IPL रोमांचक क्रिकेट

आईपीएल 2020 के सेशन में कई नए बल्लेबाज और गेंदबाज देश को मिलने की उम्मीद है; हालांकि कोरोना वायरस के चलते मैच अब 15 अप्रैल से प्रस्तावित हैं।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड बीसीसीआई द्वारा संचालित इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 2008 में शुरू होने के समय किसी ने भी नहीं सोचा था कि आने वाले समय में यह फटाफट क्रिकेट का फॉर्मेट न केवल भारत बल्कि दुनिया में एक अपना अलग स्थान बना लेगा। टी-20 क्रिकेट में भारतीय खिलाड़ियों के साथ विदेशी खिलाड़ियों के खेलने से खेल में काफी निखार आया। इससे भारतीय खिलाड़ियों ने टी-20क्रिकेट के फार्म में जबरदस्त सुधार करते हुए अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अपना परचम लहराया। इसी टूर्नामेंट की बदौलत भारतीय टीम को ना केवल टी-20 बल्कि एक दिवसीय अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट मैच के लिए भी कई खिलाड़ी मिल गए। 2008 में 400 करोड़ रुपए से शुरू किए गए आईपीएल मैच ने नौवें संस्करण में 12 सौ करोड़ रुपए सिर्फ विज्ञापन से कमाए। यह पिछले संस्करण से 20 गुना ज्यादा था। राउंड रोबिन इस टूर्नामेंट में खिलाड़ियों की यूनिफॉर्म के अलावा चीयर्स लीडर ने भी दर्शकों को अपनी तरफ आकर्षित किया। यही वजह है कि भारत के विभिन्न प्रदेशों के विभिन्न स्टेडियमों में खेले जाने वाले मैच में हजारों की संख्या में दर्शकों ने आईपीएल मैचों का लुत्फ उठाया।

2007 में इंडियन क्रिकेट लीग की स्थापना जी एंटरटेनमेंट एंटरप्राइजेस द्वारा प्रदान धन के साथ हुई थी। आईसीएल इंडिया (बीसीसीआई) क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड या अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट परिषद (आईसीसी) द्वारा मान्यता प्राप्त नहीं था। आईसीएल में शामिल होने से खिलाड़ियों को रोकने के लिए, बीसीसीआई ने घरेलू टूर्नामेंट में पुरस्कार राशि में वृद्धि कर दी और आईसीएल, जो बोर्ड द्वारा एक बागी लीग माना जाता था शामिल होने के खिलाड़ियों पर आजीवन प्रतिबंध लगा दिया। इसके बाद 2008 में ललित मोदी ने बीसीसीआई को टी-20 के जैसा ही एक लीग बनाने को कहा। इसके बाद बीसीसीआई ने इंडियन प्रीमियर लीग के शुरू करने की घोषणा की। बिजनेसमैन और क्रिकेट कार्यकारी अधिकारी ललित मोदी को बीसीसीआई द्वारा काम सौंपा गया था। 24 जनवरी 2008 को पहले आईपीएल के लिए फ्रेंचाइजी की नीलामी 400 करोड़ रुपए में की गई थी। नीलामी के अंत में बोली दाताओं की घोषणा के अनुसार शहरों के रूप में टीम बनाई गई जिसमें बैंगलोर, चेन्नई, दिल्ली, हैदराबाद, जयपुर, कोलकाता, मोहाली तथा मुंबई शामिल थीं। फ्रेंचाइजी की सभी टीमों को कुल 72359 मिलियन की कुल राशि में बेच दिया गया था।

21 मार्च 2010, यह घोषणा की गई कि दो नई फ्रेंचाइजी – पुणे वारियर्स इंडिया और कोच्चि टस्कर्स केरल – 2011 में चौथे सत्र से पहले लीग में शामिल हो जाएगा। जबकि मिलन स्थल स्पोर्ट्स वर्ल्ड ने 333,3 मिलियन के लिए कोच्चि फ्रेंचाइजी खरीदा। सहारा एडवेंचर स्पोर्ट्स ग्रुप ने 370 मिलियन के लिए पुणे फ्रेंचाइजी को खरीदा है। हालांकि, एक साल बाद, नवंबर 2011 को घोषणा की गई कि कोच्चि टस्कर्स केरल की स्थिति बीसीसीआई की शर्तों के उल्लंघन के कारण समाप्त हो जाएगी।

14 जून 2015, यह घोषणा की गई है कि दो बार के चैम्पियन चेन्नई सुपर किंग्स, और उद्घाटन सत्र के चैंपियन राजस्थान रॉयल्स को दो सत्रों के लिए एक मैच फिक्सिंग और सट्टेबाजी प्रकरण में उनकी भूमिका के बाद निलंबित कर दिया गया। 17 जनवरी 2008- यह घोषणा की थी कि भारत की सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन (सेट मैक्स) से मिल कर एक संघ नेटवर्क और सिंगापुर स्थित वर्ल्ड स्पोर्ट ग्रुप इंडियन प्रीमियर लीग के वैश्विक प्रसारण अधिकार हासिल किया। 2010 में आईपीएल बन गया। दुनिया में पहली बार खेल के आयोजन का यूट्यूब पर सीधा प्रसारण किया गया। आईपीएल की ब्रांड वैल्यू 2015 में 3.5 अरब होने का अनुमान था। बीसीसीआई के मुताबिक, 2015 आईपीएल सीजन ने भारतीय अर्थव्यवस्था के जीडीपी में 182 मिलियन का योगदान दिया। अब तक राजस्थान रॉयल्स, डेक्कन चार्जर्स और सनराइजर्स हैदराबाद ने एक बार तथा मुंबई इंडियंस ने 4 बार, चेन्नई सुपर किंग्स ने तीन बार और कोलकाता नाइट राइडर्स ने दो बार खिताब जीता है। प्रत्येक टीम में चार विदेशी खिलाड़ियों से अधिक को शामिल नहीं किया जा सकता है।

आईपीएल की वजह से भारतीय टीम को टी-20 वनडे टीम के लिए कई अच्छे खिलाड़ी मिले। इनमें पृथ्वी शा, श्रेयस अय्यर, शुभम गिल, मयंक अग्रवाल, मयंक मारकंडे, दिनेश कार्तिक, हार्दिक पांड्या, सौरभ तिवारी, रविंद्र जडेजा, शिखर धवन, लोकेश राहुल, मोहम्मद शमी, जसप्रीत बुमराह, यजुवेंद्र चहल आदि शामिल हैं।

ऑरेंज कैप

ऑरेंज कैप (नारंगी टोपी) एक श्रृंखला के दौरान आईपीएल में सबसे अधिक रन बनाने वाले बल्लेबाज को दी जाती है। 2008 में किंग्स इलेवन पंजाब के शान मार्श 616 रन, 2009 में चेन्नई सुपर किंग्स के मैथ्यू हेडन 572 रन, 2010 में मुंबई इंडियंस के सचिन तेंडुलकर 618 रन, 2011 में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के क्रिस गेल 608 रन, 2012 में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के क्रिस गेल 733 रन, 2013 में चेन्नई सुपर किंग्स के माइक हसी 733 रन, 2014 में कोलकाता नाइट राइडर्स के रॉबिन उथप्पा 660 रन,  2015 में सनराइजर्स हैदराबाद के डेविड वॉर्नर 562 रन, 2016 में रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के विराट कोहली 973 रन, 2017 में सनराइजर्स हैदराबाद के डेविड वॉर्नर 641 रन, 2018 में सनराइजर्स हैदराबाद के केन विलियमसन 735 रन, 2019 में सनराइजर्स हैदराबाद के डेविड वॉर्नर 692 रन शामिल हैं।

पर्पल कैप

पर्पल कैप आईपीएल में सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज को दी जाती है। 2008 में राजस्थान रॉयल्स के सोहेल तनवीर 22 विकेट, 2009 में डेक्कन चार्जर्स के आरपी सिंह 23 विकेट, 2010 में   डेक्कन चार्जर्स के प्रज्ञान ओझा 21  विकेट, 2011 में मुंबई इंडियंस चार्जर्स के लसिथ मलिंगा 28 विकेट, 2012 में कोलकाता नाइट राइडर्स के मोर्ने मोर्केल 25 विकेट, 2013 में चेन्नई सुपर किंग्स के  ड्वेन ब्रावो 32 विकेट, 2014 में चेन्नई सुपर किंग्स के मोहित शर्मा 23 विकेट, 2015 में चेन्नई सुपर किंग्स के ड्वेन ब्रावो 26 विकेट, 2016 में सनराइजर्स हैदराबाद के भुवनेश्वर कुमार 23 विकेट, 2017 में सनराइजर्स हैदराबाद भुवनेश्वर कुमार 16 विकेट, 2018 में किंग्स इलेवन पंजाब एंडयू ट्राई 24 विकेट, 2019 में चेन्नई सुपर किंग्स इमरान ताहिर 26 विकेट हासिल किया।

पाकिस्तानी खिलाड़ी

आईपीएल के पहले सत्र 2008 में 11 पाकिस्तानी खिलाड़ियों ने भाग लिया था। इनमें शोएब मलिक, मोहम्मद आसिफ, सोहेल तनवीर, यूनुस खान, मिस्बाह उल हक,कामरान अकमल, शाहिद अफरीदी, हाफिज, उमर गुल, सलमान बट्ट, शोएब अख्तर आदि शामिल थे। इनके अलावा पाकिस्तानी मूल के अजहर मोहम्मद ने कोलकाता नाइट राइडर्स की ओर से ब्रिटिश पासपोर्ट पर भाग लिया था। बीसीसीआई ने ललित मोदी को 24 अप्रैल 2010 को आईपीएल के कमिश्नर पद से हटा दिया था। ललित मोदी पर भ्रष्टाचार के गंभीर आरोप लगे थे। इसके बाद बीसीसीआई ने आरसीए पर बैन लगा दिया था क्योंकि मोदी आरसीए के अध्यक्ष थे। आईपीएल 2020 के सेशन में कई नए बल्लेबाज और गेंदबाज देश को मिलने की उम्मीद है।

कोरोना की वजह से मैच आयोजन की तिथि बढ़ी

कोरोना वायरस की वजह से बीसीसीआई ने इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के 29 मार्च से होने वाले मैच को 15 अप्रैल तक के लिए टाल दिया है। कोरोनो वायरस और विदेशियों के वीजा पर प्रतिबंध होने की वजह से बीसीसीआई ने फिलहाल इसे नहीं कराने का फैसला लिया है। फ्रेंचाइजियों को भी इसकी जानकारी दे दी गई है। दूसरी तरफ, पाकिस्तान सुपर लीग (पीएसएल) में खेल रहे विदेशी खिलाड़ी भी अब स्वदेश लौटने लगे हैं।

 

आपकी प्रतिक्रिया...