हिंदी विवेक : we work for better world...

****प्रशांत पोल****  

पूर्वांचल के सातों राज्योें में अनेक बोली भाषाएं हैं। अकेले आसाम में २०० से ज्यादा बोलियॉं बोली जाती हैं। इन सभी बोली भाषाओं में समृध्द साहित्य हैं। किन्तु इन अनेक भाषाओं को आज भी लिपि नहीं हैं। मौखिक परंपरा से ही यह भाषाएं आज इक्कीसवी सदी में भी जीवित हैं। इस समृध्द मौखिक साहित्य को छपवाकर उसका अनुवाद बाकी भाषाओं में करने का काम ‘‘साहित्य अकादमी’’ द्वारा किया जा रहा हैं.

लेकिन भारतीय भाषाओं के पाठकों को पूर्वांचल की इस वैभवशाली साहित्य परंपरा का अंदाज भी नहीं हैं। सारापूर्वांचल अविकसित हैं, वहां की भाषाएं अविकसित हैं, वहॉं की संस्कृति में आधुनिकता का गंध नहीं हैं। . . ऐसी अनेक बातें हमारे दिमाग में भरी गयी हैं।
लेकिन परिस्थिति ठीक इसके विपरीत हैं। पूर्वांचल को समृध्द संस्कृति की, परंपरा की और भाषा की विरासत हैं। समूचेपूर्वांचल में शिक्षा का प्रतिशत औसत से कही अधिक अच्छा हैं। वहां पर बहुत बड़ा पाठक वर्ग हैं। वहां साहित्य को लेकर अनेक कार्यक्रम, अनेक आभियान चलते रहते हैं। अत्यंत प्रतिष्ठा का ‘‘ज्ञानपीठ पुरस्कार’’ वहां के साहित्यकारों को मिल चुका हैं।
असमियां भाषा की प्राचीनता पूर्वांचल का सबसे बड़ा राज्य हैं, आसाम। यहॉं के लगभग तीन करोड़ लोगों द्वारा बोली जाने वाली असमी भाषा का अपना जलवा हैं, अपना महत्व हैं। असमियां भाषा का गौरवशाली इतिहास हैं।
असमियां लिपि यह भारत के प्राचीन ब्राम्ही लिपि का आधुनिक स्वरुप हैं। इस लिपि का सबसे प्राचीनतम स्वरुप भास्कर वर्मन का सन ६१० में लिखा गया ताम्रपत्र हैं। बौध्द महंतों के ‘‘चर्यापद’’ में असमियां भाषा का व्यवस्थित रूप दिखता हैं। इस काल खंड सन ६०० से १००० के बीच में माना जाता हैं। असमी भाषा के पहले ज्ञात लेखक शंकरदेव (जन्म  सन १४४९) यह प्रारंभिक असमिया कालखंड के लेखक माने जाते हैं। असम, अंग्रेजों के कब्जे में आने तक अजेय था। इसलिए उस कालखंड में असमिया भाषा की अच्छी उन्नति हुई थी। यह अहोम राजाओं के राजदरबार की भाषा थी। इन राज व्यवहारों के वर्णन को ‘‘बुरुंजी’’ कहा जाता था। यह बुरुंजी, याने मराठी में जिसे ‘‘बखर‘‘ कहते हैं, उसका असमी रूप हैं। इस बुरुंजी साहित्य में आसाम के इतिहास का दर्शन होता हैं।
लेकिन अंग्रेजों ने असम पर अधिकार जमाने के बाद, प्रारंभिक दिनों में असमीया भाषा की स्थिति खराब थी। उसका राजश्रय छिन गया था। उसी समय, धर्म परिवर्तन की आवश्यकता को देखते हुए, असम में पहुंचे इसाई मिशनरियोंको असमिया भाषा का महत्व समझा। १८१९ में अमरीकी बैप्टिस्ट चर्च के पादरियों द्वारा बायबल को असमिया भाषा में प्रकाशित किया गया। यह असमिया भाषा की पहली छपी हुई पुस्तक थी। १८४६ में इसाई मिशनरियों द्वारा ‘‘अरुणोदय’’ नाम का मासिक प्रकाशित किया गया।
असमिया भाषा पर बंगाल का तथा बंगला भाषा का प्रभाव होने से प्रारंभ में अंग्रेजों द्वारा इसे बंगला भाषा की उपभाषा ही माना गया। उन दिनों, प्रशासनिक रूप से भी असमीया भाषा का यही स्थान था।
असमिया भाषा की स्वतंत्र पहचान 
ऐसे समय में, उन्नीसवी शताब्दी में, चन्द्रकुमार अग्रवाल(१८५८  -१९३८), लक्ष्मीनाथ बेजबरुआ (१८६७ – १९३८) तथा हेमचन्द्र गोस्वामी (१८७२-१९२८) जैसे साहित्यकारों ने असमीया भाषा की आवाज बुलंद की। लक्ष्मीनाथ बेजबरुआका नाम असमिया काव्य में अत्यंत सम्मान के साथ लिया जाता हैं। १९६८ में उनकी जन्मशताब्दी धूमधाम से मनाई गयी। ‘‘कदमकली’’ नामका उनका काव्यसंग्रह प्रसिध्द हैं। उन्हें असमिया भाषा का ‘‘रसराज’’ कहा जाता हैं। उनका ‘‘कृपा बरबस काकतरटोपोला’’ यह हास्य-व्यंग का काव्यसंग्रह आज भी सराहा जाता हैं।
असमिया भाषा में छायावादी आन्दोलन छेड़ने वाली मासिक पत्रिका ‘‘जोनाकी‘‘ इसी दरमियान प्रारंभ हुई थी। इन सबका प्रयास यह सिध्द करने का था की असमिया भाषा का स्वतंत्र अस्तित्व हैं। इसकी अपनी अलग विरासत हैं और यह भाषा बँगला भाषा से अलग हैं।
उन्नीसवी शताब्दी के अंत में पद्मनाभ गोहेनबरुआ और रजनीकांत बारदोलाई ने असमिया भाषा में ऐतिहासिक उपन्यास लिखे, जो अत्यंत लोकप्रिय हुए। इसी समय देवचन्द्र तालुकदार और बिना बरुआ ने सामाजिक उपन्यासों के माध्यम से असमिया भाषा को मजबूत पहचान दी।
असमिया भाषा के इस प्रवास में १९१७ में कोलकाता में असमिया भाषा के कुछ विद्यार्थी इकठ्ठा आये और उन्होंने ‘‘असम साहित्य सभा’’ का गठन किया। इस संस्था ने असमिया भाषिकों का नेतृत्व भी किया। आज ९८ वर्ष बाद यह संस्था मात्र संभ्रात असमिया कलम नविसों की संस्था न रहकर, असमिया भाषिकों की संस्था बन गयी हैं। असम के सांस्कृतिक केंद्र, जोरहाटमें इसका मुख्यालय हैं तथा भारत भर में इसकी एक हजार से भी अधिक शाखाएं हैं।
असम की साक्षरता, देश के औसत से भी अधिक, अर्थात ७५% सेज्यादा हैं। सामान्य असमिया बोलने वाले को साहित्य में रूचि हैं। वहां समाज में साहित्यकारों को आदर और सम्मान दिया जाता हैं। १९५५ से आजतक ५१ असमिया साहित्यकारों को ‘‘साहित्य अकादमी’’ का पुरस्कार मिल चुकाहैं।
स्वतंत्र भारत में असमिया भाषा का विकास तेज गतीसे हुआ। अनेक विविध प्रवाह असमिया भाषा में प्रदर्शित हुए। कुछ अंशों में असमिया काव्य रविंद्रनाथ ठाकुर जी के प्रभाव में था। विनचंद्रबरुआ, शैलधर खोवा, अतुलचंद्र हजारिका, प्रसन्नलाल चौधरी आदि कवियों की कृतियों में यह झलकता भी हैं। लेकिन अंबिका गिरी, रघुनाथ चौधरी, हितेश्वरबरुआ, देवकांत बरुआ, डिंबेश्वर नियोग आदि कवियों ने असम के मिट्टी की खुशबु अपने काव्य के माध्यम से लोगों के सामने रखीं।
असमिया साहित्य में नव-विचार 
काव्य और ललित कृतियों में असमिया भाषा ने निरंतरता के साथ नए विचारों का स्वागत किया हैं। असमिया भाषा की नव-काव्य परंपरा में वीरेंद्र कुमार भट्टाचार्य का नाम अत्यंत आदर के साथ लिया जाता हैं। इन्होने उपन्यास भी लिखे हैं। सन१९७९ में भट्टाचार्य द्वारा लिखे गए ‘‘मृत्युंजय’’ इस उपन्यास को ‘‘भारतीय ज्ञानपीठ’’ पुरस्कार मिला। असमिमा भाषा का यह पहला ज्ञानपीठ पुरस्कार था। असयिमा भाषा का दुसरा ज्ञानपीठ पुरस्कार मिला, सन २००० में, इंदिरा गोस्वामी को। इन्हें १९८३ में ‘‘साहित्य अकादमी’’ का पुरस्कार भी मिला था।
इंदिरा गोस्वामी की साहित्यिक प्रतिभा का ही कमाल था की सामान्य असमिया नागरिक उनपर पूर्ण विश्वास करता था। इसलिए ‘‘उल्फा’’ आन्दोलन के चरम काल में उल्फा और केंद्र सरकार के बीच समन्वय का काम इंदिरा गोस्वामी जी ने किया था। साहित्य जगत में वे ‘‘मामुनीरायसेन गोस्वामी’’ नाम से जानी जाती थी।
इंदिरा गोस्वामी का साहित्यिक अनुभूति क्षेत्र काफी विस्तृत रहा हैं। वृन्दावन की अभागी विधवाओं पर १९७६ में लिखा उनका उपन्यास ‘‘नीलकंठी व्रजया’’ चर्चित कलाकृतियों में गिना जाता हैं। १९८० में लिखे हुए ‘‘मामरा धारातारोवाल’’ इस उपन्यास के लिए उन्हें साहित्य अकादमी का पुरस्कार मिला। एक बिलकुल अलग विषय को बिलकुल ही भिन्न पृष्ठभूमि पर उन्होंने लिखा, ‘‘अहिरान’’ इस उपन्यास के माध्यम से। मध्यप्रदेश के अहिरान नदी पर बनने वाले बॉंध के काम पर काम करने वाले मजदूरों के दयनीय अवस्था पर १९८८ में लिखे इस उपन्यास को खूब सराहा गया।
कहानी के क्षेत्र में भी असमिया साहित्य ने प्रगल्भता का परिचय दिया हैं। शरतचंद्र गोस्वामी की कहानियां असम में अत्यंत लोकप्रिय हैं। ऐतिहासिक नाटकों की असम में लम्बी चौड़ी परंपरा हैं। चंद्रधर बरुआ के ‘‘मेघनाथ बध’’, ‘‘तिलोत्तमा संभव’’, ‘‘भाग्यपरिक्षा’’आदि नाटक कालजयी रहे हैं। प्रसन्नलाल चौधरीका ‘‘नीलांबर’’, राजखोवा की ‘‘स्वर्गदेव प्रतापसिंह’’ आदि कलाकृतियां भी उल्लेखनीय रही हैं।
साहित्य की सारी विधाओं में असमिया भाषा ने अपनी पहचान बनायी हैं। किन्तु दुर्भाग्य से देश के अन्यभाषिक पाठकों को इसका आभास नहीं हैं..!
भारतीय संविधान की आठवी अनुसूची में शामिल एक और भाषा असम में बोली जाती हैं। वह हैं  ‘‘बोडो’’ देवनागरी लिपि में लिखी जाने वाली इस भाषा को १५ लाख से ज्यादा लोग बोलते हैं। लेकिन बोडो भाषा में साहित्य निर्माण की गति धीमी हैं।
विष्णुप्रिया मणिपुरी
पूर्वांचल में असम के साथ ही मणिपुरी साहित्य की भी अलग पहचान हैं। मात्र २७ लाख जनसँख्या के इस प्रदेश में साक्षरता८०% से भी ज्यादा हैं। बंगाली लिपि में लिखी जाने वाली मणिपुरी को विष्णुप्रिया मणिपुरी भी कहा जाता हैं। पूर्वांचल के २५ लाख से भी ज्यादा लोग मणिपुरी बोलते / समझते हैं।
मणिपुरी भाषा का साहित्य भी समृध्द हैं। १९७३ से आज तक ३९ मणिपुरी साहित्यकारों को ‘‘साहित्य अकादमी’’ के पुरस्कारों से सम्मानित किया गया हैं। मणिपुर भाषा में वैष्णव भक्ति तथा मणिपुर की कला / संस्कृति झलकती हैं। कहानी, उपन्यास, काव्य, प्रवास वर्णन, नाटक आदि सभी विधाओं में मणिपुरी भाषा ने अपनी पहचान बनाई हैं। मखोनमनी मोंड्साबा, जोड़ छी सनसम, क्षेत्री वीर, एम्नव किशोर सिंह आदि मणिपुरी के प्रसिध्द लेखक हैं।
इन सभी भाषाओं ने, इन भाषाओं के साहित्य ने पूर्वांचल को गरिमामय स्वरुप दिया हैं। पूर्वांचल के संस्कृति की झलक देखने के लिए इन भाषाओं के साहित्य को देखना आवश्यक हो जाता हैं..!!
प्रशांत पोल 
मोबा. : ०९४२५१ ५५५५१ 

आपकी प्रतिक्रिया...

Close Menu