ज्ञान और श्रम का संयोग आवश्यक

Continue Readingज्ञान और श्रम का संयोग आवश्यक

मनोबल का विकास ही  साहस, सूझबूझ, कुशलता, कलाकारिता, योग्यता का प्रतीक है, किंतु केवल बौद्धिक योग्यता ही मनुष्य को पूर्णतया संतुष्ट नहीं कर पाती । हृदय और उसके उद्गार ही ऐसे हैं, जिनकी आवश्यकता मनुष्य ही नहीं, साधारण जीवधारियों को भी होती है । प्रेम, स्नेह, वात्सल्य, श्रद्धा, निष्ठा, आस्था…

पत्थरबाजी से कहीं आर्थिक विकास प्रभावित न होने लगे

Continue Readingपत्थरबाजी से कहीं आर्थिक विकास प्रभावित न होने लगे

अभी हाल ही में अमेरिकी रेटिंग एजेंसी फिच ने भारतीय अर्थव्यवस्था के दृष्टिकोण (आउटलुक) में सुधार (अपग्रेड) किया है। फिच रेटिंग्स ने भारत की सॉवरेन रेटिंग के आउटलुक को “नकारात्मक” श्रेणी से अपग्रेड कर “स्थिर” श्रेणी में ला दिया है। भारत की सावरन रेटिंग में यह सुधार देश में तेजी…

वो अनाज उगाता और सिस्टम उसे सड़ाता..!

Continue Readingवो अनाज उगाता और सिस्टम उसे सड़ाता..!

देश में भरपूर अनाज उग रहा है। सुनने में अच्छा लगता है। विडंबना देखिए इसे सुरक्षित रखा जाना क्या कभी किसी की प्राथमिकता में रहा? ऐसा दिखा नहीं! माना कि ये मानसूनी   महीना है लेकिन अप्रेल और मई माह में ही जहाँ-तहाँ खुले आसमान तले रखा लाखों टन गेहूँ बेमौसम…

सिन्धु सभ्यता के ‘धौलवीरा’ और ‘लोथल’ का जल प्रबंधन

Continue Readingसिन्धु सभ्यता के ‘धौलवीरा’ और ‘लोथल’ का जल प्रबंधन

धौलवीरा का जल प्रबन्धन सन् 1960 में भारतीय पुरातत्त्व सर्वेक्षण विभाग ने सिन्धु सभ्यता से सम्बद्ध एक प्राचीन आवासीय बस्ती धौलवीरा का उत्खनन किया तो पता चला कि यह सभ्यता 3000 ई.पू. की एक उन्नत नगर सभ्यता थी। खदिर द्वीप के उत्तर-पश्चिम की ओर वर्तमान गुजरात में स्थित इस प्राचीन…

ओबरी युद्ध के नायक : राजा बलभद्र सिंह चहलारी

Continue Readingओबरी युद्ध के नायक : राजा बलभद्र सिंह चहलारी

भारत माँ को दासता की बेड़ियों से मुक्त कराने के लिए देश का कोई कोना ऐसा नहीं था, जहाँ छोटे से लेकर बड़े तक, निर्धन से लेकर धनवान तक, व्यापारी से लेकर कर्मचारी और कवि, कलाकार,  साहित्यकार तक सक्रिय न हुए हों। यह बात और है किसी को इस संग्राम में सफलता मिली, तो किसी…

अपने बच्चों को कैसा भविष्य देना चाहते हैं?

Continue Readingअपने बच्चों को कैसा भविष्य देना चाहते हैं?

साल 1914 में यूएन मुखर्जी ने एक छोटी सी पुस्तक लिखी हिन्दू एक मरती हुई नस्ल 1911 की जनगणना को देखकर ही 1914 में मुखर्जी ने पाकिस्तान बनने की भविष्यवाणी कर दी। उस समय संघ नहीं था, हिन्दू महासभा नहीं थी तब भी मुखर्जी ने वो देख लिया जो पिछले…

पाखण्ड की पराकाष्ठा: बॉलिवुड जिहाद

Continue Readingपाखण्ड की पराकाष्ठा: बॉलिवुड जिहाद

सलीम जावेद लिखित फिल्म में शोले फिल्म में वृद्ध मुसलमान (ए के हंगल) को बेटे की मौत पर नमाज के लिए जाते दिखाते हैं तो नायक वीरू (धर्मेन्द्र) को शिव मन्दिर में लडकी छेड़ते हुए दिखाना। बालीवुड और टीवी सीरियल के नजरिए से ‪हिन्दू को कैसे देखा जाता है एक…

चोर नही चोर की मां को पकड़ें

Continue Readingचोर नही चोर की मां को पकड़ें

भारत मे अधिकतर लोगों को यह ज्ञान नही कि बताने, बोलने, कहने, चिल्लाने और भौंकने में शब्दों का ही अंतर नही बल्कि क्रिया का भी अंतर है, भावना और संस्कृति का भी अंतर है। भारतीय संविधान के अनुच्छेद 19 (1) में वर्णित स्वतंत्रता को लोग  ऐसा मान लेते हैं जैसे…

मुस्लिम आक्रमणकारिओं के काल: राजा सुहेलदेव

Continue Readingमुस्लिम आक्रमणकारिओं के काल: राजा सुहेलदेव

मुस्लिम आक्रमणकारी सालार मसूद को बहराइच (उत्तर प्रदेश) में उसकी एक लाख बीस हजार सेना सहित जहन्नुम पहुंचाने वाले राजा सुहेलदेव का जन्म श्रावस्ती के राजा त्रिलोकचंद के वंशज पासी मंगलध्वज (मोरध्वज) के घर में माघ कृष्ण 4, विक्रम संवत 1053 (सकट चतुर्थी) को हुआ था। अत्यन्त तेजस्वी होने के कारण इनका नाम…

गर्म खिचड़ी को किनारे-किनारे से खाते रहिये

Continue Readingगर्म खिचड़ी को किनारे-किनारे से खाते रहिये

बात थोड़ी पुरानी है।2014 से पहले की।बात तब की जब कम्युनिस्ट आतंकियों ने अपने विचारधारा के अनुसार ही बस्तर को कसाईखाना (अब भी कसाईयत जारी ही है)में बदल दिया था। लगातार गरीब और वंचित आदिवासियों, निम्न-मध्य वर्ग, देश भर के गरीब किसान-मजदूर परिवार से आने वाले सुरक्षा बलों कीवे लगातार…

इन देशों का रवैया चिंतित करने वाला है 

Continue Readingइन देशों का रवैया चिंतित करने वाला है 

भाजपा नेताओं द्वारा इस्लाम से संबंधित टिप्पणी पर कई इस्लामिक देशों में हो रही प्रतिक्रियाएं किसी दृष्टि से सामान्य घटना नहीं है। कतर ,कुवैत और ईरान ने भारतीय राजदूतों को सम्मन कर लिखित नाराजगी जताई । यही नहीं सऊदी अरब, कुवैत और बहरीन के स्टोरों से भारतीय चीजें हटाए जाने…

आतंकियों  को मिल रही सजा, माफिया पर हो रही कार्यवाही

Continue Readingआतंकियों  को मिल रही सजा, माफिया पर हो रही कार्यवाही

प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार अपने दूसरे कार्यकाल में भी कानून व्यवस्था को लेकर बहुत सख्त तेवर अपना रही है और जिसके परिणाम स्पष्ट रूप से दिखाई  पड़ रहे हैं। अपराधी या तो आत्मसमर्पण कर रहे है या फिर पकड़े जा  रहे हैं जबकि माफियाओं की संपत्ति जब्त…

End of content

No more pages to load