पाकिस्तान में महाराजा रणजीत सिंह की तोड़ी गयी प्रतिमा

पाकिस्तान की हालत पूरी दुनिया से छिपी नहीं है विश्व का एक बेकार और निर्धन देश है। यहां ना तो रोजगार है और ना ही एक अच्छी सरकार यहां अगर कुछ है तो वह है आतंकवाद और कट्टरवाद और अब यही दोनों पाकिस्तान के लिए मुसीबत बनते नजर आ रहे है। आतंकवाद की वजह से पाकिस्तान को पूरी दुनिया के सामने बेइज्जत होना पड़ता है। अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बहुत की कम देश है जो पाकिस्तान के साथ व्यापार करते है। वहीं कट्टरवाद भी अब पाकिस्तान के लिए मुसीबत बनता नजर आ रहा है क्योंकि कट्टरता के चलते बार बार पाकिस्तान को शर्मिंदा होना पड़ता है। 
 
 
पाकिस्तान के सूचना मंत्री फवाद चौधरी ने एक ट्वीट कर खुद कहा कि कुछ अनपढ़ों की वजह से पाकिस्तान को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर शर्मिंदा होना पड़ता है। दरअसल पाकिस्तान में मंगलवार को फिर से महाराजा रणजीत सिंह की प्रतिमा को तोड़ा गया और उसका वीडियो भी सोशल मीडिया पर जमकर वायरल हो रहा है। पाकिस्तान के पंजाब प्रांत के लाहौर किले में महाराजा रणजीत सिंह की 9 फीट ऊंची प्रतिमा का अनावरण 2019 में किया गया था उसके बाद से यह तीसरी बार तोड़ी गई है। 

पाकिस्तान में अल्पसंख्यक महापुरुषों की प्रतिमा को अक्सर तोड़ा जाता है इसके साथ ही मंदिरों को भी आये दिन निशाना बनाया जाता है। पाक सरकार की तरफ से की बार इस पर आश्वासन दिया गया है लेकिन वह उस पर अमल नहीं कर पाते है। मंगलवार को तहरीक-ए-लब्बैक पाकिस्तान का कार्यकर्ता था जो प्रतिमा परिसर में घुस कर पहले महाराजा का हाथ तोड़ता है और फिर घोड़े पर बैठी प्रतिमा को तोड़ कर नीचे गिरा देता है। जानकारी के मुताबिक आरोपी व्यक्ति को पंजाब पुलिस द्वारा गिरफ्तार कर लिया गया है। 
 
इस घटना के बाद भारत सरकार की तरफ से कड़ी प्रतिक्रिया दी गयी। विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अरिंदम बागची कहा कि पाकिस्तान में अल्पसंख्यक समुदाय पर हो रहे हमले से सरकार चिंतित है। पाक सरकार से इस पर बात किया गया और उन्हें दोषियों के खिलाफ सख्त कदम उठाने के लिए कहा गया। 

आपकी प्रतिक्रिया...