कहाँ है दशानन रावण की सुवर्णमयी लंका

Continue Readingकहाँ है दशानन रावण की सुवर्णमयी लंका

विरोधाभास और मतभिन्नता भारतीय संस्कृति के मूल में रहे हैं। यही इसकी विशेषता भी है और कमजोरी भी। विशेषता इसलिए कि इन कालखंडों के रचनाकारों ने काल और व्यक्ति की सीमा से परे बस शाश्वत अनुभवों के रूप में अभिव्यक्त किया है। इसीलिए वर्तमान विद्वान रामायण और महाभारत के घटनाक्रमों,…

पाकिस्तान पर फिर होगा सर्जिकल स्ट्राइक!

Continue Readingपाकिस्तान पर फिर होगा सर्जिकल स्ट्राइक!

  पिछले कुछ दिनों से कश्मीर में आतंकी घटनाओं में बढ़ोत्तरी देखने को मिल रही है और इस बार हिन्दुओं को खासकर निशाना बनाया जा रहा है। दरअसल आतंकियों की घुसपैठ पर बहुत हद तक रोक लगा दी गयी है जिससे वह पूरी तरह से परेशान हो चुके हैं। इसके…

मीडिया का माइक चालू था और कांग्रेस नेता पढ़ रहे थे शिवकुमार के गैरकानूनी कमाई की किताब

Continue Readingमीडिया का माइक चालू था और कांग्रेस नेता पढ़ रहे थे शिवकुमार के गैरकानूनी कमाई की किताब

कांग्रेस और भ्रष्टाचार का बहुत पुराना रिश्ता रहा है और यह रिश्ता लगातार बढ़ता ही जा रहा है। अगर आप को पिछले कुछ दिनों से कांग्रेस के घोटालों की खबर नहीं मिल रही है तो कारण है उसका सत्ता से दूर रहना। जब देश में राजीव गांधी की सरकार थी…

BSF को मिला बड़ा अधिकार, क्या अवैध हथियार व ड्रग्स पर लगेगी रोक?

Continue ReadingBSF को मिला बड़ा अधिकार, क्या अवैध हथियार व ड्रग्स पर लगेगी रोक?

केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बार्डर सिक्योरिटी फोर्स (BSF) के अधिकारों में बढ़ोत्तरी की है जिससे देश की सीमा सुरक्षा को और मजबूत किया जा सकेगा। अभी तक BSF के जवान सिर्फ सीमा की सुरक्षा करते थे इसके साथ ही बहुत की कम दायरे में उन्हें अंदर की सुरक्षा का जिम्मा दिया…

शस्त्र पूजन: शक्ति की उपासना

Continue Readingशस्त्र पूजन: शक्ति की उपासना

भारतवर्ष एक प्राचीन परंपरा और सांस्कृतिक देश है। कई हजार साल पहले रामायण, महाभारत से लेकर आज से सत्तर साल पीछे देश की आजादी तक हमने एक चीज बहुत निरंतरता से आजमाई है, वो संघर्ष है। कोई भी संघर्ष शस्त्र के बिना अधूरा है। यही नहीं बल्कि हमारे सभी देव-देवताओं के हाथ में भी कोई न कोई आयुध शस्त्र नजर आते हैं।

हरियाणा के सरकारी कर्मचारी क्यों नहीं ले सकते थे संघ में हिस्सा, खट्टर सरकार ने बदला नियम?

Continue Readingहरियाणा के सरकारी कर्मचारी क्यों नहीं ले सकते थे संघ में हिस्सा, खट्टर सरकार ने बदला नियम?

  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ (RSS) ने अपनी स्थापना के बाद से सिर्फ राष्ट्र प्रेम किया और लोगों की सेवा की, यह बात भी किसी से छिपी नहीं है लेकिन इन सब के बाद भी कुछ राजनीतिक पार्टियों के निशाने पर संघ हमेशा रहा है। हरियाणा सरकार की तरफ से वर्ष…

2 से 18 वर्ष के बच्चों को भी लगेगी वैक्सीन, जानिए कितने दिन का होगा अंतर ?

Continue Reading2 से 18 वर्ष के बच्चों को भी लगेगी वैक्सीन, जानिए कितने दिन का होगा अंतर ?

पूरे देश में वैक्सीन का काम बहुत ही तेजी से चल रहा है और लोग भी इसमें हिस्सा ले रहे हैं क्योंकि लोगों के सामने समस्या यह है कि अगर उनकी दोनों वैक्सीन की डोज़ पूरी नहीं होती है तो उन्हें बहुत सारे स्थानो पर प्रवेश नहीं दिया जायेगा। साथ…

राजमाता सिंधिया:जेंडर की एक केस स्टडी भी…

Continue Readingराजमाता सिंधिया:जेंडर की एक केस स्टडी भी…

ग्वालियर के जिस जयविलास पैलेस को लोग दुनियाभर से देखने आते है उसे राजमाता विजयाराजे सिंधिया जीवाजी विश्वविद्यालय को दान करना चाहती  थी ताकि ग्वालियर रियासत के बच्चों को बेहतर उच्च शिक्षा मुहैया हो सके।जय विलास महल दुनिया के सबसे महंगे और आकर्षक महलों में एक है लेकिन राजमाता को…

राष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख

Continue Readingराष्ट्रऋषि नानाजी देशमुख

सम्पूर्ण जीवन में अपनी देह को कष्ट दे देकर समाजजागरण करने वाले राष्ट्रऋषि नानाजी ने मृत्युपूर्व इच्छापत्र लिखकर अपनी मृत देह चिकित्सकीय अनुसंधान हेतु दधिची संस्थान हेतु दान कर दी थी। नानजी को पद्म विभूषण व भारत के सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से भी सम्मानित किया गया था। ये सभी सम्मान निश्चित ही हमारे राष्ट्र का उनके कृतित्व व व्यक्तित्व को कृतज्ञता ज्ञापन ही है, तथापि यह भी सत्य ही है कि उनके व्यक्तित्व को इन सम्मानों से नहीं मापा जा सकता है।

जयप्रकाश नारायण जयंती विशेष – सवाल तो जेपी के चेलों से बनते ही है…!

Continue Readingजयप्रकाश नारायण जयंती विशेष – सवाल तो जेपी के चेलों से बनते ही है…!

जेपी के महान व्यक्तित्व को लोग कैसे स्मरण में रखना चाहेंगे यह निर्धारित करने की जबाबदेही असल मे उनके राजनीतिक चेलों की भी थी। जेपी का मूल्यांकन उनके वारिसों के उत्तरावर्ती योगदान के साथ की जाए तो जेपी की वैचारिकी का हश्र घोर निराशा का अहसास कराता है। आजादी के…

आजाद पार्क से क्यों हटाई गई मस्जिद व मजार ?

Continue Readingआजाद पार्क से क्यों हटाई गई मस्जिद व मजार ?

इलाहाबाद हाईकोर्ट के आदेश के बाद प्रयागराज के चंद्रशेखर आजाद पार्क से अवैध मस्जिद व मजार को तोड़ कर हटा दिया गया। पार्क में कुछ मंदिरों को भी तोड़ा गया है क्योंकि यह अवैध रूप से तैयार किए गये थे। इलाहाबाद हाई कोर्ट में एक याचिका दायर की गयी थी जिसमें यह…

अमेरिकी समाज में हिंदू विचार क्यों हुआ इतना प्रतिष्ठित

Continue Readingअमेरिकी समाज में हिंदू विचार क्यों हुआ इतना प्रतिष्ठित

कई अमेरिकी राज्यों ने अक्टूबर माह को हिंदू विरासत माह घोषित किया है। उनका मानना है कि हिंदू धर्म ने अपनी अद्वितीय विरासत से अमेरिका के विकास में महत्वपूर्ण योगदान दिया है। 1960 के दशक में बहुत से अमेरिकियों का हिंदू धर्म से परिचय 'ध्यान' व 'साधना' के माध्ये से…

End of content

No more pages to load