लाल किले से पीएम मोदी के संबोधन aकी प्रमुख बातें

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने देश को 74वें स्वतंत्रता दिवस पर संबोधित किया। राजधानी दिल्ली के लाल किले से पीएम मोदी ने दुश्मनों को भी चेतावनी दी और कहा कि अगर कोई भी भारत की तरफ आंख उठाकर देखेगा तो उसे माकूल जवाब दिया जायेगा। पीएम ने अपने संबोधन में आत्म निर्भर भारत का भी जिक्र किया और कहा कि भारत को अब आत्म निर्भर बनने की जरुरत है क्योंकि भारत अब खुद के लिए किसी और पर निर्भर नहीं रह सकता है। भारत से दूसरे देश कच्चा माल खरीदते है और बाद में उसे ही बना कर फिर भारत को ही दोगुने दाम में बेच देते है।
 
प्रधानमंत्री ने 15 अगस्त के भाषण में कहा कि यह स्वतंत्रता बहुत बलिदान के बाद मिली है देश बेटों और बेटियों से बहुत बलिदान दिया है जिसके बाद इसे आजादी मिली है। सीमा पर आज भी सेना के जवान इस आजादी को कायम रखने की कीमत चुका रहे है और अपनी जान दे कर देश की रक्षा कर रहे है। पीएम ने कहा कि कुछ विस्तारवादी देश लगातार अपने विस्तार को बढ़ाने की कोशिश में लगे हुए है और इसके लिए वह हर तरह की रणनीति अपना रहे है लेकिन भारत में उन्हे सफलता नहीं मिल रही है। मोदी ने गलवान घाटी का जिक्र करते हुए कहा कि भारत के दुश्मनों को यह समझ लेना चाहिए की भारत क्या कर सकता है और इसके लिए गलवान घाटी का किस्सा काफी है। 
 
पीएम ने अपने संबोधन में कोरोना महामारी का भी जिक्र किया और कहा कि इस महामारी से ना सिर्फ भारत बल्कि पूरा देश परेशान है और अब तक दुनिया में लाखों लोगों की मौत हो चुकी है लेकिन भारत में बाकी देशों के मुकाबले यह आंकड़ा काफी कम है। भारत ने कोरोना की वजह से थोड़ी रुकावट जरुर हुई लेकिन भारत इस महामारी की वजह के रुका नही है और ना ही भारत का कोई काम बंद हुआ है बल्कि कोरोना की आपदा को भारत ने अवसर में बदल दिया और अब तमाम स्वास्थ्य संबंधी उपकरणों जैसे मास्क, पीपीई किट और कुछ दवाएँ जो दूसरे देशों से खरीद कर आती थी वह भारत ने बननी शुरु हो गयी वह भी इतनी मात्रा में कि भारत दूसरे देशों को भी एक्पोर्ट कर सकता है। 
 
15 अगस्त के भाषण के दौरान पीएम मोदी ने कुछ बड़े ऐलान भी किए जो देश की सुरक्षा से जुड़े हुए है। पीएम ने कहा कि कोस्टल एरिया की निगरानी करने वालों को अब नेवी की तरफ से ट्रेनिंग दी जायेगी जिससे वह मुसीबत के समय अच्छा काम कर सकें। NCC कैडेट्स को सेना के अंतर्गत प्रशिक्षण दिया जायेगा और करीब 1 लाख एनसीसी कैडेट्स को हमेशा सीमा के लिए तैयार रखा जायेगा। देश के जवानों की नई भर्ती में एक तिहाई महिलाओं को लिए आरक्षित किया जायेगा। भारत सरकार सेना को सशक्त बनाने पर लगातार जोर दे रही है और यही वजह है कि पिछले काफी समय से लंबित पड़े विमानों की खरीद को भी पूरा कर लिया गया लेकिन इसके साथ ही साथ सरकार ने सेना के लिए अब देश के अंदर ही उपकरण बनाने की योजना शुरु की है। 

आपकी प्रतिक्रिया...