भारत सरकार का चीन को एक और झटका, चीन से कलर टीवी के इम्पोर्ट पर लगाई रोक

  • भारत सरकार ने चीन को दिया झटका
  • चीन की अर्थव्यवस्था पर सरकार का वार जारी
  • चीन से इम्पोर्ट होने वाली कलर टीवी पर रोक
  • पिछले साल 78 करोड़ डालर का इम्पोर्ट हुआ था टीवी

भारत सरकार की तरफ से एक बार फिर चीन को झटका दिया है लेकिन यह सीमा पर नहीं बल्कि चीन की अर्थव्यवस्था पर चोट की गयी है। भारत सरकार ने अपने नये फैसले के तहत यह निर्देश जारी किया है कि भारत घरेलू उत्पाद बढ़ाने के लिए चीन से आने वाले रंगीन टीवी पर रोक लगा दी है। भारत के इस फैसले से जहां घरेलू उत्पाद को बढ़ावा मिलेगा वहीं चीन को फिर से एक झटका दिया जा रहा है। सरकार ने नये निर्देश के अंतर्गत अब चीन से आने वाले रंगीन टेलिविज़न को मुक्त श्रेणी से निकाल कर प्रतिबंधित श्रेणी में डाल दिया गया है जिसके बाद अगर कोई चीन से रंगीन टीवी मंगाना चाहता है तो उसे डीजीएफटी से लाइसेंस लेना होगा। 
 
 
डायरेक्टर जनरल ऑफ फारेन ट्रेड (DGFT) की तरफ से निर्देश जारी कर यह बताया गया कि अब चीन से आने वाली कलर टीवी पर पूरी तरह से रोक लगा दी गयी है जबकि बाकी दूसरे देशों से निर्यात अभी भी जारी रहेगा। वर्तमान में भारत को चीन के अलावा कोरिया, हांगकांग, इंडोनेशिया, मलेशिया, जर्मनी सहित कई देश रंगीन टीवी का निर्यात करते है लेकिन भारत के साथ सीमा पर जारी विवाद के बाद सरकार ने चीन से आयात होने वाले रंगीन टीवी पर रोक लगा दिया है। 
भारत सरकार की तरफ से चीन के रंगीन टीवी के निर्यात पर रोक लगान से चीन की अर्थव्यवस्था को बड़ा झटका लगेगा। भारत ने 2019-20 के वित्त वर्ष में चीन से 78 करोड़ डालर का रंगीन टीवी का आयात किया था जिस पर अब पूरी तरह से बैन लगा दिया है। भारत सरकार की तरफ से एक के बाद एक चीन को झटका दिया जा रहा है। भारत सरकार के इस कदम की तारीफ करनी होगी क्योंकि केंद्र की मोदी सरकार बहुत ही चालाकी से चीन की अर्थव्यवस्था पर वार कर रहा है जिसका असर पूरे चीन पर पड़ेगा और वह लम्बे समय तक इससे प्रभावित रहेगा जबकि अगर सीमा पर चीन पर हमला किया जाता तो उससे चीन के साथ साथ हमारा भी नुकसान होता। 
भारत सरकार की तरफ से पहले भी चीन के ऐप को बैन किया गया है जिससे चीन को काफी बुरा लगा था और चीन की तरफ से इस पर बयान भी दिया गया था। रंगीन टीवी के बैन के बाद भी चीन की तरफ से प्रतिक्रिया आयी है। चीन ने कहा है कि भारत और चीन एक दूसरे पर निर्भर है और दोनों ही एक दूसरे के बिना व्यापार नहीं कर सकते है ऐसे में किसी भी तरह के प्रतिबंध से ना सिर्फ दोनों देशों का व्यापार प्रभावित होगा बल्कि इससे आपसी रिश्ते भी खराब होंगे वह अलग बात है कि आज तक चीन और भारत के बीच रिश्ते कभी बहुत अच्छे नहीं रहे है। 

आपकी प्रतिक्रिया...