भारत में 10 लाख के पार हुआ संक्रमण, पूरा देश नहीं सिर्फ कुछ शहर है जिम्मेदार

  • भारत में संक्रमित लोगों की संख्या 10 लाख से अधिक
  • 24 घंटे में 34 हजार से अधिक मामले सामने
  • कुछ शहरों की वजह से बिगड़ रहा आंकड़ा
  • विश्व में तीसरे नंबर पर पहुंचा भारत
 

भारत में 10 लाख से अधिक संक्रमित

कोरोना वायरस का संक्रमण भारत में भी 10 लाख के आंकड़े को पार कर गया और इसके साथ ही भारत पूरी दुनिया में तीसरे नंबर पर आ गया है। पहले नंबर पर अमेरिका है जहां करीब 37 लाख केस होने वाले है जबकि दूसरे नंबर पर ब्राजील है जहां करीब 20 लाख से अधिक संक्रमित लोग है। शुरुआती दौर में भारत में भी कड़े कानून के साथ शख्ती जारी थी लेकिन देश में जब से अनलॉक शुरु हुआ तब से केस में भी तेजी देखने को मिल रही है और यह एक दिन में करीब 32 हजार तक पहुंच चुकी है। पूरी दुनिया के मुकाबले भारत में अभी भी मरने वालों का आंकड़ा बहुत कम है जबकि विश्व के बाकी देशों में संक्रमण के साथ साथ मरने वालों की भी संख्या में भी वृद्धि हुई है। 
 
 
संक्रमण के लिए कुछ शहर जिम्मेदार
सरकार की तरफ से बढ़ते संक्रमण पर कहा गया कि देश के कुछ ही मात्र शहर है जहां से संक्रमण तेजी से फैल रहा है जबकि ज्यादातर शहरों में अब संक्रमण करीब खत्म होने की कगार पर है। सरकार के मुताबिक महाराष्ट्र के तीन शहर थाणे, पुणे और मुंबई से लगातार संक्रमण फैल रहा है और इसका असर देश के आंकड़े पर पड़ रहा है। इसके इलावा दिल्ली, हैदराबाद, कोलकाता, चेन्नई, गुवाहाटी और बेंगलूरु शहर शामिल है। 
 
पूरे देश कुल संक्रमित लोगों की संख्या 10 लाख के अधिक हो चुकी है इसके साथ ही पिछले 24 घंटे 34 हजार से अधिक मामले सामने आये है जो अब तक का एक दिन का सबसे अधिक संक्रमित मामला है। 24 घंटे में 650 से अधिक लोगों की मौत हुई है। भारत में रिकवरी रेट तेजी से बढ़ रहा है और उसी का नतीजा है कि अब तक 6 लाख 35 हजार से अधिक लोग ठीक हो चुके है जबकि 3 लाख 40 हजार लोगों का अभी भी इलाज जारी है। देश में संक्रमण की वजह से अब तक 25 हजार से अधिक लोगों की जान जा चुकी है। 
 
अनलॉक के बाद बिगड़ी देश की हालत
देश में मार्च और अप्रैल के महीने में लॉकडाउन का सभी से पूरी ईमानदारी से पालन किया इस दौरान सरकार और प्रशासन की तरफ से भी कड़ाई बरती गयी और बाहर निकलने वालों की पिटाई की जाती थी लेकिन जून महीने तक देश की अर्थव्यवस्था बिगड़ने लगी और सरकार के पास बाजार फिर से खोलने के अलावा कोई दूसरा रास्ता नहीं था जिसके बाद सरकार की तरफ से अनलॉक की प्रक्रिया शुरु की गयी। सरकार ने कड़े नियमों के साथ बाजार खोलना शुरु किया जिसके साथ ही भीड़ भी बाहर निकलने लगी और फिर संक्रमण तेजी से फैलने लगा। 
   

आपकी प्रतिक्रिया...