्तान लगातार भारतीय उच्चायोग के अधिकारियों को डराने का काम कर रहा है। पाकिस्तान को अपनी यह हरकत बंद करनी होगी। भारत ने पाक उपउच्यायुक्त को बताया कि पाक उच्चायोग के ज्यादातर अधिकारी जासूसी में लिप्त है और उनके संबंध आतंकियो के साथ है जिस पर पाक सरकार को कार्रवाई करनी चाहिए। कुछ महीने पहले भारत ने पाक उच्चायोग के दो अधिकारियों को जासूसी के आरोप में पकड़ा था और उन्हे मात्र 24 घंटे के अंदर ही पाक भेज दिया गया था जानकारी के मुताबिक पाक उच्चायोग के अधिकारी सेना से संबंधित जानकारी इक्कठा कर रहे थे।

आपकी प्रतिक्रिया...